हिन्दी दिवस पर कविता – Hindi Diwas Poems with images

Hindi Diwas Poems for kids – hindi diwas poem – hindi poems on hindi diwas – hindi poem images – poems on hindi diwas in hindi हिंदी दिवस पर कविता  – हिन्दी दिवस पर कविता Hindi Diwas Poems for kids in any language

 

  • ऐसी है मेरी हिन्दी

 

  • जन-जन की भाषा है हिंदी
    भारत की आशा है हिंदी…………
    जिसने पूरे देश को जोड़े रखा है
    वो मजबूत धागा है हिंदी ……………………
    हिन्दुस्तान की गौरवगाथा है हिंदी
    एकता की अनुपम परम्परा है हिंदी…………
    जिसके गर्भ से रोज नई कोंपलें फूटती है
    ऐसी कामधेनु धरा है हिंदी ……………………
    जिसने गुलामी में क्रांति की आग जलाई
    ऐसे वीरों की प्रसूता है हिंदी …………
    जिसके बिना हिन्द थम जाए
    ऐसी जीवनरेखा है हिंदी……………………
    जिसने काल को जीत लिया है
    ऐसी कालजयी भाषा है हिंदी …………
    सरल शब्दों में कहा जाए तो
    जीवन की परिभाषा है हिंदी ……………………
    – अभिषेक मिश्र ( Abhi )
  • प्यारी हिंदी
    प्यारी हिंदी खो ना जाए
    न्यारी हिंदी खो ना जाए
    बड़ी निराली सबसे प्यारी
    निर्मल शीतल गंगा सी
    मन मोहिनी हिंदी प्यारी
    शुद्ध स्वच्छ है न्यारी सी
    है हमारी यह निज भाषा
    भारत देश की राष्ट्रभाषा
    सरल मृदुल यह न्यारी  है
    हिंदी सबसे प्यारी है
    हिंदी की रक्षा करने का
    हमको बीड़ा उठाना है
    ताकि हिंदी खो ना जाए
    प्यारी हिंदी खो ना जाए
    हिंदी को आधार मानकर

    बन गए कितने कवि महान
    हिंदी को आधार मानकर
    बन गए कितने नेता महान
    हिंदी जहां में छाई है
    सबने यही   स्वीकारी है
    हिंदी की महिमा का तो
    कवियों ने गुण गायी है
    अपने देश की मातृभाषा को
    हम सबको ही बचाना है
    ताकि हिंदी खो ना जाए
    प्यारी हिंदी खो ना जाए
    अंग्रेजो ने आकर के
    हिंदी को ललकारा है
    हिंदी को भुलाकर के
    अंग्रेजी को पुकारा है
    हमने दिल में ठाना है
    यह कर्तव्य हमारा है
    हिंदी को ऊंचा उठाना है
    हिंदी को आगे बढ़ाना ह
    हिंदुस्तान की हिंदी को
    जग में पहचान दिलाना है
    ताकि हिंदी खो ना जाए
    प्यारी हिंदी खो ना जाए
    – कंचन पाण्डेय 

SHARE

4 COMMENTS

  1. हिंदी हमारी जान है आन बान और शान है
    मातृत्व पर मारने वालों की यही तो पहचान है
    हिंदी से है हिंदुस्तान यही अपना अभिमान है
    सबकी सखी सबसे सरल जैसे सबका सम्मान है
    यही तो है अपनी धरती पर प्रेम का दूज नाम है
    बोली में ये अपनापन देती अखंडता इसका ईमान है
    संविधान में पारित कॉलेज से विधालयों तक पूजित
    जन जन का गौरव लेखको के बीच सर्वशक्तिमान है
    आओ सब बढ़ाए इसका मान तभी होगी ये हर बोली में विद्यमान।
    -प्रियंका राज

  2. too good I like very much

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here