Breaking News

तिरंगा पर कविता – Tiranga Jhanda Hindi Kavita Poem Poetry Lines पंक्तियाँ

Tiranga Jhanda Hindi Kavita – poem on tiranga in hindi – tiranga poem in hindi – hindi poem on tiranga – tiranga jhanda poem in hindi – hindi poem on tiranga jhanda

 

  • तिरंगा पर कविता – Tiranga Jhanda Hindi Kavita Poem Poetry Lines पंक्तियाँ

 

  • तिरंगा

    बेशक आसमान में लहरा रहा हो
    मगर सच ये है कि…
    खफा हमसे अपना तिरंगा है
    और हो भी क्यों ना
    हम आजाद तो हैं
    मगर समझदार नहीं
    यहाँ इंसान को ही इंसान से प्यार नहीं
    कोई अलगाववाद के गीत गा रहा है
    तो किसी को भारत पराया नजर आ रहा है
    कोई मजहब के नाम पर लोगों में जहर घोल रहा है
    कोई देशद्रोहियों के बोल,कोई देशद्रोह की भाषा बोल रहा है
    वो किसान जो हम सबका अन्नदाता है
    वो खुद को कर्ज में डूबा पाता है
    मजदूर जो सबके घर बनाता है
    वो खुद को झोपड़ी में पाता है
    हमारे फौजी सीमा पर शहीद हो रहे हैं
    तभी हम सभी चैन से घरों में रह रहे हैं
    तिरंगा भी सोचता होगा कि
    क्यों जाति और धर्म देखकर
    सरकारें सुविधाएँ बाँटती है
    क्यों वो कमजोरों के साथ पक्षपात करती हैं
    हमारा तिरंगा हमसे उम्मीद करता है कि
    हम एक साथ मिलकर आगे बढ़ें
    हम एक साथ मिलकर नये कीर्तिमान गढें
    – आंचल वर्मा

  • tiranga jhanda hindi kavita

    beshak aasamaan mein lahara raha ho
    magar sach ye hai ki…
    khapha hamase apana tiranga hai
    aur ho bhee kyon na
    ham aajaad to hain
    magar samajhadaar nahin
    yahaan insaan ko hee insaan se pyaar nahin
    koee alagaavavaad ke geet ga raha hai
    to kisee ko bhaarat paraaya najar aa raha hai
    koee majahab ke naam par logon mein jahar ghol raha hai
    koee deshadrohiyon ke bol,koee deshadroh kee bhaasha bol raha hai
    vo kisaan jo ham sabaka annadaata hai
    vo khud ko karj mein dooba paata hai
    majadoor jo sabake ghar banaata hai
    vo khud ko jhopadee mein paata hai
    hamaare phaujee seema par shaheed ho rahe hain
    tabhee ham sabhee chain se gharon mein rah rahe hain
    tiranga bhee sochata hoga ki
    kyon jaati aur dharm dekhakar
    sarakaaren suvidhaen baantatee hai
    kyon vo kamajoron ke saath pakshapaat karatee hain
    hamaara tiranga hamase ummeed karata hai ki
    ham ek saath milakar aage badhen
    ham ek saath milakar naye keertimaan gadhen
    – aanchal varma

 

अगर आप कविता, शायरी, Article इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए.

Previous 31 दिल को छूने वाले कोट्स लाइन विचार Dil ko Chune Wale Quotes in Hindi
Next लव स्टोरी कहानी True Love Stories in Real life in hindi prem kahani प्रेम कहानी

Check Also

Rani Padmavati Poem in Hindi – रानी पद्मावती का जौहर कविता Padmini kavita

Rani Padmavati poem in hindi – Rani Padmavati Poem in Hindi – रानी पद्मावती का जौहर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.