Hindi Poem Kavita Poetry

हैप्पी न्यू ईयर कविता हिन्दी में – Happy New Year Poem in Hindi :

हैप्पी न्यू ईयर कविता हिन्दी में - Happy New Year Poem in Hindi

Happy New Year Poem in Hindi – हैप्पी न्यू ईयर कविता हिन्दी में हैप्पी न्यू ईयर कविता हिन्दी में –  Happy New Year Poem in Hindi – नये वर्ष की नयी चाह नया वर्ष है नयी उमंगेनयी आस है जीवन मेंनई सोच है नयी तरंगेनयी प्यास है जीवन मेंकरना है कुछ नया नया अबनयी बहार है जीवन मेंसपने को सच करना …

Read More »

Unique कविताएँ – Unique Poem in Hindi Different Poetry Kavita :

Unique कविताएँ - Unique Poem in Hindi Different Poetry Kavita

Unique कविताएँ – Unique Poem in Hindi Different Poetry Kavita Unique कविताएँ – Unique Poem in Hindi Different Poetry Kavita छवि मैं बनती हूँ देर से बिगड़ती हूँ जल्दी में पहली बार में ही स्थापित होती हूँ मेरे बनने बिगड़ने का नाता संस्कार से है संज्ञा जो भी हो पति-पत्नी माता-पिता भाई-बहन शिष्य-शिक्षक मित्र-शत्रु पिता-पुत्र राजा-प्रजा शासक-प्रशासक नेता-अभिनेता नायक-खलनायक दुनिया …

Read More »

मेरी डायरी के पन्ने – Meri Dairy Se Quotes Poem Shayari Status in Hindi Diary Ke Panne :-

मेरी डायरी के पन्ने - Meri Dairy Se Quotes Shayari Status in Hindi Meri Diary Ke Panne

मेरी डायरी के पन्ने – Meri Dairy Se Quotes Shayari Status in Hindi Meri Diary Ke Panne मेरी डायरी के पन्ने – Meri Dairy Se Quotes Poem Shayari Status in Hindi Meri Diary Ke Panne तुम पास हो कभी कभी रौशनी का ना होना भीअच्छा लगता हैक्योंकि ऐसे में अक्सरपास आती हैं तुम्हारी यादें…..पल दो पलतुम्हें अपनी स्मृतियों मेंमहसूस कर …

Read More »

लाल बहादुर शास्त्री पर कविता – Poem On Lal Bahadur Shastri in Hindi

लाल बहादुर शास्त्री पर कविता - Poem On Lal Bahadur Shastri in Hindi

लाल बहादुर शास्त्री पर कविता – Poem On Lal Bahadur Shastri in Hindi Poem On Lal Bahadur Shastri in Hindi .लाल बहादुर शास्त्रीदो अक्टूबर का दिन क्या खूब थाजन्म लिया बालक ने नाम लाल थाबचपन गरीबी में गुजरा न मलाल थाशिक्षा क़ो लेकर सजग माँ का लाल था  .जय जवान , जय किसानदिया था जिन्होने   नारासत्य और साधारणतःथा जिनको जाँ …

Read More »

वीर रस के उदाहरण – Veer Ras Ke Udaharan :

वीर रस के उदाहरण - Veer Ras Ke Udaharan

वीर रस के उदाहरण – Veer Ras Ke Udaharan वीर रस के उदाहरण – Veer Ras Ke Udaharan साजि चतुरंग सैन अंग मैं उमंग धारि,सरजा सिवाजी जंग जीतन चलत है ।भूषन भनत नाद बिहद नगारन के,नदी नद मद गैबरन के रलत हैं ॥ बुन्देले हर बोलो के मुख हमने सुनी कहानी थीखूब लड़ी मर्दानी वो तो झाँसी वाली रानी थी …

Read More »

सुमित्रानंदन पन्त की कविताएँ – Sumitranandan Pant Poems in Hindi :

