Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages
Home / Essay Nibandh anuched in Hindi / Hindi Bhasha ka Mahatva par Nibandh Anuched हिंदी भाषा का महत्व पर निबंध

Hindi Bhasha ka Mahatva par Nibandh Anuched हिंदी भाषा का महत्व पर निबंध

hindi bhasha ka mahatva par nibandh anuched – Hindi Bhasha ka Mahatva par Nibandh Anuched हिंदी भाषा का महत्व पर निबंध – hindi bhasha ka mahatva essay in hindi language – hindi bhasha ka mahatva speech in hindi – hindi bhasha ka mahatva par nibandh – hindi bhasha ka mahatva essay in hindi – essay on hindi bhasha ka mahatva in hindi – hindi bhasha ka mahatva in hindi – हिंदी भाषा पर निबंध – हिंदी भाषा के महत्व पर निबंध – हिंदी भाषा का महत्व – हिंदी भाषा का विकास – हिंदी भाषा का महत्व पर निबंध – राष्ट्र भाषा हिंदी का महत्व
Hindi Bhasha ka Mahatva par Nibandh Anuched हिंदी भाषा का महत्व पर निबंध

 

  • भाषा संवाद का एक महत्वपूर्ण माध्यम होता है और किसी भी राष्ट्र की पहचान उसकी भाषा से होती है।
    हिन्दी भाषा विश्व की दुसरी सबसे बड़ी भाषा है तथा अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत की पहचान है।

 

  • हालांकि हिन्दी को राष्ट्रभाषा का सम्मान आजादी के इतने वर्षों बाद तक नहीं मिल पाया है लेकिन फिर भी यह भारतीयों की भाषा है। हिन्दी संविधान अनुसार राष्ट्र की प्रथम भाषा है अर्थात राजभाषा है। और बोलचाल में
    भारत की सबसे अधिक समझे जाने और बोली जाने वाली भाषा है।
    हिन्दी में कई भाषाओं का मिश्रण है इस प्रकार यह सौहार्द की भाषा है। मुख्यतः संस्कृत, फारसी, अरबी भाषाओं से मिलकर यह बनी है। प्राकृतिक रूप से उदार तथा ग्रहणशील है ये किसी भी भाषा से जुड़े पर हमेशा बोलने में सबसे सहज लगे। हिन्दी भाषा राष्ट्र की चेतना तथा संवेदना है।
  • आज हिन्दी राजभाषा, जनभाषा, संपर्कभाषा से होकर विश्वभाषा बनने ओर अग्रसर है।

    भारत की स्वतंत्रता के पश्चात् 14 सितम्बर 1949 को संविधान सभा ने एकमत से यह निर्णय लिया कि
    हिन्दी की खड़ी बोली ही भारत की राजभाषा होगी। इस निर्णय के पश्चात् हिन्दी को आम जनता के बीच
    तथा हर क्षेत्र में प्रचारित प्रसारित करने का दायित्व वर्धा ने सम्भाला। वर्धा के अनुरोध से 1953 से
    सम्पूर्ण देश में 14 सितम्बर हिन्दी दिवस के रूप में मनाया जाता है।
    हिन्दी भारत मात्र नहीं विश्व में विशाल क्षेत्र एवं जनसमूह की भाषा है। 1952 में यह विश्व में पांचवें स्थान पर थी। 1991 में पाया गया कि हिन्दी भाषीयों की संख्या पुरे विश्व में अंग्रेजी भाषीयों से अधिक है। इस तरह आज अपने उत्पादों के प्रचार प्रसार के लिए हिन्दी भाषा का उपयोग बहुराष्ट्रीय कम्पनियों की विवशता है और यही हिन्दी
    की शक्ति है।
    मिडिया तथा मनोरंजन कम्पनियां जब भारत अपने चैनल लेकर आए तो सभी अंग्रेजी भाषा में थे।
    पर हिन्दी दर्शक वर्ग की संख्या अधिक देखकर सभी को हिन्दी चैनल्स की शुरूआत करनी पड़ी।
    आज टी•वी• तथा मनोरंजन की दुनिया में हिन्दी सबसे ज्यादा मुनाफे की भाषा है।
    मनोरंजन की दुनिया में हिन्दी का दबदबा इस बात से पता चलता है कि कई अंतर्राष्ट्रीय बड़ी फिल्में हिन्दी में
    डब की जाती हैं इसके उदाहरण भरे पड़े हैं।

