इन्हें भी जरुर पढ़ें ➜
Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Women Health size after marriage dry face lips देखभाल dekhbhal टेस्ट up pregnancy प्रेगनेंसी गर्भावस्था faide advantage chilke छिलके गुण gun phayde juice joos जूस रस ras उपयोग plan dieting khatam खत्म

10 खतरनाक सेक्स पोजीशन || Dangerous Sex Positions in Hindi about info

Dangerous Sex Positions in Hindi – 10 Dangerous Sex Positions in Hindi – खतरनाक सेक्स पोजीशन – 10 Dangerous Sex Positions in Hindi – खतरनाक सेक्स पोजीशन – Dangerous Sex Positions in Hindi – 10 Dangerous Sex Positions in Hindi || खतरनाक सेक्स पोजीशन about info – 10 Dangerous Sex Positions in Hindi || खतरनाक सेक्स पोजीशन about info
खतरनाक सेक्स पोजीशन - Dangerous Sex Positions in Hindi

 

  • सेक्स का आनंद लेने के लिए अलग-अलग सेक्स पोजीशन ट्राई करना कोई बुरी बात नहीं. इससे सेक्स लाइफ में नयापन आता है. लेकिन कुछ सेक्स पोजीशन जोखिम भरे हो सकते हैं. तो आइए हम ऐसे सेक्स पोजीशन के बारे में जानते हैं जिन्हें करने से आपको बचना चाहिए क्योंकि वे आपको नुकसान पहुंचा सकते हैं.

 

  • खतरनाक सेक्स पोजीशन :

  • वूमन ऑन टॉप- सेक्स करने के दौरान अक्सर पुरुष की दिलचस्पी महिलाओं को ऊपर ( वूमन ऑन टॉप )
    रखने की होती है, लेकिन ऐसा करना पुरुषों के लिए खतरनाक साबित हो सकता है क्योंकि पुरुषों के
    जननांग में फ्रैक्‍चर ( पेनाइल फ्रैक्चर ) के अधिकांश मामले इसी सेक्स पोजिशन के कारण सामने आते हैं.
  • कनाडा में हुए रिसर्च के अनुसार, वूमन ऑन टॉप पोजिशन सबसे खतरनाक सेक्स पोजिशन है,

    जो पुरुष जननांग में फ्रैक्‍चर ( पेनाइल फ्रैक्चर ) का मुख्य कारण बनती है. जननांग में फ्रैक्‍चर

    होने के बाद पेनिस में दर्द या सूजन होने की शिकायत रहती है.

  • वूमेन ऑन टॉप पोजिशन में प्राय: महिला अपने पूरे वजन के साथ गति को नियंत्रित करती है.
    इसमें महिला के अचानक गलत दिशा में चले जाने के कारण पेनाइल फ्रैक्चर होता है.
  • बॉडी बिल्डर पोजीशन – बॉडी बनाने में यह पोजीशन उपयोगी है, लेकिन सेक्स में यह पोजीशन आपको
    और आपके साथी को नुकसान पहुंचा सकती है. इसमें इंटरकोर्स के दौरान महिला साथी के लिए स्टिल
    रहना थोड़ा मुश्किल होता है. इस पोजीशन में पुरुष महिला को अपने हाथों और थाइस पर पूरी तरह से
    रोक कर रखता है, जिससे उसके पैरों पर अधिक जोर पड़ता है. वहीं यदि महिला की कमर को ठीक से
    सहारा ना मिले तो वह गिर सकती है.
  • ब्‍लम्‍पिकन पोजीशन – यह पोजीशन सेक्स पोजीशन से ज्यादा सेक्स एक्ट है. इस पोजीशन में ब्लोजॉब
    यानी ओरल सेक्स अधिक होता है. इस पोजीशन को करने में महिला की आँखों को नुकसान पहुँच सकता है.
    ब्लोजॉब के दौरान यदि सीमन के छीटें महिला की आंखों में पड़ जाए, तो महिला को आंखों से संबंधित समस्या हो सकती है.
  • पाइल ड्राइवर पोजीशन – इस पोजीशन को बेड या जमीन पर किया जाता है. लेकिन इसे करते समय महिला
    का आधा शरीर बिस्तर पर टिका होता है और पैर घूमकर महिला की मुँह की तरफ आते हैं. इस पोजीशन में
    इंटरकोर्स आनंददायक होता है. लेकिन इसे करते समय पुरुष का पूरा वजन महिला के ऊपर आ जाता है और
    संतुलन बिगड़ने से इस पोजीशन से महिला की गर्दन को चोट लग सकती है.
  • ऐनल टू वैजाइना – ऐनल सेक्स के साथ-साथ मेन इंटरकोर्स जोखिम भरा होता है. यदि पुरुष सेक्स के बीच में ऐनल सेक्स करने लगे और फिर दोबारा सेक्स करने लगे तो ये सेक्स एक्ट महिला के लिए खतरनाक हो सकता है. क्योंकि सेक्स के साथ-साथ ऐनल सेक्स करने से कई बैक्टीरिया शरीर में चले जाते हैं जिससे महिला को बैक्टीरियल इंफेक्‍शन हो सकता है.

