बेटा हूँ मैं – Short Poems in Hindi With Moral – शार्ट पोएम

Short Poems in Hindi With Moral – बेटा हूँ मैं – Short Poems in Hindi With Moral – Short Poems in Hindi With Moral – Short Poems in Hindi With Moral
बेटा हूँ मैं - Short Poems in Hindi With Moral

 

  • बेटा हूँ मैं

 

  • बहनों से अच्छा नहीं हूँ
    ये पता है मुझे
    पर इतना नकारा भी नहीं
    जितना नकारा समझा है सबने मुझे
    मेरे दर्द को भी कोई सुने, कुछ कहना चाहता हूँ मैं
    पिताजी व्यस्त हैं, घर चलाने में
    माँ व्यस्त है घर सम्भालने में
    मैं किसी से कुछ नहीं कह पाता
    पर मैं चाहता हूँ कोई मुझे भी समझे,
    थोड़ी देर कोई मेरी बात भी सुने
    बहनों के शादी की चिंता मुझे भी खूब सताती है
    कई बार मेरी रातों की नींद भी उड़ जाती है
    जब माँ के पसन्द की चीजें नहीं ला पाता हूँ
    तो सच मानिए अपने जीवन को व्यर्थ पाता हूँ
    पर ये दर्द मैं किसी से कह नहीं पाता हूँ,
    पिताजी के जूते अब मेरे पैरों में आ जाते हैं
    ख़ुश होने से ज़्यादा मैं छुप-छुप कर रोता हूँ
    क्योंकि पिताजी के बराबर का हो गया हूँ मैं
    पर फिर भी आज भी पिताजी हीं कमाने जाते हैं
    मेरे दर्द को भी कोई सुने
    अपने आप को सबसे हारा हुआ पाता हूँ मैं
    कोई मेरा भी दर्द सुने, कुछ कहना चाहता हूँ मैं
    बेटियों से कम नहीं हूँ मैं, जिम्मेदारियाँ निभाने में
    बहनों का ख्याल रखने वाला प्यारा भाई हूँ मैं
    माँ-पिता के कंधों के बोझ को कम करने वाला बेटा हूँ मैं
    सबसे अलग… सबसे अनूठा हूँ मैं, क्योंकि बेटा हूँ मैं
    – दीपक शर्मा
  • bahanon se achchha nahin hoon
    ye pata hai mujhe
    par itana nakaara bhee nahin
    jitana nakaara samajha hai sabane mujhe
    mere dard ko bhee koee sune, kuchh kahana chaahata hoon main
    pitaajee vyast hain, ghar chalaane mein
    maan vyast hai ghar sambhaalane mein
    main kisee se kuchh nahin kah paata
    par main chaahata hoon koee mujhe bhee samajhe,
    thodee der koee meree baat bhee sune
    bahanon ke shaadee kee chinta mujhe bhee khoob sataatee hai
    kaee baar meree raaton kee neend bhee ud jaatee hai
    jab maan ke pasand kee cheejen nahin la paata hoon
    to sach maanie apane jeevan ko vyarth paata hoon
    par ye dard main kisee se kah nahin paata hoon,
    pitaajee ke joote ab mere pairon mein aa jaate hain
    khush hone se zyaada main chhup-chhup kar rota hoon
    kyonki pitaajee ke baraabar ka ho gaya hoon main
    par phir bhee aaj bhee pitaajee heen kamaane jaate hain
    mere dard ko bhee koee sune
    apane aap ko sabase haara hua paata hoon main
    koee mera bhee dard sune, kuchh kahana chaahata hoon main
    betiyon se kam nahin hoon main, jimmedaariyaan nibhaane mein
    bahanon ka khyaal rakhane vaala pyaara bhaee hoon main
    maan-pita ke kandhon ke bojh ko kam karane vaala beta hoon main
    sabase alag… sabase anootha hoon main, kyonki beta hoon main
SHARE