प्रेरणादायक विचार / सीमित सोच वाले लोग – Inspirational Thoughts in Hindi

inspirational thoughts in hindi – प्रेरणादायक विचार / सीमित सोच वाले लोग

 

  • किसी बुरे व्यक्ति से दोस्ती करने का मतलब होता है, खुद अपने लिए मुसीबतें खड़ी करना.

 

  • किसी बुरे आदमी से तर्क करना ठीक ऐसा हीं है, मानो खुद अपना सिर पत्थर पर बार-बार पटकना.
  • निकम्मे व्यक्ति का कभी उत्थान नहीं हो सकता है क्योंकि ऐसे लोग अपनी बदकिस्मती का रोना रोने के अलावा कुछ नहीं करते हैं.
  • जो व्यक्ति खुद अपनी जिंदगी को बेहतर बनाने के लिए कुछ नहीं कर रहा हो, उसकी जिंदगी को कोई और बेहतर नहीं बना सकता है.
    → अपनी जिंदगी को आप हीं बेहतर बना सकते हैं.
  • अपने Love Life और Marriage Life से जुड़े राज कभी किसी और को नहीं बताना चाहिए.
  • कभी भी किसी के पारिवारिक मामले में नहीं पड़ना चाहिए. क्योंकि ऐसा करना मूर्खता है.
  • कभी भी किसी की मदद इस तरह नहीं करनी चाहिए, कि आप उसके आसपास के लोगों की आँखों में चुभने लगें. मदद कीजिए लेकिन छिपकर.
  • पति-पत्नी की लड़ाई में नहीं पड़ना चाहिए क्योंकि बाद में वे एक हो जायेंगे और आप बेवजह बुरे बन जायेंगे.
  • जो लोग अपनी जिंदगी से जुड़े फैसले लेने में अनावश्यक देरी करते हैं, वे अपनी जिंदगी खुद मुश्किल बनाते हैं.
  • हुनर और मेहनत के बिना पैसा कमाना बहुत मुश्किल होता है.
  • आत्मनिर्भरता सबसे बड़ा सुख है जबकि किसी और की दया का मोहताज होना सबसे बड़ा दुःख है.
  • सम्मान पाने लायक बनिये, लेकिन सम्मान पाने की चाह मत रखिये.
  • किसी दूसरे के घर बार-बार नहीं जाना चाहिए, क्योंकि रोज-रोज किसी के घर जाने से व्यक्ति का महत्व दिन-बी-दिन कम होता चला जाता है.
  • दृढ इच्छाशक्ति की बदौलत सपनों को भी सच किया जा सकता है.
  • जब-जब मर्यादाएँ टूटती है, तब-तब कुछ न कुछ बुरा होता है.
  • भूलकर भी किसी चरित्रहीन व्यक्ति का हमदर्द नहीं बनना चाहिए.
  • सीमित सोच वाले लोगों से दोस्ती करने वालों की सोच भी सीमित हो जाती है.
  • न तो सच्चा प्यार अँधा होता है और न सच्चे प्रेमी अंधे होते हैं.

 

अगर आप कविता, शायरी, Article इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए. अपनी रचनाएँ हिन्दी में टाइप करके भेजिए.

SHARE

4 COMMENTS

  1. such ar nice pankti inspirational thought in moral life.THANKS Y

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here