पत्नी पर हिन्दी कविता – Poem For Wife in Hindi – Patni Par Kavita

पत्नी पर हिन्दी कविता – Poem For Wife in Hindi – Poem For Wife in Hindi – Poem For Wife in Hindi – Patni Par Kavita
पत्नी पर हिन्दी कविता - Poem For Wife in Hindi - Patni Par Kavita

 

  • मेरी पत्नी

 

  • उसका इस कदर पहली बार मिलना
    हमारे इश्क का पहला पैगाम था
    उसको देखकर इस कदर दिल का धड़कना,
    उसको देखकर साँसों का तेजी से चलना
    उसकी सजरी जवानी का पैगाम था
    उसकी पैरों के पाजेब की छनक
    हाथों के खनकते कंगन
    उसके मेरे पास होने का एहसास कराते हैं..
    उसके माथे का कुमकुम वो मेरी है,
    ये भरोसा दिलाते हैं…………
    जब वो मेरी लम्बी उम्र के लिए
    भूखे पेट रहकर करवाचौथ का व्रत रखती है
    तो सच कहता हूँ यारों वो बहुत प्यारी लगती है
    ऑफिस में जाकर वो काम करती है
    और घर पर जाकर बच्चों का ख्याल रख माँ का धर्म निभाती है
    जनता हूँ जीवन के हर सुख-दुख में वो मेरी जीवनसाथी है
    खुद कितनी भी परेशान क्यों न हो
    अपनी परेशानी का एहसास तक नहीं दिलाती है
    अपनी हर ख्वाहिश को मेरे परिवार के लिए
    बलि चढा़ देती है
    यारों ये पत्नियाँ क्यों हमेशा इतनी अच्छी होती है ?
    अगर मेरे आँखो में आ जाए आँसू
    तो वो अपने आपको सजा देती है
    क्युँकि ये पत्नियाँ बहुत अच्छी होती हैं
    इन्हें कभी ना तोड़ना क्योंकि
    ये फुल की कलियाँ बडी़ खूबसूरत होती है
    क्योंकि ये भी किसी की बेटी
    किसी की बहन होती हैं
    ये पत्नियाँ बहुत अच्छी होती हैं
    – Rachna Kumari
  • Meri Patni

    usaka is kadar pahalee baar milana
    hamaare ishk ka pahala paigaam tha
    usako dekhakar is kadar dil ka dhadakana,
    usako dekhakar saanson ka tejee se chalana
    usakee sajaree javaanee ka paigaam tha
    usakee pairon ke paajeb kee chhanak
    haathon ke khanakate kangan
    usake mere paas hone ka ehasaas karaate hain..
    usake maathe ka kumakum vo meree hai,
    ye bharosa dilaate hain…………
    jab vo meree lambee umr ke lie
    bhookhe pet rahakar karavaachauth ka vrat rakhatee hai
    to sach kahata hoon yaaron vo bahut pyaaree lagatee hai
    ophis mein jaakar vo kaam karatee hai

  • aur ghar par jaakar bachchon ka khyaal rakh maan ka dharm nibhaatee hai
    janata hoon jeevan ke har sukh-dukh mein vo meree jeevanasaathee hai
    khud kitanee bhee pareshaan kyon na ho
    apanee pareshaanee ka ehasaas tak nahin dilaatee hai
    apanee har khvaahish ko mere parivaar ke lie
    bali chadha detee hai
    yaaron ye patniyaan kyon hamesha itanee achchhee hotee hai ?
    agar mere aankho mein aa jae aansoo
    to vo apane aapako saja detee hai
    kyunki ye patniyaan bahut achchhee hotee hain
    inhen kabhee na todana kyonki
    ye phul kee kaliyaan badee khoobasoorat hotee hai
    kyonki ye bhee kisee kee betee
    kisee kee bahan hotee hain
    ye patniyaan bahut achchhee hotee hain

 

अगर आप कविता, शायरी, Article इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए. अपनी रचनाएँ हिन्दी में टाइप करके भेजिए.

SHARE

1 COMMENT

  1. kya bat h wah g patni ke bare me itne achi soch bahut khub I LIKE THIS POEM

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here