खूबसूरत कविताएँ ( जिंदगी के रंग ) – Beautiful Poems in Hindi

Beautiful Poems in Hindi – Beautiful Poems in Hindi – Beautiful Poems in Hindi – Beautiful Poems in Hindi

 

  • जिंदगी के रंग

 

  • निशा सी काली स्याह है, इंद्रधनुषी रौनक है
    सादगी एकाकीपन की, रंगहीन बेबाक है
    कशिश है टूटे दिल की औ प्रीत की उमंग है
    ऐ जिंदगी तेरा क्या कहना, लाखों तेरे रंग हैं
    मयूर सरीखा नाचती है, पाषाण सी तू चुप है
    मां जैसी शीतल है तू, पिता के जैसी धूप है
    खुशियों सी आकर्षक और दर्द सी बदरंग है
    उचित अनुचित से परे आनन्द तेरा रंग है
    आंसू है, मुस्कान है, उम्मीद है, भगवान है
    मेरी राह में था जो मिला शायद वही इंसान है
    केसरिया है, सफेद है और हरा भी तेरा अंग है
    तू धर्म है, इमान है, हर शख्स का तू रंग है
    मुफलिसी में भी कदाचित् मसखरों का हास्य है
    अक्लमंद के महफिलो में बेरूखी परिहास है
    पवित्र सी किसी उपवन में ईश्वरीय सारंग है
    कहीं श्वेत तेरा रंग है, कहीं श्याम तेरा रंग है
    संस्कृति की अंतरात्मा, सभ्यता का इतिहास है
    विनाश की परिभाषा और सृजन का एहसास है
    जंग की सारी विधा क्या? आप ही तू जंग है
    वैभवशाली, विध्वंसकारी सब तेरा ही रंग है
    एक अदद सी है मगर सारी धरा तुझमे समाई
    ऐ जिंदगी हर कालखंड मे रंग बदलकर तु है आई
    हो हवा का रूख जिधर भी तेरा अपना ही तरंग है
    तू मलंग है, तू मलंग है, मलंग तेरा रंग है
    By :- प्रभात कुमार (बिट्टू)
    बख्तियारपुर, पटना
  • jindagee ke rangnisha see kaalee syaah hai, indradhanushee raunak hai
    saadagee ekaakeepan kee, rangaheen bebaak hai
    kashish hai toote dil kee au preet kee umang hai
    ai jindagee tera kya kahana, laakhon tere rang hain
    mayoor sareekha naachatee hai, paashaan see too chup hai
    maan jaisee sheetal hai too, pita ke jaisee dhoop hai
    khushiyon see aakarshak aur dard see badarang hai
    uchit anuchit se pare aanand tera rang hai
    aansoo hai, muskaan hai, ummeed hai, bhagavaan hai
    meree raah mein tha jo mila shaayad vahee insaan hai
    kesariya hai, saphed hai aur hara bhee tera ang hai
    too dharm hai, imaan hai, har shakhs ka too rang hai
    muphalisee mein bhee kadaachit masakharon ka haasy hai
    aklamand ke mahaphilo mein berookhee parihaas hai
    pavitr see kisee upavan mein eeshvareey saarang hai
    kaheen shvet tera rang hai, kaheen shyaam tera rang hai
    sanskrti kee antaraatma, sabhyata ka itihaas hai
    vinaash kee paribhaasha aur srjan ka ehasaas hai
    jang kee saaree vidha kya? aap hee too jang hai
    vaibhavashaalee, vidhvansakaaree sab tera hee rang hai
    ek adad see hai magar saaree dhara tujhame samaee
    ai jindagee har kaalakhand me rang badalakar tu hai aaee
    ho hava ka rookh jidhar bhee tera apana hee tarang hai
    too malang hai, too malang hai, malang tera rang hai

 

अगर आप कविता, शायरी, Article इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here