शहर ( एक अनूठी कविता ) – Any Poem in Hindi Language

Any Poem in Hindi – Any Poem in Hindi – Any Poem in Hindi

 

  • शहर

 

  • शोर इतनी है यहाँ कि खुद की आवाज दब जाती है
    धुंध इतना है कि कुछ भी नज़र नहीं आता।
    चकाचौंध में दफन है तारे और चंद्रमा भी
    पहले पता होता कि शहर ऐसा होता है……….
    तो मैं भूलकर भी कभी शहर नहीं आता।।
    खलल इतना है यहाँ दिखावे और बनावटों का
    रोना भी चाहूँ तो आंखो से आंसू नहीं आता।
    कोई मां तो कोई मासुक की यादों में डूब जाता है।
    आकर सोचता है काश! वो शहर नहीं आता।।
    इतनी भीड़ है कि खुद को भी पहचानना मुश्किल है
    सोचता हूँ कि आईना बनाया क्यूं है जाता।
    बदनसीब ही था वो कि गांवो में भूख न मिट सकी।
    पेट की जद में न होता तो शहर नहीं आता।।
    वक्त इतना भी नहीं कि कभी खुल कर हंस लूं
    ठोकरें लगती है तो खुद को संभाला नहीं जाता।
    तन्हाई और दर्द की दास्तां से भरी पड़ी है शहर
    पहले जान जाता ये सब तो मैं शहर कभी नहीं आता।।
    रक्त और स्वेद में यहाँ फर्क नहीं है कोई
    शहर में रहकर भी शहर कोई जान नहीं पाता।
    ऐसा लगता है सब जानकर अनजान बनते हैं
    ऐसे नासमझ शहर में मैं कभी नहीं आता।।
    – A Poem by:- प्रभात कुमार (बिट्टू)
  • shor itanee hai yahaan ki khud kee aavaaj dab jaatee hai
    dhundh itana hai ki kuchh bhee nazar nahin aata.
    chakaachaundh mein daphan hai taare aur chandrama bhee
    pahale pata hota ki shahar aisa hota hai……….
    to main bhoolakar bhee kabhee shahar nahin aata..
    khalal itana hai yahaan dikhaave aur banaavaton ka
    rona bhee chaahoon to aankho se aansoo nahin aata.
    koee maan to koee maasuk kee yaadon mein doob jaata hai.
    aakar sochata hai kaash! vo shahar nahin aata..
    itanee bheed hai ki khud ko bhee pahachaanana mushkil hai
    sochata hoon ki aaeena banaaya kyoon hai jaata.
    badanaseeb hee tha vo ki gaanvo mein bhookh na mit sakee.
    pet kee jad mein na hota to shahar nahin aata..
    vakt itana bhee nahin ki kabhee khul kar hans loon
    thokaren lagatee hai to khud ko sambhaala nahin jaata.
    tanhaee aur dard kee daastaan se bharee padee hai shahar
    pahale jaan jaata ye sab to main shahar kabhee nahin aata..
    rakt aur sved mein yahaan phark nahin hai koee
    shahar mein rahakar bhee shahar koee jaan nahin paata.
    aisa lagata hai sab jaanakar anajaan banate hain

 

अगर आप कविता, शायरी, Article इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए.

SHARE

1 COMMENT

  1. Shri Aditya Hridaya Stotra in Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here