Breaking News

Short Desh Bhakti Poem in Hindi देशभक्ति कविता हिन्दी में Desh Bhakti Kavita

short Desh Bhakti Poem in Hindi for kids – poem on desh bhakti in hindi – poem in hindi on desh bhakti – desh bhakti poem in hindi for kids – short desh bhakti poem in hindi – short poem on desh bhakti in hindi
poem of desh bhakti in hindi – short desh bhakti in hindi poem – short desh bhakti poem in hindi for class 7 – poem on desh bhakti in hindi for class 6 – desh bhakti poem in hindi for class 5 – desh bhakti poem in hindi for class 10 – desh bhakti poem in hindi for class 6 – desh bhakti poem in hindi for class 2 – poem on desh bhakti in hindi for class 8 – poem on desh bhakti in hindi for class 7 – desh bhakti kavita in hindi – hindi kavita on desh bhakti – desh bhakti kavita in hindi for kids – hindi desh bhakti kavita – desh bhakti ki kavita in hindi – desh bhakti par kavita – desh bhakti ki kavita – short desh bhakti kavita in hindi – hindi kavita desh bhakti – Poem on desh bhakti in hindi – Poem in hindi on desh bhakti – Desh bhakti poem in hindi for kids – Short desh bhakti poem in hindi – Short poem on desh bhakti in hindi – Poem of desh bhakti in hindi – Desh bhakti in hindi poem – Desh bhakti poem in hindi for class 7 – Poem on desh bhakti in hindi for class 6 – Desh bhakti poem in hindi for class 5 – Desh bhakti poem in hindi for class 10 – Desh bhakti poem in hindi for class 6 – Desh bhakti poem in hindi for class 2 – Poem on desh bhakti in hindi for class 8 – Poem on desh bhakti in hindi for class 7 – Desh bhakti kavita in hindi – Hindi kavita on desh bhakti – Desh bhakti ki kavita hai – Desh bhakti par kavita – Desh bhakti ki kavita – Short country in hindi – Hindi kavita desh bhakti – kavita desh bhakti – desh bhakti veer ras kavita – desh bhakti kavita in hindi for class 7 – desh bhakti kavita in hindi for class 5 – desh bhakti kavita in hindi for class 10 – desh bhakti kavita in hindi for class 6 – desh bhakti kavita in hindi lyrics – desh bhakti kavita in hindi for class 4

 

  • तब विद्रोह जरुरी है Desh Bhakti Poem in Hindi

 

  • जब सूरज संग हो जाए अंधियार के, तब दीये का टिमटिमाना जरूरी है…
    जब प्यार की बोली लगने लगे बाजार में, तब प्रेमी का प्रेम को बचाना जरूरी है……
    जब देश को खतरा हो गद्दारों से, तो गद्दारों को धरती से मिटाना जरूरी है….
    जब गुमराह हो रहा हो युवा देश का, तो उसे सही राह दिखाना जरूरी है………..
    जब हर ओर फैल गई हो निराशा देश में, तो क्रांति का बिगुल बजाना जरूरी है…..
    जब नारी खुद को असहाय पाए, तो उसे लक्ष्मीबाई बनाना जरूरी है…………
    जब नेताओं के हाथ में सुरक्षित न रहे देश, तो फिर सुभाष का आना जरूरी है……
    जब सीधे तरीकों से देश न बदले, तब विद्रोह जरूरी है……………..
    – अभिषेक मिश्र
  • मैं भारत माता हूँ

    इतने व्यस्त हो गए तुम, कि तुम्हारा देशप्रेम साल में 2 बार जगता है
    उन सैनिकों के बारे में सोचो, जिनके जीवन का पल-पल देश के लिए लगता है
    कोई देश के लिए शान से मरता है………….
    और एक तुम हो, जिसे देश के लिए जीना भी मुश्किल लगता है ?
    On field Players और On Screen Heroes आदर्श बन गए हैं तुम्हारे
    उन लोगों को तुम याद तक नहीं करते, जो Real Life में Heroes हैं
    जरा सोचो इन खोखले Role Models ने तुम्हें क्या दिया है अबतक ?
    तुम अपने आदर्श बदल लो, इससे पहले कि औंधे मुँह गिरो तुमपार्टी विरोधियों के विरुद्ध डटकर खड़े हो जाते हो तुम

