कर्तव्य पर हिन्दी कविता – Poem On Kartavya in Hindi Responsibility

Poem On Kartavya in Hindi – कर्तव्य पर हिन्दी कविता – Poem On Kartavya in Hindi Responsibility
कर्तव्य पर हिन्दी कविता - Poem On Kartavya in Hindi Responsibility

 

  • “कर्त्तव्य “

 

  • ओ कर्त्तव्य विमूढ़ पुत्रों !
    क्या तुम वही  शिशु आँचल वाला ;
    जिसका क्रंदन होता था शांत ,
    माँ के वक्षस्थल से लगकर !
    जिसकी ऊँगली को थाम तुम
    शैशव से तारुण्य हुए
    क्या नहीं यह वही माता ,
    तुम जिसकी ममता से दूर हुए ?
    माँ ने तेरा घर बसाया
    चूल्हे -चौंके से मुक्ति को ,
    परिणाम दिया तूने ऐसा
    वह चाहती जीवन मुक्ति को !
    बहु तो हुई उछश्रृंखलता की
    उड़नखटोला पर आसीन
    रोज़ सास पर ताना कसती
    और रहती फैशन में लीन ,
    जो कभी देती थी तुझे
    तेरे प्यासे होटों को पानी
    उसी के ह्रदय में चुभती है
    अब तेरी पत्नी की वाणी !
    ओ श्रवण सदृश पुत्रों !
    याद करो बच्चपन अपना
    किस खून पसीने की मालिश से
    सम्पुस्ट हुई रग -रग  तेरी !
    क्यों भूल गए तुम पुत्र धर्म
    पत्नी स्वार्थ के आगे ?
    ओ वृद्धा के स्वास्थ्य भविस्य
    पशु नहीं तुम हो मनुष्य
    अगर पुत्रत्व शेष है तुममे
    तो खाओ एक कर्त्तव्य शपथ
    सहलाओगे माँ की पीड़ा को
    सदा रहोगे साथ -साथ  !
    – डॉ० निर्मल आनंद
  • “karttavy ”
    • o karttavy vimoodh putron !
    kya tum vahee shishu aanchal vaala ;
    jisaka krandan hota tha shaant ,
    maan ke vakshasthal se lagakar !
    jisakee oongalee ko thaam tum
    shaishav se taaruny hue
    kya nahin yah vahee maata ,
    tum jisakee mamata se door hue ?
    maan ne tera ghar basaaya
    choolhe -chaunke se mukti ko ,
    parinaam diya toone aisa
    vah chaahatee jeevan mukti ko !
    bahu to huee uchhashrrnkhalata kee
    udanakhatola par aaseen
    roz saas par taana kasatee
    aur rahatee phaishan mein leen ,
    jo kabhee detee thee tujhe
    tere pyaase hoton ko paanee
    usee ke hraday mein chubhatee hai
    ab teree patnee kee vaanee !
    o shravan sadrsh putron !
    yaad karo bachchapan apana
    kis khoon paseene kee maalish se
    sampust huee rag -rag teree !
    kyon bhool gae tum putr dharm
    patnee svaarth ke aage ?
    o vrddha ke svaasthy bhavisy
    pashu nahin tum ho manushy
    agar putratv shesh hai tumame
    to khao ek karttavy shapath
    sahalaoge maan kee peeda ko
    sada rahoge saath -saath !

 

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here