Heavy Bleeding During Periods in hindi पीरियड की ब्लीडिंग कम करने के उपाय

Heavy Bleeding During Periods in Hindi – pregnancy me bleeding in hindi – bleeding during pregnancy in hindi – pregnancy time bleeding in hindi – Heavy Bleeding During Periods in Hindi – pregnancy bleeding in hindi – heavy bleeding during periods in hindi – during pregnancy bleeding in hindi – pregnancy main bleeding in hindi – pregnancy in bleeding in hindi – reason of bleeding during pregnancy in hindi – periods bleeding in hindi – pregnancy me bleeding hona in hindi – pregnancy m bleeding in hindi – after pregnancy bleeding in hindi – nose bleeding treatment in hindi – nose bleeding in hindi – implantation bleeding in hindi – nose bleeding during pregnancy in hindi – bleeding in pregnancy in hindi – home remedies for nose bleeding in hindi – in pregnancy time bleeding in hindi – why bleeding in pregnancy in hindi – bleeding in early pregnancy in hindi – nose bleeding reasons in hindi – implantation bleeding meaning in hindi – how to stop nose bleeding in hindi – meaning of implantation bleeding in hindi

 

  • पीरियड्स के दौरान कुछ महिलाओं को बहुत ज्यादा ब्लीडिंग होती है. अगर मासिक के दौरान ऐसा कभी-कभी होता हो, तो यह सामान्य बात है. लेकिन अगर आपको हमेशा बहुत ज्यादा ब्लीडिंग होती हो, तो आपके लिए यह चिंता की बात है. इस लेख में हम Periods में ज्यादा Bleeding होने के कारण जानेंगे और इसे कम करने के घरेलू उपाय जानेंगे.

 

  • Periods में Heavy Bleeding के कारण :

  • गर्भनिरोधक गोलियां खाने के कारण भी भारी ब्लीडिंग होती है.
  • अगर आप खून पतला करने वाली दवाएँ लेती हैं, तो इसके कारण भी आपको Heavy Bleeding हो सकती है.
  • एंड्रोमेट्रियल कैंसर होने पर भी पीरियड्स में हैवी ब्लीडिंग होती है. एंड्रोमेट्रियल कैंसर मुख्यतः 50 वर्ष से ज्यादा की महिलाओं को होता है.
  • सरवाइकल कैंसर होने पर भी पीरियड्स में हैवी ब्लीडिंग होती है.
  • रजोनिवृत्ति से एक वर्ष पहले से भी हैवी ब्लीडिंग हो सकती है.
  • कई बार हार्मोन्स में ज्यादा बदलाव के कारण भी हैवी ब्लीडिंग की समस्या होती है.
  • गर्भाशय में फाइबर ट्यूमर होने से भी पीरियड्स के दौरान ज्यादा रक्त श्राव हो सकता है.
  • सरवाइकल पॉलीप्‍स गर्भाशय के मुँह पर हो जाते हैं, इनके बनने से पीरियड्स के दौरान ब्‍लीडिंग ज्‍यादा होती है.

    आइए अब हम जानते हैं कि कौन-कौन से घरेलू उपाय से आप हैवी ब्लीडिंग को कण्ट्रोल कर सकती हैं :

  • गर्मियों के मौसम में तरबूज खाना ब्लीडिंग को कम करने में मदद करता है.
  • एक कप पानी में थोड़ी सी दालचीनी डालकर उबाल लें, फिर इसे छानकर पी लें इससे भी आपको राहत मिलेगी.
  • अदरक को पानी में उबालकर काढ़ा बनाइए और इसमें थोड़ा सा शहद मिला लीजिये. खाने के बाद इसे दिन में 3 बार पिएँ.
  • दिन में एक बार एलोवेरा का जूस पिएँ.
  • करेले की सब्जी खाना शुरू कर दीजिए, इससे भी आपको फायदा होगा.
  • एक ग्लास पानी में थोड़ा सा दालचीनी का टुकड़ा डालकर गर्म कर लें, फिर इसे पी लें.
  • आप कच्चे पपीते के दो पीस खाइए, इससे भी ब्लीडिंग कम होगी.
  • आधा गिलास गर्म पानी में मुठ्ठी भर सौंफ भींगा लीजिए. फिर इस पानी को सौंफ सहित खाली पेट पी लीजिए.
  • खाने में हरी सब्जियों को शामिल करें. अपने खाने में मूली को भी शामिल करें.
  • मासिक धर्म के दौरान संतरे का जूस पिएँ.

  • आँवले का जूस, भारी ब्‍लीडिंग को रोकता है. आँवले के जूस को दिन में दो बार पिएँ आँवले का जूस पीने के बाद थोड़ा सा नमक चख लें, इससे आपका गला खराब नहीं होगा.
  • आप पीरियड के दौरान थोड़ी इमली खा सकती हैं.
  • अगर इन घरेलू उपचारों से भी आपकी ब्लीडिंग कम न हो और रक्त श्राव 6-7 दिन से ज्यादा हो तो आपको स्त्री रोग विशेषज्ञ के पास जाना चाहिए.

 

अगर आप कविता, शायरी, Article इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए.

4 COMMENTS

  1. thanks for sharing this information

  2. #Suvichar aapka blog pr article likhne ka tarika kafi acha hai. Keep doing the great work.
    #GoodLuck

  3. Thanks to sharing fact about period

  4. Thanks for sharing this information ,thanks a lot.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here