भारतीय सैनिकों पर कविता – Poems On Indian Soldiers in Hindi

Poems On Indian Soldiers in Hindi – भारतीय सैनिकों पर कविता – Poems On Indian Soldiers in Hindi – Poems On Indian Soldiers in Hindi

 

  • “अब रहम नहीं करूँगा मैं”

 

  • मैं जगा रहूँगा रात-दिन,
    चाहे धूप हो या बरसात हो,
    चाहे तूफान आये या पूस की ठंढी रात हो,
    मैं खड़ा रहूँगा सरहद पर सीना ताने,
    चाहे गोलियों की बौछार हो,
    चाहे न खाने को कुछ भी आहार हो,
    अपने “वतन” की खातिर मैं,
    हर दर्द हँस के सह लूँगा,
    निकले जो खून बदन से मेरे,
    मैं खुश हो लूँगा,
    कभी आँखों में रेत भी चल जाए तो,
    वादा है, मेरी पलकें नहीं झपकेगी,
    लहू भी जम जाए अगर जो सीने में,
    मेरे हाथ बंदूक नीचे नहीं रखेगी,
    दुश्मन के घर मेरे “वतन” के चट्टानों का एक टुकड़ा भी न जा पायेगा,
    जमींदोज कर दूँगा मैं काफ़िर तुमको,
    जो मेरी धरती की तरफ आँख उठाएगा,
    कितना भी दुर्गम रास्ता हो,
    किंचित भी नहीं डरूँगा मैं,
    चप्पे-चप्पे पर रहेगी नजर मेरी,
    देश के गद्दारों पर अब रहम नहीं करूँगा मैं।
    – हिमांशु शर्मा ‘हेमु’
  • ab raham nahin karoonga main”
    main jaga rahoonga raat-din,
    chaahe dhoop ho ya barasaat ho,
    chaahe toophaan aaye ya poos kee thandhee raat ho,
    main khada rahoonga sarahad par seena taane,
    chaahe goliyon kee bauchhaar ho,
    chaahe na khaane ko kuchh bhee aahaar ho,
    apane “vatan” kee khaatir main,
    har dard hans ke sah loonga,
    nikale jo khoon badan se mere,
    main khush ho loonga,
    kabhee aankhon mein ret bhee chal jae to,
    vaada hai, meree palaken nahin jhapakegee,
    lahoo bhee jam jae agar jo seene mein,
    mere haath bandook neeche nahin rakhegee,
    dushman ke ghar mere “vatan” ke chattaanon ka ek tukada bhee na ja paayega,
    jameendoj kar doonga main kaafir tumako,
    jo meree dharatee kee taraph aankh uthaega,
    kitana bhee durgam raasta ho,
    kinchit bhee nahin daroonga main,
    chappe-chappe par rahegee najar meree,

 

अगर आप कविता, शायरी, Article इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए. अपनी रचनाएँ हिन्दी में टाइप करके भेजिए.

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here