पृथ्वी पर कविता हिन्दी में – Poem On Earth Day in Hindi Font

Poem On Earth Day in Hindi Font – पृथ्वी पर कविता – Poem On Earth Day in Hindi Font – पृथ्वी पर कविता

 

  • धरती / पृथ्वी

 

  • है धरा ये, पृथ्वी भी यही
    प्यार से पाए हैं इसने नाम कई
    धरती माँ कहकर पुकारते हैं इसे सभी
    हर भाग है इसका अनुपम
    हो फिर हरी-भरी भूमि
    या मरुस्थल रेतीली तपती
    कहीं पर बहती है शीतल नदी की धारा
    कहीं पर इसके अंदर जलता है आग का गुब्बारा
    मौसम का भी मिलता है अलग-अलग अंदाज यहाँ
    माटी इसकी चन्दन सी जिसे प्रकृति ने खुद सँवारा
    देती है मौके कई साकार करने को अपनी कल्पनाएँ
    करके समर्पित स्वयं को जीवन पर….
    इसने बड़े लाड़ से जीवों को पुचकारा
    है जितनी शांत और सरल ये….
    उतनी हीं हो जाती है विध्वंसक और विकराल
    जब भी इसने गुस्से से हुंकारा
    हर मंजर इसका बन जाता है मातम और तबाही का खेल सारा
    हर भूभाग है इसका भिन्न एक-दूसरे से
    भांति-भांति के रंग-रूपों से इसने है अपनी दुनिया सजाई
    बर्फीले पहाड़ों की कंदराएं हो या चट्टानी गुफाएँ हो
    चहकते पंछी और तरह-तरह के जीव-जन्तुओं की अल्हड़ अटखेलियों को इसने है प्यार से स्वीकारा
    नहीं किया भेद कैसा भी हर किसी का किया स्वागत है यहाँ
    है जीवन यहीं, है मृत्यु यहीं
    सुख-दुःख, विश्वास-अविश्वास, हार-जीत, मिलना-बिछड़ना रिश्तों की कहानी यहीं
    नर्क भी यहीं है स्वर्ग भी यहीं है
    हर दास्ताँ शुरू यहीं और खत्म भी यहीं है
    प्यार से जो भी इससे पेश आया, इसने उस पर अपना सर्वस्व वारा
    है धरती ये इसके आँचल में हीं है संसार समाया
    – ज्योति सिंहदेव
  • hai dhara ye, prthvee bhee yahee
    pyaar se pae hain isane naam kaee
    dharatee maan kahakar pukaarate hain ise sabhee
    har bhaag hai isaka anupam
    ho phir haree-bharee bhoomi
    ya marusthal reteelee tapatee
    kaheen par bahatee hai sheetal nadee kee dhaara
    kaheen par isake andar jalata hai aag ka gubbaara
    mausam ka bhee milata hai alag-alag andaaj yahaan
    maatee isakee chandan see jise prakrti ne khud sanvaara
    detee hai mauke kaee saakaar karane ko apanee kalpanaen
    karake samarpit svayan ko jeevan par….
    isane bade laad se jeevon ko puchakaara
    hai jitanee shaant aur saral ye….
    utanee heen ho jaatee hai vidhvansak aur vikaraal
    jab bhee isane gusse se hunkaara
    har manjar isaka ban jaata hai maatam aur tabaahee ka khel saara
    har bhoobhaag hai isaka bhinn ek-doosare se
    bhaanti-bhaanti ke rang-roopon se isane hai apanee duniya sajaee
    barpheele pahaadon kee kandaraen ho ya chattaanee guphaen ho
    chahakate panchhee aur tarah-tarah ke jeev-jantuon kee alhad atakheliyon ko isane hai pyaar se sveekaara
    nahin kiya bhed kaisa bhee har kisee ka kiya svaagat hai yahaan
    hai jeevan yaheen, hai mrtyu yaheen
    sukh-duhkh, vishvaas-avishvaas, haar-jeet, milana-bichhadana rishton kee kahaanee yaheen
    nark bhee yaheen hai svarg bhee yaheen hai
    har daastaan shuroo yaheen aur khatm bhee yaheen hai
    pyaar se jo bhee isase pesh aaya, isane us par apana sarvasv vaara

 

अगर आप कविता, शायरी, Article इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए. अपनी रचनाएँ हिन्दी में टाइप करके भेजिए.

SHARE

1 COMMENT

  1. Poem On Earth Day in Hindi Font world environment for kids few lines about

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here