पॉजिटिव थिंकिंग कोट्स इन हिन्दी – Positive Thinking Quotes in Hindi About Life Status

Positive Thinking Quotes in Hindi – positive thinking in hindi status – positive thinking quotes in hindi – positive thinking in hindi language – positive thinking quotes about life in hindi

 

  • कई बार जिंदगी में बड़ी जीत हासिल करने के लिए छोटे-मोटे हारों से सबक मिलने जरूरी होते हैं.
    → छोटे-मोटे हार हीं बड़े जीत की नींव रखते हैं.

 

  • उतार-चढ़ाव जीवन का हिस्सा हैं, न तो जीतने पर खुद को अपराजेय समझिए और न हारने पर अपनी क्षमता पर संदेह कीजिए.
    → अपनी क्षमता भी जानिए और अपनी सीमा भी.
  • किसी व्यक्ति का चेहरा उसके चरित्र को नहीं बताता है. किसी व्यक्ति का चेहरा भी सुंदर हो और उसका चरित्र भी अच्छा हो, ऐसा हमेशा नहीं होता है.
    → चेहरे अक्सर झूठ बोला करते हैं, आदमी की असलियत तो वक्त बताता है.
  • दूसरे के कर्तव्यों को ढोने वाले लोग, दूसरों को हर तरह से भ्रष्ट बना देते हैं.
  • जहाँ केवल अधिकार की बात होती है, कर्तव्य का जिक्र तक नहीं होता है. वहाँ अधिकार जहर से भी अधिक विषैला हो जाता है.
  • खुद को इतना कमजोर कभी मत बनने दो, कि तुम्हें किसी के एहसान की जरूरत हो.
  • अगर कोई जान-बूझ कर आपको आपके लक्ष्य से भटका रहा है तो आप उसकी तरफ से पूरी तरह से ध्यान हटा दें.
  • कई बार हार इसलिए जरूरी होता है, ताकि हमें यह पता चल सके कि हमने कौन-कौन सी गलतफहमियाँ पाल ली थी.
    à हार जाइए, लेकिन हार मत मानिए.
  • कई बार हमें ऐसे कड़े फैसले लेने पड़ते हैं, जो हमें खुद भी पसंद नहीं होते हैं. लेकिन यही कड़े फैसले आने वाले अच्छे भविष्य की नींव रखते हैं.
  • उन लोगों से दूर रहिए जो हमेशा आपकी तारीफ करते रहते हैं, और आपके गलत होने पर भी आपकी चापलूसी करते रहते हैं.
  • दूसरों के कारण न तो दबाव में आइए और न तनाव में.
  • न तो हर बार तुम सही फैसले ले हो सकते हो, न तो हर बार मैं सही फैसला ले सकता हूँ. इसलिए अगर मैं गलती से हार जाउँ तो यह मत समझना कि मैं वापसी नहीं करूंगा. थोड़ा समय लगेगा, लेकिन मैं सारी मुश्किलों को हराकर फिर जीतूँगा.

 

  • आपके हारने पर आपकी सार्वजनिक रूप से आलोचना करने वाले लोग निश्चित रूप से आपके शुभचिंतक नहीं हैं. शुभचिंतक अकेले में कमियाँ बताते हैं, सार्वजनिक रूप से आलोचना करने वाले लोग केवल अपने मन की भड़ास निकाल रहे होते हैं. सार्वजनिक रूप से आलोचना करने वाले लोगों की बात सुननी चाहिए लेकिन उनकी बातों को दिल पर नहीं लेना चाहिए.

 

अगर आप कविता, शायरी, Article इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here