Breaking News

बेरोजगारी पर कविता – Poem On Berojgari Ki Samasya in Hindi

बेरोजगारी पर कविता – Poem On Berojgari Ki Samasya in Hindi – बेरोजगारी पर कविता – Poem On Berojgari Ki Samasya in Hindi – बेरोजगारी पर कविता – Poem On Berojgari Ki Samasya in Hindi
बेरोजगारी पर कविता - Poem On Berojgari Ki Samasya in Hindi

 

  • बेरोजगारी

 

  • अरे ओ, जीवन से निराश योद्धाओ सुनो,
    सड़क पर भटकते बेरोजगारों सुनो
    अँधेरे से निकलेने को कुछ कर्म तो करो ।
    अपनी स्थिती को मानकर कुछ शर्म तो करो।
    कब तक कोसते रहोगे तुम,अपने सरकार को ?
    क्या भुला दोगे तुम दुनिया के तिरस्कार को?
    दुर्भाग्य से निकलने का जतन तो करो।
    अपनी धड़कनों को समझने का प्रयत्न तो करो।
    माँ को ढेरों तमन्ना थी,तेरे जन्म के बाद,
    पिता ने देखे थे सपने दशकों बाद,
    उनके ख्वाबों को आँखों में जगह तो दो।
    संभल जायेंगे पाँव तेरे पहले सतह तो दो।
    जन्म लेना, मर जाना, नियती है संसार की,
    सोचा कभी, क्या वजह थी ? तेरे अवतार की,
    मिट्टी हो जाएगी सोना, तुम स्पर्श तो करो।
    कर रही इंतजार मंजिल, तुम संघर्ष तो करो। – प्रभात कुमार
  • वक्त कितना लगता है
  • वक्त कितना लगता है,
    दर्द को असहनीय बनने में,
    वक्त कितना लगता हैं,
    श्रेष्ट को कनीय बनने में,
    अपनी जिंदगी से कभी
    मत हारना क्योंकि
    वक्त कितना लगता है
    सड़क छाप को माननीय बनने में
    वक्त कितना लगता है
    इज्जत को तमाशा बनने में,
    वक्त कितना लगता है
    आशा को निराशा बनने में,
    हमारी गलती है कि हम
    प्रयास छोड़ देते हैं वरना
    वक्त कितना लगता है
    अज्ञानता को जिज्ञासा बनने में,
    वक्त कितना लगता है
    रिश्तों को टूट जाने में,
    वक्त कितना लगता है
    अपनों से छूट जानें में,
    वाकिफ सब हैं
    समाज के नियमों से मगर
    वक्त कितना लगता है
    समाज से दूर होने में। – प्रभात कुमार
    vakt kitana lagata hai,
    dard ko asahaneey banane mein,
    vakt kitana lagata hain,
    shresht ko kaneey banane mein,
    apanee jindagee se kabhee
    mat haarana kyonki
    vakt kitana lagata hai
    sadak chhaap ko maananeey banane mein
    vakt kitana lagata hai
    ijjat ko tamaasha banane mein,
    vakt kitana lagata hai
    aasha ko niraasha banane mein,
    hamaaree galatee hai ki ham
    prayaas chhod dete hain varana
    vakt kitana lagata hai
    agyaanata ko jigyaasa banane mein,
    vakt kitana lagata hai
    rishton ko toot jaane mein,
    vakt kitana lagata hai
    apanon se chhoot jaanen mein,
    vaakiph sab hain
    samaaj ke niyamon se magar

 

अगर आप कविता, शायरी, Article इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए.

About Abhi

Hi, friends, SuvicharHindi.Com की कोशिश है कि हिंदी पाठकों को उनकी पसंद की हर जानकारी SuvicharHindi.Com में मिले. SuvicharHindi.com में आपको Hindi shayari, Hindi Ghazal, Long & Short Hindi Slogans, Hindi Posters, Hindi Quotes with images wallpapers || Hindi Thoughts || Hindi Suvichar, Hindi & English Status, Hindi MSG Messages 140 words text, Hindi wishes, Best Hindi Tips & Tricks, Hindi Dadi maa ke Gharelu Nuskhe, Hindi Biography jeevan parichay jivani, Cute Hindi Poems poetry || Awesome Kavita, Hindi essay nibandh, Hindi Geet Lyrics, Hindi 2 sad / happy / romantic / liners / boyfriend / girlfriend gf / bf for facebook ( fb ) & whatsapp, useful 1 one line rs मिलेंगे. हमारे Website में दी गई चिकित्सा सम्बन्धित जानकारियाँ / Upay / Tarike / Nuskhe केवल जानकारी के लिए है, इनका उपयोग करने से पहले निकट के किसी Doctor से सलाह जरुर लें.
Previous ब्रोकेन हार्ट कविता हिन्दी में – Broken Heart Poems in Hindi
Next जीवन एक संघर्ष कविता – Jeevan Sangharsh Poem in Hindi

One comment

  1. Abhi

    Poem on Berojgari Ki Samasya in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!