देशभक्ति कविता हिन्दी में – Short Desh Bhakti Poem in Hindi Desh Bhakti Kavita

Desh Bhakti Poem in Hindi for kids – poem on desh bhakti in hindi – poem in hindi on desh bhakti – desh bhakti poem in hindi for kids – short desh bhakti poem in hindi – short poem on desh bhakti in hindi
poem of desh bhakti in hindi – desh bhakti in hindi poem – desh bhakti poem in hindi for class 7 – poem on desh bhakti in hindi for class 6 – desh bhakti poem in hindi for class 5 – desh bhakti poem in hindi for class 10 – desh bhakti poem in hindi for class 6 – desh bhakti poem in hindi for class 2 – poem on desh bhakti in hindi for class 8 – poem on desh bhakti in hindi for class 7 – desh bhakti kavita in hindi – hindi kavita on desh bhakti – desh bhakti kavita in hindi for kids – hindi desh bhakti kavita – desh bhakti ki kavita in hindi – desh bhakti par kavita – desh bhakti ki kavita – short desh bhakti kavita in hindi – hindi kavita desh bhakti – Poem on desh bhakti in hindi – Poem in hindi on desh bhakti – Desh bhakti poem in hindi for kids – Short desh bhakti poem in hindi – Short poem on desh bhakti in hindi – Poem of desh bhakti in hindi – Desh bhakti in hindi poem – Desh bhakti poem in hindi for class 7 – Poem on desh bhakti in hindi for class 6 – Desh bhakti poem in hindi for class 5 – Desh bhakti poem in hindi for class 10 – Desh bhakti poem in hindi for class 6 – Desh bhakti poem in hindi for class 2 – Poem on desh bhakti in hindi for class 8 – Poem on desh bhakti in hindi for class 7 – Desh bhakti kavita in hindi – Hindi kavita on desh bhakti – Desh bhakti ki kavita hai – Desh bhakti par kavita – Desh bhakti ki kavita – Short country in hindi – Hindi kavita desh bhakti – kavita desh bhakti – desh bhakti veer ras kavita – desh bhakti kavita in hindi for class 7 – desh bhakti kavita in hindi for class 5 – desh bhakti kavita in hindi for class 10 – desh bhakti kavita in hindi for class 6 – desh bhakti kavita in hindi lyrics – desh bhakti kavita in hindi for class 4
देशभक्ति कविता हिन्दी में - Short Desh Bhakti Poem in Hindi Desh Bhakti Kavita

 

  • तब विद्रोह जरुरी है

 

  • जब सूरज संग हो जाए अंधियार के, तब दीये का टिमटिमाना जरूरी है…
    जब प्यार की बोली लगने लगे बाजार में, तब प्रेमी का प्रेम को बचाना जरूरी है……
    जब देश को खतरा हो गद्दारों से, तो गद्दारों को धरती से मिटाना जरूरी है….
    जब गुमराह हो रहा हो युवा देश का, तो उसे सही राह दिखाना जरूरी है………..
    जब हर ओर फैल गई हो निराशा देश में, तो क्रांति का बिगुल बजाना जरूरी है…..
    जब नारी खुद को असहाय पाए, तो उसे लक्ष्मीबाई बनाना जरूरी है…………
    जब नेताओं के हाथ में सुरक्षित न रहे देश, तो फिर सुभाष का आना जरूरी है……
    जब सीधे तरीकों से देश न बदले, तब विद्रोह जरूरी है……………..
    – अभिषेक मिश्र
  • मैं भारत माता हूँ
    इतने व्यस्त हो गए तुम, कि तुम्हारा देशप्रेम साल में 2 बार जगता है
    उन सैनिकों के बारे में सोचो, जिनके जीवन का पल-पल देश के लिए लगता है
    कोई देश के लिए शान से मरता है………….
    और एक तुम हो, जिसे देश के लिए जीना भी मुश्किल लगता है ?
    On field Players और On Screen Heroes आदर्श बन गए हैं तुम्हारे
    उन लोगों को तुम याद तक नहीं करते, जो Real Life में Heroes हैं
    जरा सोचो इन खोखले Role Models ने तुम्हें क्या दिया है अबतक ?
    तुम अपने आदर्श बदल लो, इससे पहले कि औंधे मुँह गिरो तुमपार्टी विरोधियों के विरुद्ध डटकर खड़े हो जाते हो तुम

    राष्ट्र विरोधियों के विरुद्ध क्यों नहीं आवाज उठाते हो तुम ?
    राजनीति, सत्ता सुख पाने का जरिया है जिनके लिए उन्हें क्यों पूजते हो तुम ?
    इससे पहले कि देर हो जाए, राष्ट्रनीति को राजनीति का विकल्प बना लो तुम
    न एक शिक्षा नीति, न समान नागरिकता नीति
    ये तो है अंग्रेजों की बांटों और राज करो नीति
    क्यों किसी और से बदलाव किसी उम्मीद करते हो तुम……
    जब खुद देश के लिए……. कुछ नहीं करते हो तुम ? ? ?
    मैं भारत माता हूँ तुम्हारी…. मैं आज भी रो रही हूँ
    क्योंकि तुम आज भी मोह की नींद में सो रहे हो
    हो सके तो, अब भी जाग जाओ तुम……..
    इससे पहले कि सब कुछ खत्म हो जाए, खुद को पहचान जाओ तुम.
    – अभिषेक मिश्र ( Abhi )

 

SHARE

7 COMMENTS

  1. very nice thanku for your country serv

  2. Name: monika parmar

    good platform for hindi poem

  3. jai bharat

    jai hindustan

  4. ‘Thanks for this nice poem s

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here