लव लेटर इन हिंदी प्रेम पत्र हिंदी में Emotional Love Letter in Hindi For Girlfriend

Emotional Love Letter in Hindi For Girlfriend – Emotional Love Letter in Hindi For Girlfriend – Emotional Love Letter in Hindi For Girlfriend – Love Letter in Hindi For Girlfriend – Emotional Love Letter in Hindi For Girlfriend लव लेटर इन हिंदी प्रेम पत्र हिंदी में

 

  • लव लेटर इन हिंदी प्रेम पत्र हिंदी में – Emotional Love Letter in Hindi For Girlfriend

 

  • आकांक्षा,
    तुम्हारे नाम के साथ कुछ और जोड़ने की हिम्मत नहीं है मेरी, न हीं कुछ और जोड़ना मैं जरूरी समझता हूँ. जरूरत हीं नहीं तुम्हारे नाम के आगे “प्यारी”, “प्रिय” या “डिअर” लगाने की. तुम्हारा नाम लेने के साथ जो चेहरा उभरता है, उससे तो सहज हीं प्यार हो जाए. फिर तुम्हें किसी और विशेषण की क्या आवश्यकता. तुम तक यह बात लिखकर पहुंचा रहा हूँ, क्योंकि तुम्हारे सामने होने पर मैं कुछ बोल नहीं पाता. सोचता बहुत हूँ, कि इस बार मिला तो ये कह दूंगा या वो कह दूंगा. लेकिन कभी कह नहीं पाता. तुम्हारी मासूम बड़ी-बड़ी सी आँखों से जब तुम मुझे देखकर निश्छल बच्चों सी हँस देती हो, मैं सबकुछ वहीं भूल जाता हूँ. और उसके बाद जब तुम बोलना शुरू करती हो, तो रूकती कहाँ हो, मैं तो असहाय सा फिर तुम्हारी कहानियों में तुम्हारे पीछे-पीछे चलता रहता हूँ.
    इतनी बातें करनी होती है तुम्हें कि मुझे आश्चर्य होता है कि तुम्हारी बातें इतने हीं अक्षरों में पूरी कैसे हो जाती है.  और वो जो तुम अपने चेहरे पर आने वाले बालों को सिर्फ एक ऊँगली से कानों के पीछे टिका देती हो, तो मेरा दिल भी मानो उसी में कहीं उलझ जाता है.  और चाय के कप को दोनों हाथों से पकड़कर जब तुम चाय को फूंकती हो, उस हवा में मेरे सारे ख्याल झट से  उड़ जाते हैं और सिर्फ तुम्हारा चेहरा दिमाग में बस जाता है. जाने क्या है तुम्हारे अंदर कि जो इन्सान तुम्हें एक बार जान ले वो तुम्हें लेकर इतना protective हो जाता है कि दुनिया भर से तुम्हारी मासूमियत को बचा लेना चाहता है. गुस्से में तुम जो वो गाल फुलाकर बैठ जाती हो ना, इतनी प्यारी लग रही होती हो कि बस वही देखने के लिए तुम्हें कई बार चिढ़ा देता हूँ. लो तुमने फिर से बात से भटका दिया, तुम हो हीं ऐसी….. तुम्हारे ख्यालों के अन्दर जाने का तो रास्ता है लेकिन बाहर आने का नहीं. कहना बस इतना है कि मैं चाहता हूँ कि तुम्हारी हर हंसी में साथ हँसने के लिए और तुम्हारे हर आंसू को समेटने के लिए मैं हमेशा तुम्हारे पास रहूँ. मैं तुम्हारी कहानियों में घूमना चाहता हूँ, तुम्हारी बकबक सुनना चाहता हूँ. तुम्हारे साथ लड़ना और फिर तुम्हें मनाना चाहता हूँ. जिंदगी की भागदौड़ के बीच से ये छोटी-छोटी खुशियाँ चुराना सीखना चाहता हूँ. तुम्हारे हंसी की वजह होना चाहता हूँ. तुमसे जीना सीखना चाहता हूँ. और हाँ अब मैं तुमसे कह सकता हूँ कि मैं तुमसे प्यार करता हूँ. और शायद इससे भी ज्यादा प्यार करना चाहता हूँ.
    तुम्हारा – राजीव

 

  • Akankshaa…
    Tmhare nam k sth kch or jodne ki himmat nhi meri na hi or kch jodna mai jruri smjhta hu. Jrurt hi nhi tmhare nam k age ‘pyari’ ya ‘priya’ ya ‘dear’ lgane ki.. tmhara nam lte k sth jo chehra ubharta h usse to sahaj hi pyr ho jae. Phir use or kisi visheshan ki kya avashyakta h. Tm tk yah bat likh kar pahucha rha hu kyuki samne se m kv kch bol nhi pata.. sochta bhot hu.. ki is bar mila to ye kah dalunga ya vo kah dalunga. Par kv kah nhi pata.. tmhari masum bdi bdi si ankho se jb tm mujhe dekh kr nischhal si bcho jaise has deti ho.. m sb kch vahi bhul jata hu. Or uske bd jb tm shuru hoti ho to phir rukti kaha ho.. mai to asahay sa phir tmhari kahaniyo me tmhare pichhe pichhe chlta rhta hu.. itni batein krni hoti h tmhe ki mujhe ashcharya hota h tmhari bate itne hi aksharo me puri kaise ho jati h.. unke lie to jaise or naye akshar lane pde… or vo jo tm apne chehre par ane wale baalo sirf ek ungli se kano k pichhe tika deti ho na to mera dil v mano usi me kahi ulajh jata h… or chai k cup ko dono hath se pkd kr jb tm fookti ho.. us hava me mere sare khyal jhat se ud jate h or sirf tmhara chehra dimag me bs jata h. Jane kya h tmhare andar ki jo insan tmhe ek bar jan le vo tmhe le kr itna protective ho jata h ki duniya bhr se tmhari masumiyat ko bcha lna chahta h.. Gusse me tm jo vo gaal fula kr baith jati ho na.. itni pyri lg rhi hoti ho ki bs vhi dekhne ko kai bar tmhe chidha dta hu.. lo tmne phir baat se bhatka diya.. tm ho hi aisi..tmhare khyalo me andar jane ka to rasta h bahar ane ka nhi..
    Kahna bs itna h ki mai chahta hu ki tmhari hr hasi me sath hasne k lie.. or tmhare hr aansu ko smetne k lie… mai hmesa tmhare pas rahna chahta hu.. mai tmhari kahaniyo me ghumna chahta hu.. tmhari bkbk sunna chahta hu.. tmhare sath ladna or tmhe phir manana chahta hu… jindagiki bhag daud k bich se ye chhoti chhoti khushiya churana sikhna chahta hu.. tmhare hasi ki vajah hona chahta hu.. tmse jina sikhna chahta hu.. or haa ab mai kah sakta hu ki mai tmse pyar krta hu or shayad isse v jyada pyar krna chahta hu..
    Tmhara – Rajeev

 

अगर आप कविता, शायरी, Article इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए. अपनी रचनाएँ हिन्दी में टाइप करके भेजिए.

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here