    राष्ट्र विरोधियों के विरुद्ध क्यों नहीं आवाज उठाते हो तुम ?
    राजनीति, सत्ता सुख पाने का जरिया है जिनके लिए उन्हें क्यों पूजते हो तुम ?
    इससे पहले कि देर हो जाए, राष्ट्रनीति को राजनीति का विकल्प बना लो तुम
    न एक शिक्षा नीति, न समान नागरिकता नीति
    ये तो है अंग्रेजों की बांटों और राज करो नीति
    क्यों किसी और से बदलाव किसी उम्मीद करते हो तुम……
    जब खुद देश के लिए……. कुछ नहीं करते हो तुम ? ? ?
    मैं भारत माता हूँ तुम्हारी…. मैं आज भी रो रही हूँ
    क्योंकि तुम आज भी मोह की नींद में सो रहे हो
    हो सके तो, अब भी जाग जाओ तुम……..
    इससे पहले कि सब कुछ खत्म हो जाए, खुद को पहचान जाओ तुम.
    – अभिषेक मिश्र ( Abhi )

 

  • **बहुत बदल गया अपना देश **

    तबसे अब में खूब,मचा विकास का जनादेश !
    एसी तैसी हुआ ,बहुत बदल गया अपना देश !!
    बहुत बदल गया अपना देश !
    अंग्रेजी का भाव बढ़ गया ,देश हुआ परदेश !
    पगड़ी गमछा लाज लगे,भाए बिलायती भेष!!
    बहुत बदल गया अपना देश !
    दाल भात पचता नहीं,रोग बर्गर पिज्जा की तैस !
    शौखिनी में बड़ी गरीबी,भुगते लाग बाज की रेस !!
    बहुत बदल गया अपना देश !
    माँ बहन अफसोस हो गयी,बिटिया हुई कलेस!
    कलंकओढ़ बहू जल गयी,कलमुही है सन्देश!!
    बहुत बदल गया अपना देश !
    गवांर मरे मजदूरी बिन  ,पढे़-लिखे सब शेष !
    करता धरता आलस बांचे,बचा न कुछ उद्देश !!
    बहुत बदल गया अपना देश !
    साधू सन्त व्यापार करे ,चोर उचक्का आदेश !
    हुआ निकम्मा अभिेनेता ,जग बांटे सब उपदेश!!
    बहुत बदल गया अपना देश !
    शाकाहारी खेत खरीहान ,उजाड़ बसे सब ऐस!
    मांसाहारी भूख जीभ का, शमशान बना ए द्वेष!!
    बहुत बदल गया अपना देश !
    चारा सारा राजनीति खा गया,गाये खाए आवेश !
    किसान मरे बिन पानी के,न लगा किसीको ठेस !!
    बहुत बदल गया अपना देश !
    पत्थर खुद पर दे मारे ,कुछ उन्मादी तर्क अन्वेष !
    आम बात हुई सहादत ,क्या सरकारी अध्यादेश!!
    बहुत बदल गया अपना देश !
    बहुत बदल गया अपना देश !
    – अरविंद कुमार तिवारी
    बामपुर,इलाहाबाद

  • देशभक्ति शायरी हिन्दी Desh Bhakti Shayari in Hindi font shero shayari desh
  • स्वतन्त्रता दिवस कविता Independence Day Poems in Hindi Indian Swatantrata
  • देशभक्ति के गीत हिंदी में Desh Bhakti Geet in Hindi Written for Kids Lyrics New
  • Veer Ras Ki Kavita in Hindi – वीर रस की कविता Desh Bhakti poetry collection

 

अगर आप कविता, शायरी, Article इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए.

Previous Desh Bhakti Shayari in Hindi font देशभक्ति शायरी हिन्दी shero shayari desh
Next स्वतन्त्रता दिवस कविता Independence day Poems in Hindi Indian swatantrata

Check Also

Rani Padmavati Poem in Hindi – रानी पद्मावती का जौहर कविता Padmini kavita

Rani Padmavati poem in hindi – Rani Padmavati Poem in Hindi – रानी पद्मावती का जौहर …

11 comments

  1. gourav pareek

    jai hind
    jai bharat

  2. Arvind Kumar

    I want to give my poem on deshbhakti too….. How can I give???? By the way very nice poems…. 😃😃

  3. amarjeet sinha

    ser ke sikanje se uski jagir chhin le sikari ke hath se uska samsir chhin le Aaor Ak bhi hindustani ke rango me khoon hai jabtak kiski majal hai jo hamse hamara kasmir chhin le

  4. dhani

    wow

  5. Kimi Tejay

    Jai Bharat
    Jai Hindustan

  6. shivam verma

    very nice thanku for your country serv

  7. Name: monika parmar

    good platform for hindi poem

  8. akash rathee

    jai bharat

    jai hindustan

  9. sunita

    very nice g

  10. ahmie

    ‘Thanks for this nice poem s

  11. Anonymous

    Such an awesome poem

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: