Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages
Latest Posts - इन्हें भी जरुर पढ़ें ➜

Desh Bhakti Patriotic Poetries

12 अटल बिहारी वाजपेयी की कविताएँ | Atal Bihari Vajpayee Poems in Hindi kavitayen

Atal Bihari Vajpayee Poems in Hindi

Atal Bihari Vajpayee Poems in Hindi दोस्तों आज हम आपके लिए अटल बिहारी वाजपेयी  12 कवितायें लाये हैं. (Atal Bihari Vajpayee Poems in Hindi). हमें विश्वास है कि आपको यह प्रस्तुति पसंद आएगी. पन्द्रह अगस्त की पुकार | Hindi Poemपंद्रह अगस्त का दिन कहता –आज़ादी अभी अधूरी है।सपने सच होने बाकी है,रावी की शपथ न पूरी है।।जिनकी लाशों पर पग धर …

Read More »

सुभाषचंद्र बोस पर छोटी लेकिन अद्भुत कविता | Subhash Chandra Bose par Kavita :

Subhash Chandra Bose par Kavita | सुभाषचंद्र बोस पर छोटी लेकिन अद्भुत कविता

Subhash Chandra Bose par Kavita – नेताजी सुभाषचंद्र बोस पर कविता नेताजी सुभाषचंद्र बोस पर छोटी लेकिन अद्भुत कविता जब भी पराधीनता का हो सामना, जब विदेशी स्वदेश पर करे प्रताड़ना, हे सुभाष! तब फिर तुम जन्म लेना, फिर हमको ‘आज़ाद हिंद फौज’ देना, फिर तुम खून के बदले आज़ादी देना, फिर विजय उद्घोष करे वो बोस की सेना, भ्रष्ट …

Read More »

सुभाषचंद्र बोस पर 3 हिंदी कविता Poem on Subhash Chandra Bose in Hindi font :

Poem on Subhash Chandra Bose in Hindi font - सुभाषचंद्र बोस पर हिंदी कविता

Poem on Subhash Chandra Bose in Hindi – सुभाषचंद्र बोस पर हिंदी कविता Poem on Subhash Chandra Bose in Hindi – 1 सुभाषचंद्र बोस पर हिंदी कविता सुभाष की मृत्यु पर दूर देश में किसी विदेशी गगन खंड के नीचे सोये होगे तुम किरनों के तीरों की शैय्या पर मानवता के तरुण रक्त से लिखा संदेशा पाकर मृत्यु देवताओं ने होंगे …

Read More »

7 देशभक्ति कविता || Short Patriotic Poems in Hindi A Poem By Famous Poets

देशभक्ति कविता - Short Patriotic Poems in Hindi

Patriotic Poems in Hindi  देशभक्ति कविता 1st Patriotic Poems in Hindi हिंदुस्तान बसा दे अंतर के तिमिर मिटा दो माता।ज्ञान की नवज्योति जला दो माँ।।सद्बुद्धि दे सबको माँ तू भारती।भवसागर से हम सबको तार दे।।निर्मल मन में आकर माता तू।हुम् सब के सोये भाग जगा दे।।गीत के नव शब्द देकर माँ हमें।नव सृजन की लेखनी थमा दे।।संगीत की झनकार गुंजा …

Read More »

11 देशभक्ति कविताएँ || Patriotic poems in Hindi by famous poets desh bhakti

Patriotic poems in Hindi by famous poets देशभक्ति कविताएँ desh bhakti kavita

patriotic poems in hindi by famous poets – देशभक्ति कविताएँ  desh bhakti kavita हिमाद्रि तुंग शृंग से – Patriotic poems in Hindi by famous poets हिमाद्रि तुंग शृंग से प्रबुद्ध शुद्ध भारतीस्वयं प्रभा समुज्ज्वला स्वतंत्रता पुकारती‘अमर्त्य वीर पुत्र हो, दृढ़- प्रतिज्ञ सोच लो,प्रशस्त पुण्य पंथ है, बढ़े चलो, बढ़े चलो!’असंख्य कीर्ति-रश्मियाँ विकीर्ण दिव्य दाह-सीसपूत मातृभूमि के- रुको न शूर साहसी!अराति सैन्य …

Read More »

भारत पर 4 कविता || Poem On India in Hindi India par Hindi Kavita poetries

Poem On India in Hindi - पोएम ऑन इंडिया इन हिंदी India par Hindi Kavita

Poem On India in Hindi – पोएम ऑन इंडिया इन हिंदी Poem On India in Hindi देशभक्तों की निद्रा जब-जब लोकतंत्र से जयचन्दों को अभयदान मिलेगातब-तब भारत माता असहनीय दुःख पायेगी………….जब-जब न्याय अमीरों की जागीर बनेगा तब-तब गरीब मुजरिम ठहराया जायेगा………….जब-जब मिडिया टीआरपी की भूखी होगीतब-तब अर्धसत्य दिखाया जाएगा………….जब-जब फिल्में अश्लीलता परोसेंगी तब-तब कई ज़िंदगियाँ तबाह होंगी………….जब-जब इतिहासकार मुगलों की …

Read More »

8 देशभक्ति कविता हिन्दी में short Desh Bhakti Poem in Hindi desh bhakti kavita

Short Desh Bhakti Poem in Hindi देशभक्ति कविता हिन्दी में Desh Bhakti Kavita

Tags : desh bhakti poem in hindi hindi poem desh bhakti shayari desh bhakti kavita desh bhakti poem desh bhakti kavita in hindi short hindi poems patriotic poem hindi desh bhakti shayari hindi best poem hindi hindi kavita desh bhakti poem hindi for kids poem ondependence day hindi desh bhakti desh bhakti shayari hindi language short desh bhakti poem hindi desh …

Read More »

स्वतन्त्रता दिवस कविता Independence day Poems in Hindi Indian swatantrata

Independence day Poems in Hindi Indian swatantrata

Independence Day Poems in Hindi language  – स्वतंत्रता दिवस पर कविता Independence day Poems in Hindi स्वतन्त्रता की कीमत  अगर आजादी को बचाना चाहते हो, तो देश के लिए लहू बहाना होगाजो देश की खातिर जीते-मरते हैं, उनके आगे अपना शीश झुकाना होगाजो चाहते हो, जय हिन्द का नारा बुलंद रहे, तो तुम्हें सुभाष बन जाना होगा…………अगर अकबर को उसकी औकात …

Read More »
error: Content is protected !!