भ्रूण हत्या पर कविता – Poem On Female Foeticide in Hindi Bhrun Hatya

Poem On Female Foeticide in Hindi – Poem On Female Foeticide in Hindi – Kanya Bhrun Hatya – Kanya Bhrun Hatya – कन्या भ्रूण हत्या पर कविता – कन्या भ्रूण हत्या पर कविता – Poem On Female Foeticide in Hindi – Kanya Bhrun Hatya – Kanya Bhrun Hatya – कन्या भ्रूण हत्या पर कविता

 

  • क्यों बोझ लगती है बेटियाँ इस समाज को

 

  • वो दिन था बड़ा ही खास…..,
    जब मैं आयी थी अपने माता-पिता के घर बनकर उल्लास
    खुशी से अपनाया था दोनों ने अपनी बेटी को
    फिर क्यूँ था गम, मेरे जन्म पर इस समाज को
    क्यों इस समाज के आँखों में खटकी थी मैं
    आखिर क्यों इस समाज को बोझ सी लगी थी मैं
    जबकि मैं तो थी अपने माता-पिता के लिए खुशियों की बहार
    क्यों इस संसार ने बेटियों के जन्म पर सबको डराया है
    क्यों मेरे जन्म पर मेरी माँ को दोषी ठहराया है
    क्यों पहुँचा दिया गया मुझे और मेरी माँ के सपनो को शमशान
    क्यों न कर सके वो बेटे की जगह बेटी के जन्म पर अभिमान
    बेटे अगर होते हैं समाज की जान
    तो बेटियाँ भी होती हैं अपने कुल की शान
    वंश बढ़ाते हैं बेटे तो नाम रौशन करती हैं बेटियाँ
    माता-पिता के लिए तो बेटा हो या बेटी
    दोनों ही होते है उनके लिए उनकी आन, बान, शान
    फिर क्यों कि़या जाता है जन्म देने से इंकार बेटी को
    आखिर क्यों मार दिया जाता है गर्भ में हीं बेटी को
    क्यों न इस मानसिकता को बदलकर, इस कुरीति खत्म करें हम
    बेटे-बेटी का भेद मिटाकर मानवता पर गर्व करें हम
    ताकि बेटियों को मिल सके सुरक्षित कल
    ताकि लिंग भेद से मुक्त हो आने वाला कल
    जिस दिन बेटी जन्म लेती है, वो दिन होता है बड़ा ही खास
    क्योंकि बेटा-बेटी दोनों हीं होते हैं बहुत खास – नमिता कुमारी
  • kyon bojh lagatee hai betiyaan is samaaj ko
    vo din tha bada hee khaas …..,
    jab main aayee thee apane maata-pita ke ghar banakar ullaas
    khushee se apanaaya tha donon ne apanee betee ko
    phir kyoon tha gam, mere janm par is samaaj ko
    kyon is samaaj ke aankhon mein khatakee thee main
    aakhir kyon is samaaj ko bojh see lagee thee main
    jabaki main to thee apane maata-pita ke lie khushiyon kee bahaar
    kyon is sansaar ne betiyon ke janm par sabako daraaya hai
    kyon mere janm par meree maan ko doshee thaharaaya hai
    kyon pahuncha diya gaya mujhe aur meree maan ke sapano ko shamashaan
    kyon na kar sake vo bete kee jagah betee ke janm par abhimaan
    bete agar hote hain samaaj kee jaan
    to betiyaan bhee hotee hain apane kul kee shaan
    vansh badhaate hain bete to naam raushan karatee hain betiyaan
    maata-pita ke lie to beta ho ya betee
    donon hee hote hai unake lie unakee aan, baan, shaan
    phir kyon kiya jaata hai janm dene se inkaar betee ko
    aakhir kyon maar diya jaata hai garbh mein heen betee ko
    kyon na is maanasikata ko badalakar, is kureeti khatm karen ham
    bete-betee ka bhed mitaakar maanavata par garv karen ham
    taaki betiyon ko mil sake surakshit kal
    taaki ling bhed se mukt ho aane vaala kal

 

अगर आप कविता, शायरी, Article इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए.

2 COMMENTS

  1. you done………………………….very nice good

  2. Poem On Female Foeticide in Hindi kanya bhrun hatya very short best

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here