परियों के देश में – Child Poem in Hindi Free Download

Child Poem in Hindi Free Download – Child Poem in Hindi Free Download – Child Poem in Hindi Free Download Child Poem in Hindi Free Download

 

  • परियों के देश में

 

  • उड़ के चलूं आज मैं, एक ऐसे देश में,
    मिलेंगी जहां खुशियां, परियों के भेष में
    हर दर्द भूल जाउंगी, यूं ही खेल-खेल में
    मिलेंगी जहां खुशियां, परियों के भेष में
    देखा है एक सपना, सच करने जाउंगी
    ख्वाबों की नगरी में, नए घर बसाउंगी
    सच होंगें सारे सपने, बस सोच-सोच में
    मिलेंगी जहां खुशियां, परियों के भेष में
    मैं आसमां को खिड़कियों से, घर में लाउंगी
    चंदा मामा को मैं, आइना बनाउंगी
    सुरज-चांद-सितारे, खेले मेरे साथ-साथ में
    मिलेंगी जहां खुशियां, परियों के भेष में
    कागज पे लिपटी हुई, मेरी रात कह रही
    सपनों के अध्याय, हर रोज खोल रही
    कलम के दवात से, बुनूं ख्वाब-ख्वाब मैं
    मिलेंगी जहां खुशियां, परियों के भेष में
    प्यार की कश्ती में, सब झुमे नाचेंगें
    खुशियों की लहरों में, हर गम भूल जाएंगें
    खिलेंगें फूल प्यार के, हर डाल-डाल में
    मिलेंगी जहां खुशियां, परियों के भेष में
    सफलता की चादरों में, मैं लिपट जाउंगी
    चूनर प्रसिद्धियों की, हर वक्त लहराउंगी
    पहचानेंगें लोग मुझे, मेरे नाम-काम से
    मिलेंगी जहां खुशियां, परियों के भेष में
    – काजल कुमारी झा.
  • ud ke chaloon aaj main, ek aise desh mein,
    milengee jahaan khushiyaan, pariyon ke bhesh mein
    har dard bhool jaungee, yoon hee khel-khel mein
    milengee jahaan khushiyaan, pariyon ke bhesh mein
    dekha hai ek sapana, sach karane jaungee
    khvaabon kee nagaree mein, nae ghar basaungee
    sach hongen saare sapane, bas soch-soch mein
    milengee jahaan khushiyaan, pariyon ke bhesh mein
    main aasamaan ko khidakiyon se, ghar mein laungee
    chanda maama ko main, aaina banaungee
    suraj-chaand-sitaare, khele mere saath-saath mein
    milengee jahaan khushiyaan, pariyon ke bhesh mein
    kaagaj pe lipatee huee, meree raat kah rahee
    sapanon ke adhyaay, har roj khol rahee
    kalam ke davaat se, bunoon khvaab-khvaab main
    milengee jahaan khushiyaan, pariyon ke bhesh mein
    pyaar kee kashtee mein, sab jhume naachengen
    khushiyon kee laharon mein, har gam bhool jaengen
    khilengen phool pyaar ke, har daal-daal mein
    milengee jahaan khushiyaan, pariyon ke bhesh mein
    saphalata kee chaadaron mein, main lipat jaungee
    choonar prasiddhiyon kee, har vakt laharaungee
    pahachaanengen log mujhe, mere naam-kaam se

 

अगर आप कविता, शायरी, Article इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए. अपनी रचनाएँ हिन्दी में टाइप करके भेजिए.

SHARE

1 COMMENT

  1. Child Poem in Hindi Free Download

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here