Recent Posts

6 Poem on Raksha Bandhan in Hindi रक्षा बंधन पर हिंदी कविता kids bro sis rakhi kavita

Poem on Raksha Bandhan in Hindi | rakhi short kavita in any language for kids – रक्षा बंधन पर कविता – poems on raksha bandhan in hindi – poem on raksha bandhan in hindi for kids – raksha bandhan in hindi poem – raksha bandhan poem in hindi – raksha bandhan poems in hindi  – hindi poem on raksha bandhan – hindi poems on raksha bandhan

रक्षा बंधन पर हिंदी कविता - Poem on Raksha Bandhan in Hindi For Kids
Poem on Raksha Bandhan in Hindi rakhi kavita

 

 

 


  • Raksha Bandhan Par Kavita in Hindi – Poem on Raksha Bandhan in Hindi rakhi kavita

  • भैया तुम आ जाओ ना…

    बाज़ारों में राखी सजी है
    अपनी भी कलाई में सजाने दो
    रौनक हर जगह दिख रही है
    मुझे भी उत्सव मनाने दो
    नहीं चाहिए मेवे और उपहार बदले में,
    तुम बस रक्षा का वचन निभाओ ना…
    भैया तुम आ जाओ ना…
    आओ मुझको तिलक लगाने दो
    मैंने फिरसे पूजा की थाल सजाई है
    देखो मैंने पसन्द की गुजिया बनाई है
    साथ में लडडू और मिठाई है
    नहीं है इस बार कोई शिकायत तुमसे,
    तुम भी मन का बैर हटाओ ना…
    भैया तुम आ जाओ ना…
    – Jaya Pandey

  • काश – Poem on Raksha Bandhan in Hindi rakhi kavita

    काश मेरा भी कोई भाई होता…
    कभी मुझसे लड़ता
    कभी मेरे लिए लड़ता
    जब दुनिया होती विरुद्ध में
    तब वो मेरे साथ चलता
    जो भी मुख उठते अवहेलना के लिए
    वह सब पर प्रहार करता
    काश मेरा भी कोई भाई होता…
    हंसता और हंसाता,
    समझता और समझाता,
    निराशा जो घेरती व्यूह में,
    तब वो हौसला बढ़ाता,
    ‘रावण’ सा पराक्रमी होता वो भाई,
    जो मेरे लिए भी शस्त्र उठाता,
    कोई जो आहत करता स्वाभिमान को,
    तब वो युद्ध का विगुल बजाता।
    काश मेरा भी कोई भाई होता…
    – Jaya Pandey

 


  • Poem on Rakhi for Brother in Hindi – Poem on Raksha Bandhan in Hindi rakhi kavita
    मेरे भैया

  • मेरे भैया, अबकी बार राखी में नई रीत चलाओ तुम
    अपनी बहन को आत्मरक्षा के गुर सिखाओ तुम……………………..
    Well settled लड़का ढूंढने की बजाए, मुझे Economically Independent बनाओ तुम
    जो मुझसे प्यार करे, उसे मेरा जीवनसाथी बनाओ तुम…………………………….
    मेरे संग हमेशा रहना तुम, मेरी ताकत बनना तुम
    मैं जो कभी कमजोर पड़ जाउँ, तो मेरी ढाल बन जाना तुम……………..
    राखी की इस रीत को उम्र भर निभाना तुम
    दुनियादारी के चक्कर में, मुझे मत भूल जाना तुम…………………………..
    बेटी नहीं होती है पराई, ये बात माँ-बाबा को समझाना तुम
    दहेज न कोई सामान देना तुम, मुझे तो मेरा स्वाभिमान देना तुम……………….
    परम्पराओं को सबके साथ ख़ुशी-ख़ुशी निभाना तुम
    पर मुझे कुप्रथाओं की चक्की में, पिसने से बचाना तुम…………………..
    थोड़ी नकचढ़ी बहना हूँ मैं, और मेरे प्यारे भैया हो तुम……………………….
    तुम्हारे नखरे सहती हूँ मैं, और मेरे नाज उठाते हो तुम
    तो चलो एक-दूजे की हिम्मत बन जाएँ हम-तुम……………………..
    भाई-बहन का रिश्ता होता है सबसे अनूठा, ये दुनिया को दिखाएँ हम-तुम
    – अभिषेक मिश्र ( Abhi )

 

  • ~~भैया मेरे~~ Poem on Raksha Bandhan in Hindi rakhi kavita

    प्यारे-प्यारे भैया मेरे…
    सबसे अच्छे भैया मेरे…
    तुम हो मेरे रखवाले…
    मुझसे ये राखी बन्धवाले…
    तेरी रक्षा मैं करुगी..
    मेरी रक्षा तुम करना..

