ना जानें क्यूँ अजीब सी है ये ज़िन्दगी – Sad Poem In Hindi on Life

Sad Poem In Hindi on Life – Sad Poem In Hindi on Life – ना जानें क्यूँ अजीब सी है ये ज़िन्दगी – Sad Poem In Hindi on Life
ना जानें क्यूँ अजीब सी है ये ज़िन्दगी - Sad Poem In Hindi on Life

 

  • ना जानें क्यूँ अजीब सी है ये ज़िन्दगी

 

  • ना जानें क्यूँ अजीब सी है ये ज़िन्दगी
    एक पल में है कोई, तो दूसरे पल में कोई नहीं.
    मैं तो हूँ यहाँ… पर मेरा मन है और कहीं
    ना जाने क्यूँ अजीब सी है ये ज़िन्दगी.
    हर एक पल कुछ गँवाया तो दूसरे हीं पल कुछ नया पाया
    कभी कोई रूठा हमसे, तो कभी किसी ने हमें मनाया.
    कभी जिंदगी ने हमें रुलाया, तो कभी इसने हमें हंसाया.
    ना जाने क्यूँ अजीब सी है ये ज़िन्दगी.
    बहुत से रिश्ते दिए.. इसने माँ की ममता, पिता का प्यार
    दादी की कहानी तो दादा का दुलार.
    कभी किसी ने अपनाया तो कभी किसी ने झटके से हाथ छुड़ाया.
    ना जाने क्यूँ अजीब सी है ये ज़िन्दगी.
    कभी ज़ोर से गिराया तो कभी हौसले से ऊपर उठाया.
    कभी थोड़ा फीका सा तो कभी थोड़ा मीठा सा बनाया.
    कभी किसी परीक्षा में फेल तो कभी किसी परीक्षा में पास कराया.
    पर हर एक परीक्षा से इसने हमें बहुत कुछ सिखाया.
    भले ही हुए कभी फेल पर हमेशा इसने ज्ञान का सागर बढ़ाया.
    हर एक परिश्रम से कुछ नया हीं सिखाया.
    ना जाने क्यूँ अजीब सी है ज़िन्दगी
    एक पल में है कोई और दूसरे पल में कोई नहीं.
    एक पल में है कोई और दूसरे पल में कोई नहीं.
    – आँचल वर्मा
    na jaanen kyoon ajeeb see hai ye zindagee
    ek pal mein hai koee, to doosare pal mein koee nahin.
    main to hoon yahaan… par mera man hai aur kaheen
    na jaane kyoon ajeeb see hai ye zindagee.
    har ek pal kuchh ganvaaya to doosare heen pal kuchh naya paaya
    kabhee koee rootha hamase, to kabhee kisee ne hamen manaaya.
    kabhee jindagee ne hamen rulaaya, to kabhee isane hamen hansaaya.
    na jaane kyoon ajeeb see hai ye zindagee.
    bahut se rishte die.. isane maan kee mamata, pita ka pyaar
    daadee kee kahaanee to daada ka dulaar.
    kabhee kisee ne apanaaya to kabhee kisee ne jhatake se haath chhudaaya.
    na jaane kyoon ajeeb see hai ye zindagee.
    kabhee zor se giraaya to kabhee hausale se oopar uthaaya.
    kabhee thoda pheeka sa to kabhee thoda meetha sa banaaya.
    kabhee kisee pareeksha mein phel to kabhee kisee pareeksha mein paas karaaya.
    par har ek pareeksha se isane hamen bahut kuchh sikhaaya.
    bhale hee hue kabhee phel par hamesha isane gyaan ka saagar badhaaya.
    har ek parishram se kuchh naya heen sikhaaya.
    na jaane kyoon ajeeb see hai zindagee
    ek pal mein hai koee aur doosare pal mein koee nahin

 

अगर आप कविता, शायरी, Article इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए. अपनी रचनाएँ हिन्दी में टाइप करके भेजिए.

SHARE

3 COMMENTS

  1. nice poem
    mai bhi apna poem bhej sakta hu agar bhej sakta hu to kaise

  2. Comment: pahli bar kisi ki bat ko itni soch kar padha h hamne

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here