पहली बारिश पर कविता – Poem On Barish in Hindi Font

Poem On Barish in Hindi – Poem On Barish in Hindi – Poem On Barish in Hindi – Poem On Barish in Hindi
Poem On Barish in Hindi

 

  • पहली बारिश पर कविता – Poem On Barish in Hindi Font

 

  • पहली बारिश
    जब आयी साल की पहली बारिश
    गिरी कोख से बादल की, तो आकर मिली जमीन से ,
    तालाबों का फिर से जन्म हुआ, भू भाग पानी से समतल हुआ!
    खुली नींद तो पेड़-पौधों के बच्चे भी फिर से झूम उठे,
    आने लगी खिड़की से खुशबू गर्म पकोड़ों की
    जब आयी साल की पहली बारिश
    रंग बदला प्रकृति का, आयी मिठास फल फूलों में ,
    करें मोर आवाज़ जोर से, देखकर बादल घनघोर ,
    फैलाये पंखुड़ी जब निकला एक नन्हा फूल गुलाब का ,
    कागज की किस्ती भी चलने लगी पानी पे ज़ोर-ज़ोर से ,
    बिना ख्याल कविता लिखने बैठा कवि सब छोड़ के
    जब आयी साल की पहली बारिश
    निकला मेंढक खोद ज़मीं को, वापस जैसे जन्म हुआ फिर उसका
    पंख तले बच्चों को समेटे बैठी चिड़िया पेड़ पे ,
    और घोसलों से चूजे झांके सब कुछ नया देख के
    महसूस की हमने खशबू मिट्टी की……
    जब शीत लहर का झोंका आया ,
    गर्म हवा कहीं सो गयी, बदला रुख भी हवाओं का
    रंग बिरंगे रंगों वाली छतरी भी घर से निकल पड़ी !
    जब आयी साल की पहली बारिश
    – रवि यादव
  • jab aayee saal kee pahalee baarish
    giree kokh se baadal kee, to aakar milee jameen se ,
    taalaabon ka phir se janm hua, bhoo bhaag paanee se samatal hua!
    khulee neend to ped-paudhon ke bachche bhee phir se jhoom uthe,
    aane lagee khidakee se khushaboo garm pakodon kee
    jab aayee saal kee pahalee baarish
    rang badala prakrti ka, aayee mithaas phal phoolon mein ,
    karen mor aavaaz jor, dekhakar baadal ghanaghor ,
    phailaaye pankhudee jab nikala ek nanha phool gulaab ka ,
    kaagaj kee kistee bhee chalane lagee paanee pe zor-zor se ,
    bina khyaal kavita likhane baitha kavi sab chhod ke
    jab aayee saal kee pahalee baarish
    nikala mendhak khod zameen ko, vaapas jaise janm hua phir usaka
    pankh tale bachchon ko samete baithee chidiya ped pe ,
    aur ghosalon se chooje jhaanke sab kuchh naya dekh ke
    mahasoos kee hamane khashaboo mittee kee……
    jab sheet lahar ka jhonka aaya ,
    garm hava kaheen so gayee, badala rukh bhee havaon ka
    rang birange rangon vaalee chhataree bhee ghar se nikal padee !
    jab aayee saal kee pahalee baarish

 

अगर आप कविता, शायरी, Article इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए. अपनी रचनाएँ हिन्दी में टाइप करके भेजिए.

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here