सुमित्रानंदन पन्त की कविताएँ - Sumitranandan Pant Poems in Hindi

सुमित्रानंदन पन्त की कविताएँ – Sumitranandan Pant Poems in Hindi सुमित्रानंदन पन्त की कविताएँ – Sumitranandan Pant Poems in Hindi यादबिदा हो गई साँझ, विनत मुख पर झीना आँचल धर,मेरे एकाकी आँगन में मौन मधुर स्मृतियाँ भर!वह केसरी दुकूल अभी भी फहरा रहा क्षितिज पर,नव असाढ़ के मेघों से घिर रहा बराबर अंबर!मैं बरामदे में लेटा, शैय्या पर, पीड़ित अवयव,मन …

Read More »

माखनलाल चतुर्वेदी की कविताएँ – Makhanlal Chaturvedi Poem in Hindi

माखनलाल चतुर्वेदी की कविताएँ - Makhanlal Chaturvedi Poem in Hindi

माखनलाल चतुर्वेदी की कविताएँ – Makhanlal Chaturvedi Poem in Hindi माखनलाल चतुर्वेदी की कविताएँ – Makhanlal Chaturvedi Poem in Hindi पुष्प की अभिलाषा चाह नहीं, मैं सुरबाला केगहनों में गूँथा जाऊँ,चाह नहीं प्रेमी-माला में बिंधप्यारी को ललचाऊँ,चाह नहीं सम्राटों के शव परहे हरि डाला जाऊँ,चाह नहीं देवों के सिर परचढूँ भाग्य पर इठलाऊँ,मुझे तोड़ लेना बनमाली,उस पथ पर देना तुम …

Read More »

गोपाल दास नीरज की कविताएँ || Gopal Das Neeraj Poems in Hindi

Gopal Das Neeraj Poems in Hindi

Gopal Das Neeraj Poems in Hindi: गोपाल दास नीरज की कविताएँ दिल को छू लेती हैं. इनकी रचनाएँ हर किसी को एक बार जरुर पढ़नी चाहिए. नीरज की कविताओं में गहराई है. इस पोस्ट में दिए गए गोपाल दास नीरज के कविताओं की सूचि ( List of Poems of Gopal Das Neeraj given in this post ) 1. है बहुत …

Read More »

जयशंकर प्रसाद की कविताएँ – Jaishankar Prasad Poems in Hindi

जयशंकर प्रसाद की कविताएँ - Jaishankar Prasad Poems in Hindi Kavitayein

This post contains जयशंकर प्रसाद की कविताएँ – Jaishankar Prasad Poems in Hindi. जयशंकर प्रसाद की कविताएँ – Jaishankar Prasad Poems in Hindi Kavitayein बीती विभावरी जाग री – जयशंकर प्रसाद की कविता बीती विभावरी जाग री!अम्बर पनघट में डुबो रहीतारा-घट ऊषा नागरी!खग-कुल कुल-कुल-सा बोल रहाकिसलय का अंचल डोल रहालो यह लतिका भी भर ला‌ई-मधु मुकुल नवल रस गागरीअधरों में …

Read More »

रामधारी सिंह दिनकर की कविता – Ramdhari Singh Dinkar Poem in Hindi :

रामधारी सिंह दिनकर की कविता - Ramdhari Singh Dinkar Poem in Hindi

रामधारी सिंह दिनकर की कविता – Ramdhari Singh Dinkar Poem in Hindi रामधारी सिंह दिनकर की कविता – Ramdhari Singh Dinkar Poem in Hindi शक्ति और क्षमा क्षमा, दया, तप, त्याग, मनोबलसबका लिया सहारापर नर व्याघ्र सुयोधन तुमसेकहो, कहाँ, कब हारा?क्षमाशील हो रिपु-समक्षतुम हुये विनत जितना हीदुष्ट कौरवों ने तुमकोकायर समझा उतना ही।अत्याचार सहन करने काकुफल यही होता हैपौरुष का …

Read More »