  • पेयर ऑफ टॉन्‍ग पोजीशन – इस पोजीशन में महिला पूरी तरह से पुरुष के सहारे पर होती है और महिला का केवल एक हाथ ही जमीन पर टिका होता है. और ऐसे में यदि महिला का हाथ जमीन से हट जाए या संतुलन बिगड़ जाए तो दोनों को ही गंभीर चोट लग सकती है. क्योंकि इस पोजीशन में मसल्स पर बहुत भार पड़ता है, महिला को इसे करते समय या बाद में दर्द भी हो सकता है.
  • स्टैडिंग काउगर्ल पोजीशन – इस पोजीशन को महिलाएं और पुरुष दोनों ही भी खूब पसंद करते हैं,
    क्योंकि इससे उन्हें ऑर्गेज्म जल्दी होता है. लेकिन इस पोजीशन में भी महिला का पूरा वजन पुरुष पर होता है.
    और यदि पुरुष का संतुलन बिगड़ जाए तो महिला को चोट लगने की आशंका बढ़ जाती है.
  • स्टैंडिंग 69 पोजीशन – कई जोड़ों को यह पोजिशन बहुत आनंददायक लगती है. इसमें महिला पुरुष साथी के ऊपर पीठ करके बैठ जाती है जिससे पूरा वजन एक ही पार्टनर पर आ जाता है. इस अवस्था में थकान अधिक होती है और पसीना भी ज्यादा आता है जिस कारण शरीर फिसलने लगता है. और ऐसे में यदि गलती से भी कोई फिसल जाए तो उसे गंभीर चोट लग सकती है.
  • 16 लव शायरी इन हिंदी लैंग्वेज Love shayari in Hindi Language All Time Best

 

आई पिल के 28 साइड इफ़ेक्ट फायदे I Pill side effects in hindi tablet नुकसान प्रभाव

I Pill Side Effects in Hindi – i pill side effects in hindi – i pill tablet use in hindi – i pill side effects on periods in hindi – i pill tablet in hindi – i pill use in hindi – i pill tablet side effects in hindi – i pill tablet details in hindi – i pill side effects on future pregnancy in hindi – i pill tablet information in hindi – how to use i pill tablet in hindi – how to use i pill in hindi I Pill Side Effects in Hindi

 

  • I Pill के फायदे और नुकसान

 

  • आजकल बाजार में कई आपातकालीन गर्भनिरोधक उपलब्ध हैं, इनमें I Pill एक जाना-पहचाना नाम है. I Pill, एक आपातकालीन गर्भनिरोधक गोली है. I Pill को असुरक्षित सेक्स या गर्भनिरोधक की असफलता के 72 घंटे के भीतर लेने पर गर्भ ठहरने की सम्भावना खत्म हो जाती है. तो आइए जानते हैं कि I Pill के क्या-क्या फायदे हैं और इसके क्या-क्या नुकसान हैं.
  • I Pill के फायदे और नुकसान:
  • I Pill एक आपातकालीन गर्भनिरोधक गोली है.
  • असुरक्षित सेक्स या गर्भनिरोधक के काम न करने पर I Pill को सेक्स के 72 घंटे के भीतर लेने से गर्भ ठहरने की सम्भावना खत्म हो जाती है
  • I Pill एचआईवी संक्रमण या अन्य यौन संचारित रोगों से सुरक्षा नहीं देती है.
  • यह अनचाहे गर्भ को रोकने में प्रयोग की जाती है और यह गर्भपात की दवा नहीं है.
  • I Pill का नवजात शिशु की माँ के दूध की गुणवत्ता, मात्रा या शिशु के विकास पर प्रभाव नहीं पड़ता है.
  • इसे असुरक्षित सेक्स के बाद जल्द-से-जल्द लेना चाहिए.
  • असुरक्षित सेक्स के 24 घंटे के भीतर खाने से इसके असर करने की सम्भावना 95% होती है.
  • असुरक्षित सेक्स के 48 घंटे के भीतर खाने से इसके असर करने की सम्भावना 85% होती है.

  • असुरक्षित सेक्स के 72 घंटे के भीतर खाने से इसके असर करने की सम्भावना 58% होती है.
  • I Pill, Overall एक अच्छी आपातकालीन गर्भनिरोधक गोली है, और इसके साइड इफ़ेक्ट नहीं के बराबर हैं.
  • अगर आप पहले से गर्भवती हैं, तो यह दवा आपके लिए उपयोगी नहीं है.
  • इसे खाने से पहले इसकी Expiry Date जरुर देख लेनी चाहिए.
  • अगर खाने के 2 घंटे के भीतर उल्टी हो जाए, तो आपको इसकी एक और गोली लेनी चाहिए.
  • असुरक्षित सेक्स के 72 घंटे के बाद इस गोली को खाने से कोई फायदा नहीं होता है.
  • I Pill को कुछ खाने के बाद पानी के साथ खाना चाहिए, इसे खाली पेट नहीं खाना चाहिए.
  • इसे खाने के बाद आपको पेट दर्द हो सकता है.
  • इसे खाने के बाद आपको बेचैनी हो सकती है, और उल्टी भी हो सकती है.
  • आपको चक्कर आ सकते हैं और सिरदर्द भी हो सकता है.
  • आपके स्तनों में दर्द हो सकता है, आपके स्तनों में थोड़े दिनों के लिए जरूरत से ज्यादा कोमलता आ सकती है.
  • इसे लेने के बाद आपके पीरियड्स के रक्तस्राव और पैटर्न अनियमित हो सकते हैं.

  • इसेलेने के बाद आपके पीरियड्स के Date बदल सकते हैं, पीरिड्स या तो बहुत जल्दी आ सकते हैं या पीरियड देर से शुरू हो सकती है.
  • इसे लेने के बाद पीरियड्स के रक्तस्राव बहुत कम या बहुत ज्यादा हो सकता है.
  • आपको हर बार या लगातर I Pill का उपयोग नहीं करना चाहिए. आपको कॉन्डोम या किसी अन्य गर्भनिरोधक उपाय का प्रयोग करना चाहिए.

