महात्मा गांधी पर कविता – Poem on Mahatma Gandhi in Hindi Jayanti गांधी जयंती

Poem on Mahatma Gandhi in Hindi  language | short poetry for kids on bapu par, kavita of  – महात्मा गाँधी पर कविता – poems on mahatma gandhi in hindi -poem on gandhi jayanti in hindi – gandhi jayanti poem in hindi – gandhi poem in hindi – poem on mahatma gandhi in hindi – mahatma gandhi poem in hindi – short poem on mahatma gandhi in hindi – poem on mahatma gandhi in hindi language – poem on mahatma gandhi in hindi for class 4 – poem on mahatma gandhi in hindi for kids – poem of mahatma gandhi in hindi – mahatma gandhi jayanti poem in hindi – poem on indira gandhi in hindi – mahatma gandhi in hindi poem – a poem on mahatma gandhi in hindi – poem on gandhi ji in hindi – poem in hindi on mahatma gandhi – poem about mahatma gandhi in hindi

 

  • गाँधी की पीड़ा

 

  • मेरे नाम को सेकुलरिज्म का मुखौटा बना दिया है तुमने
    मुझे सत्ता पाने का जरिया बना दिया है तुमने
    गाँधी-गाँधी के जाप से अपने स्वार्थों की पूर्ति की है तुमने
    नोट वाले गाँधी से मोहब्बत की है तुमने
    स्वार्थ और मक्कारी की इबादत की है तुमने
    हर-पल हर-दिन मेरे नाम की हत्या की है तुमने
    मेरे नाम पर वोट बैंक की राजनीति की है तुमने
    गाँधीवादी पैकेट में, नकली सपने बेचे हैं तुमने
    अपने स्वार्थों की पूर्ति के लिए, गाँधी को भारत से बड़ा बना दिया है तुमने
    गाँधी के नाम के बहाने, क्रांतिकारियों के बलिदानों को भूला दिया है तुमने
    युवा भारत को अहिंसा के नाम पर, नपुंसक बना दिया है तुमने
    हे भगवान मेरे भारत को इन गांधीवादियों से बचा लो
    भारत के युवाओं को फिर राष्ट्र पूजा सिखा दो
    मेरे नाम को अब और बिकने से बचा लो.
    – अभिषेक मिश्र
    योग को साम्प्रदायिक बताना कुछ ऐसा हीं है, जैसे किसी मूर्ख व्यक्ति का किसी Doctor से धर्म पूछना. जिन्हें स्वास्थ्य से प्यार है, उनके लिए योग उनका Family Doctor है. जो हर दिन उन्हें Health Treatment देता है.
    → अगर स्वास्थ्य से प्यार है, तो राजनीतिज्ञों के झाँसे में आए बिना योग को अपने दैनिक जीवन में शामिल कीजिए.
  • mere naam ko sekularijm ka mukhauta bana diya hai tumane
    mujhe satta paane ka jariya bana diya hai tumane
    gaandhee-gaandhee ke jaap se apane svaarthon kee poorti kee hai tumane
    not vaale gaandhee se mohabbat kee hai tumane
    svaarth aur makkaaree kee ibaadat kee hai tumane
    har-pal har-din mere naam kee hatya kee hai tumane
    mere naam par vot baink kee raajaneeti kee hai tumane
    gaandheevaadee paiket mein, nakalee sapane beche hain tumane
    apane svaarthon kee poorti ke lie, gaandhee ko bhaarat se bada bana diya hai tumane
    gaandhee ke naam ke bahaane, kraantikaariyon ke balidaanon ko bhoola diya hai tumane
    yuva bhaarat ko ahinsa ke naam par, napunsak bana diya hai tumane
    he bhagavaan mere bhaarat ko in gaandheevaadiyon se bacha lo
    bhaarat ke yuvaon ko phir raashtr pooja sikha do

 

अगर आप कविता, शायरी, Article इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए. अपनी रचनाएँ हिन्दी में टाइप करके भेजिए.

SHARE

4 COMMENTS

  1. It’s totally awesome poem

  2. sukhmangal singh

    वह भाव नहीं है लोगों में ,वह ताव नही है लोगों में
    देश के खातिर मर मिटने के ,चाव नही है लोगों में |
    लोकतंत्र में लिए मुखौटा गांधी लोहिया, सुभाष कहाँ
    आजाद जैसे वीर जवान खोये -खोये चौराहे वोटों में |

  3. kuch aur poems ho to jyada better rehta

  4. Poem on Mahatma Gandhi in Hindi language – short poetry for kids on bapu par kavita of about gandhi jayanti gandhiji

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here