पंछी पर हिन्दी कविता – Poem On Birds in Hindi Language

Poem On Birds in Hindi Language – Poem On Birds in Hindi Language – Poem On Birds in Hindi Language

 

  • पंछी हैं वो

 

  • हवाओ में पंख फैलाए
    नीले नभ से तय करते हैं
    जो अपनी दिशाएँ
    हाँ पंछी हैं वो!!
    चँचलता जिनकी नजरों से छलके
    इस पल यहाँ तो अगले पल
    वहाँ जो चहके
    हाँ पंछी हैं वो!!
    सुबह सूरज के किरणों के धरती को
    छुने से पहले जो जग जाएँ
    हाँ पंछी हैं वो!!
    दायरो में जो नहीं बँधते
    पिंजरो में जो नहीं रहते
    अपनी सीमा जो स्वयं
    तय हैं करते
    हाँ पंछी हैं वो!!
    लक्ष्य जिनका अटल है रहता
    सारा जग जिन्हे अपना है लगता
    कहीं कोई फर्क नहीं है दिखता
    हाँ पंछी हैं वो!!
    सीमाएँ जिनके लिए नहीं बनी
    जिन्हे कहीं आने-जाने के लिए
    कोई वीजा नहीं लगता
    हाँ पंछी हैं वो!!
    चहचहाहट से जिनके संगीत सा
    कानो में है बजता
    फिजा सुरमई सी है लगती
    हाँ पंछी हैं वो!!
    धरा-गगन दोनो से है
    इनका गहरा नाता उँचाई पर
    ही अपना आशियाना इन्हे लुभाता
    हाँ पंछी हैं वो!!
    मौसमों से छेडखानी करते
    तिनके चुन-चुन अपना घोंसला संजोते
    दिशाएँ घूम-घूम दाने चुनते
    हैं जो दिखते
    हाँ पंछी हैं वो!!
    हर रोज जैसे कोई नया अभियान हो
    सुबह पूरा करने जो निकलते
    शाम ढलने पर ही अपने घोसलों पर लौटते
    हाँ पंछी हैं वो!!
    प्यारे-प्यारे रंग-रूपों से सजे
    जिनकी शोभा उनके पंखों से ही बढे़
    हाँ पंछी हैं वो!!
    उम्मीद और हौसले की
    पहचान हैं जो
    हाँ पंछी हैं वो!!!!!
    – ज्योति सिंहदेव
  • havao mein pankh phailae
    neele nabh se tay karate hain
    jo apanee dishaen
    haan panchhee hain vo!!
    chanchalata jinakee najaron se chhalake
    is pal yahaan to agale pal
    vahaan jo chahake
    haan panchhee hain vo!!
    subah suraj ke kiranon ke dharatee ko
    chhune se pahale jo jaag jaen
    haan panchhee hain vo!!
    daayaro mein jo nahin bandhate
    pinjaro mein jo nahin rahate
    apanee seema jo svayan
    tay hain karate
    haan panchhee hain vo!!
    lakshy jinaka atal hai rahata
    saara jag jinhe apana hai lagata
    kaheen koee phark nahin hai dikhata
    haan panchhee hain vo!!
    seemaen jinake lie nahin banee
    jinhe kaheen aane-jaane ke lie
    koee veeja nahin lagata
    haan panchhee hain vo!!
    chahachahaahat se jinake sangeet sa
    kaano mein hai bajata
    phija suramee see hai lagatee
    haan panchhee hain vo!!
    dhara-gagan dono se hai
    inaka gahara naata unchaee par
    hee apana aashiyaana inhe lubhaata
    haan panchhee hain vo!!
    mausamon se chhedakhaanee karate
    tinake chun-chun apana ghonsala sanjote
    dishaen ghum-ghum daane chunate
    hain jo dikhate
    haan panchhee hain vo!!
    har roj jaise koee naya abhiyaan ho
    subah pura karane jo nikalate
    shaam dhalane par hee apane ghosalon par lautate
    haan panchhee hain vo!!
    pyaare-pyaare rang-roopon se saje
    jinakee shobha unake pankhon se hee badhe
    haan panchhee hain vo!!
    ummeed aur haunsale kee
    pahachaan hain jo

 

अगर आप कविता, शायरी, Article इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए. अपनी रचनाएँ हिन्दी में टाइप करके भेजिए.

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here