    तेरे साथ मैं चलूँगी..
    मेरे साथ तुम चलना…
    राखी का ये बंधन प्यारा..
    इस बंधन को बांधे रखना..
    टूटे ना रिश्तो का धागा…
    मजबूत अपने इरादे रखना…
    जब मैं तुमसे रूठ जाऊं..
    तो तुम मुझे मनाना..
    जब-जब मैं रोऊँ..
    तुम मुझे हंसाना..
    मेरे भैया दूर ना जाना..
    मुझसे तुम राखी बंधवाना..
    प्यारे प्यारे भैया मेरे …
    सबसे अच्छे भैया मेरे…. – पूजा पाठक

 


  • Poem on Rakhi for sister in Hindi – Poem on Raksha Bandhan in Hindi rakhi kavita
    एक रेशम का धागा भर नहीं… 

    एक रेशम का धागा भर नहीं,
    एक हल्की सी गांठ ही नहीं,
    राखी एक बहन का प्यार है,
    ये कोई यूं ही दिन भर नहीं,
    भाई बहन के बंधन का त्योहार है!
    बंधन, लेकिन कैसा बंधन? 
    बंधन हो कर भी बंधन नहीं, 
    ये बंधन भी बहन के पंख हैं,
    भाई, बहन के लिए, मानो, 
    मोतियों भरा शंख है…
    रक्षा करने का एक वादा,
    हमेशा साथ देने का इरादा
    हर भाई का बहन से,
    है एक कसम भी, साथ निभाने का,
    हक़ जताने का भाई पर है अवसर भी…
    पूर्णिमा की चाँद सा चमकीला, 
    हर बहन को उसका भाई प्यारा, 
    हर पल उसका साया, उसका सहारा… 
    बहन का प्यार भी दिए की लोह सा, 
    भाई पर हर पल सब कुर्बान करने को… 
    एक रेशम का धागा भर नहीं,
    एक हल्की सी गांठ ही नहीं…
    राखी एक बहन का प्यार है,
    ये कोई यूं ही दिन भर नहीं,
    भाई बहन के बंधन का त्योहार है…
    – विशाल शाहदेव

 

 

अगर आप कविता, कहानी इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए.

About Abhi

Hi, friends, SuvicharHindi.Com की कोशिश है कि हिंदी पाठकों को उनकी पसंद की हर जानकारी SuvicharHindi.Com में मिले. SuvicharHindi.com में आपको Hindi shayari, Hindi Ghazal, Long & Short Hindi Slogans, Hindi Posters, Hindi Quotes with images wallpapers || Hindi Thoughts || Hindi Suvichar, Hindi & English Status, Hindi MSG Messages 140 words text, Hindi wishes, Best Hindi Tips & Tricks, Hindi Dadi maa ke Gharelu Nuskhe, Hindi Biography jeevan parichay jivani, Cute Hindi Poems poetry || Awesome Kavita, Hindi essay nibandh, Hindi Geet Lyrics, Hindi 2 sad / happy / romantic / liners / boyfriend / girlfriend gf / bf for facebook ( fb ) & whatsapp, useful 1 one line rs मिलेंगे. हमारे Website में दी गई चिकित्सा सम्बन्धित जानकारियाँ / Upay / Tarike / Nuskhe केवल जानकारी के लिए है, इनका उपयोग करने से पहले निकट के किसी Doctor से सलाह जरुर लें.

5 comments

  1. Subhash pandit

    Very good poems on raksha bandhan ,desh bhakti

  2. Neetu Nahar

    I love this poem because it is fantasty

  3. Anonymous

    I like it very much

  4. umang grover

    I love it
    Very gud
    Keep it up…..

  5. harish rawat

    I love it

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!