Breaking News

Zindagi Status in Hindi for Whatsapp – जिंदगी स्टेटस इन हिंदी फॉर व्हाट्स एप्प

zindagi status in hindi for whatsapp – zindagi status in hindi for whatsapp – zindagi status in hindi for whatsapp

 

  • Zindagi Status in Hindi for Whatsapp – जिंदगी स्टेटस इन हिंदी फॉर व्हाट्स एप्प

 

  • ए जिन्दगी

  • देखा है करीब से तुझे…
    ए जिन्दगी बदलते हुए
    जो साथ चले कभी…
    उन लम्हों को देखा है फिसलते हुए
    डरता हूँ फिसल ना जाऊँ कहीं
    अन्धेरी राहों में यूं बढ़ते हुए
    देखी है बहुत हमने
    वक्त की मार चलते हुए
    देखा है करीब से तुझे…
    ए जिन्दगी बदलते हुए
    ना चांद बदले ना तारें बदलें
    पर बदल गये वो…
    जो थे कभी साथ चलते मेरे
    कांप उठता है मेरा रूह देख कर
    किसी का घर उजड़ते हुए
    देखा है करीब से तुझे…
    ए जिन्दगी बदलते हुए
    मैं रहूँ …ना रहूँ ….
    दिलों से जुड़ा तेरा याद रहे
    यादे हटे नहीं दिलों से कभी
    सदा नया कोई पैगाम रहे
    हमेशा से ही रहा है
    अरमानों की चिता जलते हुए
    देखा है करीब से तुझे…
    ए जिन्दगी बदलते हुए
    कहीँ चूक ना हो जाये मुझसे
    आ सम्भाल अब मुझको आकर
    कैसे चूकाये एहसान उनका
    जो पकड़े हैं हाथ कभी आकर
    खायी है बहुत ठोकरें
    मैने चलते हुए
    देखा है करीब से तुझे…
    ए जिन्दगी बदलते हुए
    कैसे भुलाएं उनको जो हंसते हैं
    मेरे  ख्यालों पर
    इस तरह बिखर गये मेरे अरमां कि
    क्या सोचूं अपने  हालातों पर
    कैसे भुलाएं गमें दास्तां
    छप गया है नाजुक दिल के दिवारों पर ..
    यूँ ही बीत गये वक्त
    दिलों में गम छिपाते हुए
    बस जल रहा हूं  मैं
    बदलते हालातों में मिलते हुए
    देखा है करीब से तुझे…
    ए जिन्दगी बदलते हुए
    – गौतम गोविन्द

 

  • e jindagee

  • dekha hai kareeb se te …
    e jindagee badalate hue
    jo saath chale kabhee …
    un lamhon ko dekha gaya phisalate hue
    darata hoon phisal na jaan kaheen
    andhaaree maargon mein yoon badhate hue
    dekha hai bahut ham
    samay kee maar chalate hue
    dekha hai kareeb se te …
    e jindagee badalate hue
    na chaand badala nahin taaron badalen
    par badal gaya vo …
    jo bhee kabhee chalate mere
    kaamp uthata hai mera rooh dekhakar
    kisee ka ghar hal karana
    dekha hai kareeb se te …
    e jindagee badalate hue
    main rahoon … na rahoon ….
    dilon se juda tera yaad rakhana
    yaade hate na dilon se kabhee
    sada naya koee paigaam raha
    hamesha se hee raha hai
    aramaanon kee chita jalatee huee
    dekha hai kareeb se te …
    e jindagee badalate hue
    kaheen chook na ho jaaye se mujhe
    aana ab mere paas aakar
    kaise chakaye ehasaan unakee
    jo pakade hain haath kabhee aakar
    khaee hai bahut thokane
    maine chalate hue
    dekha hai kareeb se te …
    e jindagee badalate hue
    kaise bhool gae unako jo hansate hain
    mera khyaal par
    is prakaar ke vichar gae mere aramaan ki
    kya sochu apane haalaat par
    kaise bhulae gam daastaan
    chhap gaya hai naajuk dil kee deevaaron par ..
    yoon hee beet gaya samay
    dilon mein gam chhipate hue
    bas jal raha hoon main
    badalate haalaat mein milate hue
    dekha hai kareeb se te …
    e jindagee badalate hue
    – gautam govind

 

अगर आप कविता, शायरी, Article इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए.

Previous History of Jharkhand in Hindi gk – झारखण्ड का इतिहास jharkhand information
Next Hindi Bhasha ka Mahatva par Nibandh Anuched हिंदी भाषा का महत्व पर निबंध

Check Also

मोटिवेशनल व्हाट्सअप स्टेटस हिंदी Best Motivational Status in Hindi Language

best motivational status in hindi language – motivational status in hindi language – best motivational status …

One comment

  1. Ganesh Godik

    Nice

  2. अच्छी रचना गौतम गोविन्द जी बधाइयां ! मेरी रचना आपके स्वागत में-
    “दुःख -सुख आते- जाते ”
    संकट सा दौर पड़ें ना किसी पे –
    दुःख सुख तो आते जाते हैं !
    अवसाद जब जीवन घेर लेता ‘
    सम्बन्धी भी घबराते हैं |
    निज गुस्सा सिर चढ़ बोले ,
    धर-घर कलह कराता है |
    मानो नीद को पर लग जाता ,
    बैठे -बैठे भोजन आता |
    बातें अपनी मनवाने में ,
    जीवन जानो भर जाता है |१|
    धर मुहल्ला रूठा-रूठा सा ,
    अपने में मन मद माता है |
    कुछ भी अपने पास नहीं जो
    जी अन्दर -अन्दर घबराता है |
    कभी -कभी मन में पल आता ,
    कौन पाप हमको खाता है |
    भव-भूत -प्रेत सो चाव चढ़े ,
    भाव अच्छत-चन्दन बढ़ जाता |२|और मन में नव अभिलाषा ……..|

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: