स्वतन्त्रता दिवस कविता Independence day Poems in Hindi Indian swatantrata

Independence Day Poems in Hindi language | short kavita for kids & children on 15 august & Indian  swatantrata diwas – स्वतंत्रता दिवस पर कविता  Independence Day Poems in Hindi – independence day poem in hindi – independence day poem in hindi language – poem on independence day in hindi for children – poems on independence day in hindi  – poem for independence day in hindi – short poem on independence day in hindi – hindi poems independence day – 15 august poem in hindi – Independence Day Poems in Hindi  poem on independence day in hindi for kids – patriotic poems in hindi for independence day – hindi poem on independence day – independence day hindi poem – poems for independence day in hindi – hindi poems on independence day – independence day poetry in hindi – poem on 15 august in hindi – independence day poems for children in english -स्वतन्त्रता दिवस पर कविता  – स्वतंत्रता दिवस पर कविता – 15 अगस्त पर कविता

 

  • स्वतन्त्रता की कीमत 

 

  • अगर आजादी को बचाना चाहते हो, तो देश के लिए लहू बहाना होगा
    जो देश की खातिर जीते-मरते हैं, उनके आगे अपना शीश झुकाना होगा
    जो चाहते हो, जय हिन्द का नारा बुलंद रहे, तो तुम्हें सुभाष बन जाना होगा…………
    अगर अकबर को उसकी औकात दिखानी है, तो खुद को प्रताप बनाना होगा………………
    मुगलों से लोहा लेना है, तो शिवाजी बनकर आना होगा
    गौरी को मौत की नींद सुलानी है, तो पृथ्वीराज सा बाण चलाना होगा
    अगर अंग्रेजों के छक्के छुड़ाने हो, तो लक्ष्मीबाई बन जाना होगा…………………….
    कभी मंगल, कभी भगत, तो कभी आजाद बनकर धरती में आना होगा…………………..
    जाति धर्म देखे बिना, देशद्रोहियों को अपने हाथों से मिटाना होगा
    नई पीढ़ी को अभिमन्यु सा, गर्भ में देशभक्ति का पाठ पढ़ाना होगा
    तुम्हें व्यक्तिवाद छोड़कर राष्ट्रवाद अपनाना होगा………………………
    हर व्यक्ति में भारतीय होने का स्वाभिमान जगाना होगा………………………..
    लोकतंत्र को स्त्तालोलुपों से मुक्त कराना होगा
    देशभक्ति को भारत का सबसे बड़ा धर्म बनाना होगा
    वीरता की परम्परा को आगे बढ़ाना होगा……………………….
    हर भारतीय को देश के लिए जीना सिखाना होगा………………………………
    – अभिषेक मिश्र ( Abhi )
  • आजादी का दीप

    14 अगस्त की शाम लिखा मैने
    क्या आजादी का दीप जलेगा कभी
    जो जले थे कभी वो भी बुझ गए
    अगर सरकारें करती रहीं मक्कारी
    तो न सुधरेगी जनता की बदहाली
    ऐसे मे आजादी का दीप जलेगा कभी
    कब तक लुटेगी बेटी की आबरु
    क्या न मिलेंगी बेटी को आजादी
    ऐसे मे आजादी का दीप जलेगा कभी
    कब तक रहेगी अब बेरोजगारी
    क्या अब न मिटेगी गरीबी कभी
    ऐसे मे आजादी का दीप जलेगा कभी
    – राम राज कुशवाहा

  • देशभक्ति कविता हिन्दी में Short Desh Bhakti Poem in Hindi Desh Bhakti Kavita
  • देशभक्ति शायरी हिन्दी Desh Bhakti Shayari in Hindi font shero shayari desh
  • Veer Ras Ki Kavita in Hindi – वीर रस की कविता Desh Bhakti poetry collection
  • देशभक्ति के गीत हिंदी में Desh Bhakti Geet in Hindi Written for Kids Lyrics New

 

अगर आप कविता, शायरी, Article इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए.

8 COMMENTS

  1. MUJHE A.P.J.ABDUL KALAM KI KAVITA BAHUT ACHI LAGI.ME APKA BAHUT BAHUT DHANYAVAD KRNA CHATA HU.MERA APSE NIVEDAN HAI KI AAP AGLI KAVITA SHARE KARE THANKU.

    BEAUTIFUL BEAUTIFUL BEAUTIFUL WAH YAAR MAST MAST MAST

  2. MUJHE A.P.J.ABDUL KALAM KI KAVITA BAHUT ACHI LAGI.ME APKA BAHUT BAHUT DHANYAVAD KRNA CHATA HU.MERA APSE NIVEDAN HAI KI AAP AGLI KAVITA SHARE KARE THANKU.

    MUJHE ABDUL KALAM WALI KAVITA BAHUT ACHI LAGI THANKU.MERA APSE NIVEDAN HAI KI AAP AAGE KI KAVITA SHARE KDRE THANKU.

    • Pls sharw Kavita on svatantra diwas by APJ Abdul kalam

  3. What a beautiful poem… speechless

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here