जीवन पर कविता – ज़िन्दगी की धूप-छाँव – Hindi Poems on Life Struggle

Hindi Poems on Life Struggle – ज़िन्दगी की धूप-छाँव – Hindi Poems on Life Struggle – जीवन पर कविता
Hindi Poems on Life Struggle - जीवन पर कविता

 

  • ज़िन्दगी की धूप-छाँव

 

  • कभी गम, तो कभी खुशी है ज़िन्दगी
    कभी धूप, तो कभी छाँव है ज़िन्दगी . . . . . . .
    विधाता ने जो दिया, वो अद्भुत उपहार है ज़िन्दगी
    कुदरत ने जो धरती पर बिखेरा वो प्यार है ज़िन्दगी . . . . . .
    जिससे हर रोज नये-नये  सबक मिलते हैं
    यथार्थों का अनुभव कराने वाली ऐसी कड़ी है ज़िन्दगी . . . . . .
    जिसे कोई न समझ सके ऐसी पहेली है ज़िन्दगी
    कभी तन्हाइयों में हमारी सहेली है ज़िन्दगी . . . . . . .
    अपने-अपने कर्मों के आधार पर मिलती है ये ज़िन्दगी
    कभी सपनों की भीड़, तो कभी अकेली है जिंदगी . . . . . . .
    जो समय के साथ बदलती रहे, वो संस्कृति है जिंदगी
    खट्टी-मीठी यादों की स्मृति है ज़िन्दगी . . . . . . . .
    कोई ना जान कर भी जान लेता है सबकुछ, ऐसी है ज़िन्दगी
    तो किसी के लिए उलझी हुई पहेली है ज़िन्दगी . . . . . . . .
    जो हर पल नदी की तरह बहती रहे ऐसी है जिंदगी
    जो पल-पल चलती रहे, ऐसी है हीं ज़िन्दगी . . . . . . . .
    कोई हर परिस्थिति में रो-रोकर गुजारता है ज़िन्दगी
    तो किसी के लिए गम में  भी मुस्कुराने का हौसला है ज़िन्दगी . . . . . .
    कभी उगता सूरज, तो कभी अधेरी निशा है ज़िन्दगी
    ईश्वर का दिया, माँ से मिला अनमोल उपहार है ज़िन्दगी . . . . . . . .
    तो तुम यूँ हीं न बिताओ अपनी जिंदगी . . . . . . . . 
    दूसरों से हटकर तुम बनाओ अपनी जिंदगी
    दुनिया की शोर में न खो जाए ये तेरी जिंदगी . . . . . . .
    जिंदगी भी तुम्हें देखकर मुस्कुराए, तुम ऐसी बनाओ ये जिंदगी
    – कुसुम पाण्डेय
    kabhee gam, to kabhee khushee hai zindagee
    kabhee dhoop, to kabhee chhaanv hai zindagee . . . . . . .
    vidhaata ne jo diya, vo adbhut upahaar hai zindagee
    kudarat ne jo dharatee par bikhera vo pyaar hai zindagee . . . . . .
    jisase har roj naye-naye sabak milate hain
    yathaarthon ka anubhav karaane vaalee aisee kadee hai zindagee . . . . . .
    jise koee na samajh sake aisee pahelee hai zindagee
    kabhee tanhaiyon mein hamaaree sahelee hai zindagee . . . . . . .
    apane-apane karmon ke aadhaar par milatee hai ye zindagee
    kabhee sapanon kee bheed, to kabhee akelee hai jindagee . . . . . . .
    jo samay ke saath badalatee rahe, vo sanskrti hai jindagee
    khattee-meethee yaadon kee smrti hai zindagee . . . . . . . .
    koee na jaan kar bhee jaan leta hai sabakuchh, aisee hai zindagee
    to kisee ke lie ulajhee huee pahelee hai zindagee

 

अगर आप कविता, शायरी, Article इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए.

SHARE

2 COMMENTS

  1. एसी कविता जो आप का इएना है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here