हेमंत ऋतु पर हिन्दी कविता – Hemant Ritu Poem in Hindi

Hemant Ritu Poem in Hindi – Hemant Ritu Poem in Hindi – Hemant Ritu Poem in Hindi – हेमंत ऋतु पर हिन्दी कविता – Hemant Ritu Poem in Hindi
हेमंत ऋतु पर हिन्दी कविता - Hemant Ritu Poem in Hindi

 

  • हेमन्त ॠतु

 

  • हेमन्त ॠतु है आई
    हर ओर देखो फैल रही ठण्ढ़ की गहराई!!
    ठिठुरते सिकुड़ते अब दिख रहे हैं सब
    ठण्ढ़ से बचते फिर रहें हैं सब!!
    आ गई है ॠुत हेमन्त की
    बिछ गई है बूंदें ओस की
    कोहरे से पटी है सुबह-शाम
    धुंधली छटा बिखेरे
    जैसे छुपाती हो रौशनी का पैगाम!!
    हेमन्त ॠतु है आई
    धुप में भी देखो ठण्ढ़ लेती है अंगड़ाई
    चैन तो केवल कम्बल और रजाई में पाई
    आलस्य हर घड़ी दिखा रही चतुराई..
    ना नहाने के अब बन जाते हैं कई बहाने
    पानी छूने से लगे हैं सब कतराने!!
    हेमन्त की ॠतु है आई
    ताजे फल और सब्जियाँ सबके मन को भाइ
    अब लगा के चटखारे
    कई तरह के पकवानों का
    मजा लूट रहें हैं लोग सारे
    हरे-भरे दिख रहें नजारे
    ओस की चादर ओढ़े 
    क्या खूब जंचते हैं
    खेत-खलिहान पेड़-पौधे न्यारे!!
    हेमन्त ॠतु है आई
    हर देखो फैल रही ठण्ढ़ की गहराई!!!!!!
    – ज्योति सिंहदेव
    hemant rtu hai aaee
    har or dekho phail rahee thandh kee gaharaee !!
    thithurate sikudate ab dikh rahe hain sab
    thandh se bachate phir rahen hain sab !!
    aa gaee hai rut hemant kee
    bichh gaee hai boonden os kee
    kohare se patee hai subah shaam
    dhundhalee chhata bikhere
    jaise chhupaatee ho raushanee ka paigaam !!
    hemant rtu hai aaee
    dhup mein bhee dekho thandh letee hai angadaee
    chain to keval kambal aur rajaee mein paee
    aalasy har ghadee dikha rahee chaturaee ..
    na nahaane ke ab ban jaate hain kaee bahaane
    paanee chhoone se lage hain sab kataraane !!
    hemant kee rtu hai aaee
    taaje phal aur sabjiyaan sabake man ko bhai
    ab laga ke chatakhaare
    kaee tarah ke pakavaanon ka
    maja loot rahen hain log saare
    hare bhare dikh rahen najaare
    os kee chaadar odhe
    kya khoob janchate hain
    khet khalihaan ped paudhe nyaare !!
    hemant rtu hai aaee

 

अगर आप कविता, शायरी, Article इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए. अपनी रचनाएँ हिन्दी में टाइप करके भेजिए.

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here