जीवन एक संघर्ष कविता – Jeevan Sangharsh Poem in Hindi

जीवन एक संघर्ष  कविता  – Jeevan Sangharsh Poem in Hindi – Jeevan Sangharsh Poem in Hindi
जीवन एक संघर्ष कविता - Jeevan Sangharsh Poem in Hindi

 

  • जीवन एक संघर्ष

 

  • हर घड़ी, हर पहर, हर दिन, हर पल
    दर्द में, खुशी में, नींद में, ख्वाब में
    कश्मकश हैं कई, हल है कहीं नहीं
    चल रहा हूँ मैं, मगर दौड़ है जिदंगी।
    दोस्ती, दुश्मनी, रिश्तों की है ना कमी
    अपनों में ही खुद को तलाशती जिदंगी
    इस शहर से उस शहर, इस डगर से उस डगर
    थक जाता हूँ मैं, मगर थकती नहीं है जिदंगी।
    कल भी आज भी, आज भी कल भी
    वही थी जिदंगी, वही है जिदंगी
    रात क्या, दिन क्या, सुबह क्या, शाम क्या
    सवाल थी जिदंगी, सवाल है जिदंगी।
    जी भरकर खेलो यहाँ मगर संभलकर
    बचपना भी जिदंगी, परिपक्वता भी जिदंगी
    मनुज भी, पशु भी, खग भी, तरू भी
    जिंदा है सब मगर मानवता है जिदंगी।
    हम हैं, तुम हो, ये हैं, वो हैं
    सब है यहाँ मगर कहाँ है जिदंगी
    सोच है, साज है, पंख है, परवाज है
    नाज है आज मगर कहाँ है जिदंगी।
    कभी गम तो कभी खुशी के आंसू
    वक्त के साथ परिवर्तन है जिंदगी
    जिंदगी का लक्ष्य केवल है म्रत्यु मगर
    मौत के बाद भी है कहीं जिदंगी।
    – Prabhat Kumar
  • jeevan ek sangharsh
    har ghadee, har pahar, har din, har pal
    dard mein, khushee mein, neend mein, khvaab mein
    kashmakash hain kaee, hal hai kaheen nahin
    chal raha hoon main, magar daud hai jidangee.
    dostee, dushmanee, rishton kee hai na kamee
    apanon mein hee khud ko talaashatee jidangee
    is shahar se us shahar, is dagar se us dagar
    thak jaata hoon main, magar thakatee nahin hai jidangee.
    kal bhee aaj bhee, aaj bhee kal bhee
    vahee thee jidangee, vahee hai jidangee
    raat kya, din kya, subah kya, shaam kya
    savaal thee jidangee, savaal hai jidangee.
    jee bharakar khelo yahaan magar sambhalakar
    bachapana bhee jidangee, paripakvata bhee jidangee
    manuj bhee, pashu bhee, khag bhee, taroo bhee
    jinda hai sab magar maanavata hai jidangee.
    ham hain, tum ho, ye hain, vo hain
    sab hai yahaan magar kahaan hai jidangee
    soch hai, saaj hai, pankh hai, paravaaj hai
    naaj hai aaj magar kahaan hai jidangee.
    kabhee gam to kabhee khushee ke aansoo
    vakt ke saath parivartan hai jindagee

 

SHARE

1 COMMENT

  1. Jeevan Sangharsh Poem in Hindi ek hi hai

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here