गणतन्त्र दिवस पर कविता – Short Poem On Republic Day in Hindi

Short Poem On Republic Day in Hindi – गणतन्त्र दिवस पर कविता – Short Poem On Republic Day in Hindi – Short Poem On Republic Day in Hindi – Short Poem On Republic Day in Hindi – gantantra diwas kavita
गणतन्त्र दिवस कविता - Short Poem On Republic Day in Hindi - Gantantra Diwas Kavita

 

  • गणतंत्र दिवस

 

  • गणतंत्र दिवस है हमारा त्यौहार
    आओ मिलकर मनाएँ इसे हम सब यार
    आज के दिन सौगात मिली, खुशियों की बहार मिली
    आओ तिरंगा लहरायें,  झूमें नाचें खुशियाँ मनाएँ हम
    देश के लिए सबको जीना सिखलाएँ हम
    खुद कुछ बड़ा कर जाएँ हम, आओ मिलकर खुशिया मनाएँ हम
    26 जनवरी 1950 को हमारा संविधान लागू हुआ
    विश्व के सबसे बड़े संविधान का खिताब पाया हमने  
    वीरों ने संघर्ष किए, तब आजाद भारत पाया हमने
    लोकतंत्र है जिसकी पहचान ऐसा भारत हमें मिला
    भारतीयों के हित का रक्षक गणराज्य हमारा स्थापित हुआ
    इस दिन राजपथ पर राष्ट्रपति तिरंगा फहराते हैं
    इस दिन सभी संविधान के प्रति कृतज्ञता प्रकट करते हैं
    इस दिन सब मिलकर अमर वीरों को नमन करते हैं
    हम भी इस दिन शपथ लें कि कुछ ऐसा कर जायँगे
    अपनी भारत माता का हम भी सम्मान बढ़ाएंगे
    उठो जागो देश के युवाओं और एक जुट हो जाओ
    भारत माँ के प्रति अब तुम अपने कर्तव्य निभाओ  
    वीरों के बलिदानों से तुम सब सीख लेते जाओ
    अपने-अपने दिलों में देशभक्ति की ज्योति जलाओ
    हम सब मिलकर अपने तिरंगे की शान बढ़ाएंगे
    बड़े ही धूम-धाम से हम गणतंत्र दिवस मनाएंगे
    गणतंत्र दिवस है हमारा त्यौहार
    आओ मिलकर मनाएँ इसे हम सब यार
    – आँचल वर्मा
  • ganatantr divas hai hamaara tyauhaar
    aao milakar manaen ise ham sab yaar
    aaj ke din saugaat milee, khushiyon kee bahaar milee
    aao tiranga laharaayen, jhoomen naachen khushiyaan manaen ham
    desh ke lie sabako jeena sikhalaen ham
    khud kuchh bada kar jaen ham, aao milakar khushiya manaen ham
    26 janavaree 1950 ko hamaara sanvidhaan laagoo hua
    vishv ke sabase bade sanvidhaan ka khitaab paaya hamane
    veeron ne sangharsh kie, tab aajaad bhaarat paaya hamane
    lokatantr hai jisakee pahachaan aisa bhaarat hamen mila
    bhaarateeyon ke hit ka rakshak ganaraajy hamaara sthaapit hua
    is din raajapath par raashtrapati tiranga phaharaate hain
    is din sabhee sanvidhaan ke prati krtagyata prakat karate hain
    is din sab milakar amar veeron ko naman karate hain
    ham bhee is din shapath len ki kuchh aisa kar jaayange
    apanee bhaarat maata ka ham bhee sammaan badhaenge
    utho jaago desh ke yuvaon aur ek jut ho jao
    bhaarat maan ke prati ab tum apane kartavy nibhao
    veeron ke balidaanon se tum sab seekh lete jao
    apane-apane dilon mein deshabhakti kee jyoti jalao
    ham sab milakar apane tirange kee shaan badhaenge
    bade hee dhoom-dhaam se ham ganatantr divas manaenge
    ganatantr divas hai hamaara tyauhaar
    aao milakar manaen ise ham sab yaar

 

अगर आप कविता, शायरी, Article इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए. अपनी रचनाएँ हिन्दी में टाइप करके भेजिए.

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here