इंसानियत पर हिन्दी कविता – Poem On Humanity in Hindi

Poem On Humanity in Hindi – Poem On Humanity in Hindi – Poem On Humanity in Hindi
इंसानियत पर हिन्दी कविता - Poem On Humanity in Hindi

 

  • इंसानियत

 

  • इंसानी दुनिया का दस्तूर भी क्या बताऊ यारों.
    यहाँ तो अमीरी से रिश्ते बनाये जाते हैं.
    और गरीबी से रिश्ते छिपाये जाते है.
    इस दुनिया में अब ऐसे हीं इंसानियत निभाई जाती है
    दूसरों को हँसाने के लिए नहीं , रुलाने के लिए मेहनत की जाती है.
    अपनी जीत के लिए नहीं , दूसरों की हार के लिए मेहनत की जाती है.
    यहाँ तो लोग जुदा हैं अपने ही वजूद से.
    क्योंकि यहाँ लोग अपने आप से ज्यादा दुसरो में व्यस्त रहा करते हैं.
    इस दुनिया में अब इंसानियत शर्मिंदा है
    यहाँ तो अपनों को छोड़ गैरों से रिश्ते निभाए जाते हैं.
    अपनापन और प्यार कोई मायने नहीं रखता यहाँ,
    यहां तो बस पैसो से रूप दिखाए जाते हैं .
    भावनाओं का कोई मोल नहीं है आज कल यहाँ,
    यहां तो बस रूप रंग से रिश्ते बनाये जाते हैं.
    यहाँ तो बस शर्तों पर रिश्ते बनाये जाते हैं.
    रिश्तों का एहसास कहीं गुम सा हो गया है यहाँ.
    प्यार का वजूद कहीं दफ़न सा हो गया है यहाँ.
    यहाँ तो बस रिश्ते मतलब से निभाए जाते हैं.
    अपनो से नहीं पैसों से रिश्तेदारी निभाई जाती है
    इस दुनिया में  इंसानियत अब ऐसे ही निभाई जाती है!
    इस दुनिया में  इंसानियत अब ऐसे ही निभाई जाती है!
    इस दुनिया में  इंसानियत अब ऐसे ही निभाई जाती है!
    – आँचल वर्मा
  • insaanee duniya ka dastoor bhee kya bataoo yaaron.
    yahaan to ameeree se rishte banaaye jaate hain.
    aur gareebee se rishte chhipaaye jaate hai.
    is duniya mein ab aise heen insaaniyat nibhaee jaatee hai
    doosaron ko hansaane ke lie nahin, rulaane ke lie mehanat kee jaatee hai.
    apanee jeet ke lie nahin, doosaron kee haar ke lie mehanat kee jaatee hai.
    yahaan to log juda hain apane hee vajood se.
    kyonki yahaan log apane aap se jyaada dusaro mein vyast raha karate hain.
    is duniya mein ab insaaniyat sharminda hai
    yahaan to apanon ko chhod gairon se rishte nibhae jaate hain.
    apanaapan aur pyaar koee maayane nahin rakhata yahaan,
    yahaan to bas paiso se roop dikhae jaate hain.
    bhaavanaon ka koee mol nahin hai aaj kal yahaan,
    yahaan to bas roop rang se rishte banaaye jaate hain.
    yahaan to bas sharton par rishte banaaye jaate hain.
    rishton ka ehasaas kaheen gum sa ho gaya hai yahaan.
    pyaar ka vajood kaheen dafan sa ho gaya hai yahaan.
    yahaan to bas rishte matalab se nibhae jaate hain.
    apano se nahin paison se rishtedaaree nibhaee jaatee hai
    is duniya mein insaaniyat ab aise hee nibhaee jaatee hai!
    is duniya mein insaaniyat ab aise hee nibhaee jaatee hai!

 

SHARE

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here