 

  • hindi bhasha ka mahatva par nibandh

    आज वेब, विज्ञापन, संगीत, सिनेमा और बाजार की दुनिया में हिन्दी की मांग तेजी से बढ़ती जा रही है।
    विश्व के लगभग 150 विश्वविद्यालयों तथा सैकड़ों छोटे-बड़े केन्द्रों में अध्ययन-अध्यापन सहित हिन्दी मे शोध की व्यवस्था भी की गई है।
    विदेशों में नियमित रूप से हिन्दी में कई पत्र-पत्रिकाएँ हिन्दी में प्रकाशित होते हैं। तथा कई देशों में हिन्दी कार्यक्रम भी प्रसारित किए जाते हैं। जिनमें बीबीसी, जापान के एनएचके वर्ल्ड और चीन के चाइना रेडियो इंन्टरनेशनल की हिन्दी सेवा प्रमुख है।
    हर क्षेत्र में हिन्दी ने अपने अद्भुत क्षमता का परिचय दिया है। इसमें भारत की संस्कृति, समृद्धि निहित है
    ये सक्षम है हर रूप से अभी के दौर में हिन्दी भाषा का विलय विदेशी भाषाओं में हो रहा है।

 

  • hindi bhasha ka mahatva par nibandh
    भारतीयों ने अपनी योग्यता का जो परिचय अंतर्राष्ट्रीय मंच पर दिया उससे सभी समझ चुके हैं कि भारतीयों
    से जुड़ने के लिए लिए हिन्दी भाषा एक महत्वपूर्ण कड़ी है।
    हिन्दी ने अंग्रेजी भाषा का वर्चस्व भंग कर दिया है। करोड़ों हिन्दी भाषी कम्प्यूटर का इस्तेमाल भी अपनी भाषा में कर रहें हैं। विदेशों में हिन्दी सीखने की ललक बढ़ रही है वो वक्त दुर नहीं जब हिन्दी अपना परचम पुरे विश्व में लहराएगा।
    हिन्दी भाषा ने भारत की एकता अखंडता को बनाए रखने में अपनी अहम ऐतिहासिक भूमिका निभाई है।
    भारत का सम्पूर्ण विकास हिन्दी द्वारा ही संभव है। इसलिए ये जरूरी है कि इसे राजभाषा सहित राष्ट्रभाषा
    का उचित स्थान और सम्मान मिले।   Article by – ज्योति सिंहदेव
  • हिन्दी दिवस पर निबन्ध – Short Essay On Hindi Diwas in Hindio

 

Related Posts

About Abhi SuvicharHindi.Com

Hi, friends, SuvicharHindi.Com की कोशिश है कि हिंदी पाठकों को उनकी पसंद की हर जानकारी SuvicharHindi.Com में मिले. SuvicharHindi.com में आपको Hindi shayari, Hindi Ghazal, Long & Short Hindi Slogans, Hindi Posters, Hindi Quotes with images wallpapers || Hindi Thoughts || Hindi Suvichar, Hindi & English Status, Hindi MSG Messages 140 words text, Hindi wishes, Best Hindi Tips & Tricks, Hindi Dadi maa ke Gharelu Nuskhe, Hindi Biography jeevan parichay jivani, Cute Hindi Poems poetry || Awesome Kavita, Hindi essay nibandh, Hindi Geet Lyrics, Hindi 2 sad / happy / romantic / liners / boyfriend / girlfriend gf / bf for facebook ( fb ) & whatsapp, useful 1 one line rs मिलेंगे. हमारे Website में दी गई चिकित्सा सम्बन्धित जानकारियाँ / Upay / Tarike / Nuskhe केवल जानकारी के लिए है, इनका उपयोग करने से पहले निकट के किसी Doctor से सलाह जरुर लें.

One comment

  1. Pradeep tripathi

    Achha lekh

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!