 

  • निम्न परिस्थितियों में आपको I Pill लेने से पहले डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए :
  • अगर आपको ब्रेस्ट कैंसर हो.
  • अगर आप गर्भवती हों.
  • Agar किसी खास बीमारी की दवाएँ आप खा रही हों.
  • अगर आपको सुगर, ब्लडप्रेशर, या दिल की बीमारी हो.
  • आप बहुत ज्यादा कमजोर हों.
  • 15 unwanted 72 side effects in hindi अनवांटेड 72 के नुकसान प्रभाव goli dosage

 

सफेद पानी के 21 इलाज || Safed pani ka ilaj leucorrhea likoria upay श्वेत प्रदर

Safed pani ka ilaj White Discharge Treatment in Hindi – श्वेत प्रदर ( सफेद पानी ) का घरेलू इलाज – Safed pani ka ilaj leucorrhea likoria – safed pani medicine – safed pani ke gharelu nuskhe in hindi –  likoria problem home treatment in hindi – likoria treatment in hindi language – likoria ka gharelu ilaj in hindi – likoria treatment at home in hindi – likoria ka desi ilaj in hindi  – likoria disease in hindi language – likoria ke lakshan in hindi – likoria problem solution in hindi
Safed pani ka ilaj

 

  • Safed pani ka ilaj leucorrhea likoria 

 

  • स्त्रियों की योनी से सफेद पानी का बहना एक साधारण समस्या है. इसमें योनी से पानी जैसा स्त्राव होता है.
    य़ह खुद कोई रोग नहीं है. लेकिन यह स्त्रियों के लिए बड़ी परेशानी का सबब बन जाता है. इसके कारण
    चिड़चिड़ापन, पैर-हाथ में दर्द इत्यादि का सामना करना पड़ता है. तो आइए हम जानते हैं कि घरेलू उपायों
    द्वारा कैसे श्वेत प्रदर को खत्म किया जा सकता है. आपको क्या-क्या करना चाहिए और क्या-क्या नहीं.
  • श्वेतप्रदर होने के सम्भावित कारण :
  • योनी में संक्रमण होने के कारण.
  • शरीर में खून की कमी होने से.
  • गुप्तांग की नियमित ढंग से साफ-सफाई नहीं करने से.
  • गर्भाशय में घाव होने के कारण.
  • बहुत जल्द-जल्द बार-बार गर्भपात करना.
  • किसी बीमारी की दवा बहुत लम्बे समय तक लेने के कारण.
  • पीरियड्स के दौरान गंदे कपड़ों के उपयोग करने से.
  • सस्ती और सिंथेटिक पैंटी पहनने के कारण .
  • ल्यूकोरिया से प्रभावित महिला की पैंटी पहनने से.
  • योनी में hair remover cream के उपयोग से.
  • योनी के बाल हटाने के लिए किसी दूसरे के रेजर के उपयोग से.
  • ल्यूकोरिया के लक्ष्ण :
  • शारीरिक श्रम करने पर जल्दी थक जाना.
  • आँखों के चारों तरफ गोलाइयों का नजर आना.
  • कमर के निचले भाग में और पिंडलियों में दर्द होना.
  • श्राव का अत्यधिक चिपचिपा, तार जैसा या गरम् पानी जैसा होना.
  • श्राव पीले रंग का भी हो सकता है.
  • बदबू वाला श्राव होना. श्राव बिना बदबू वाला भी हो सकता है.

 

  • श्वेत प्रदर ( सफेद पानी ) की समस्या खत्म करने के घरेलू उपाय :
  • हर दिन कच्चा टमाटर खाना शुरू करें.
  • सुबह-शाम 2 चम्मच प्याज का रस और उतनी हीं मात्रा में शहद मिलाकर पिएँ.
  • जीरा भूनकर चीनी के साथ खाने से फायदा होगा.
  • आंवले का रस और शहद लगातार 1 महीने तक सेवन करें. इससे श्वेत प्रदर ठीक हो जायेगा.
  • हर दिन केला खाएँ, इसके बाद दूध में शहद डालकर पिएँ. इसके आपकी सेहत भी अच्छी होगी और
    श्राव के कारण होने वाली कमजोरी भी दूर होगी. कम-से-कम तीन महीने तक यह उपाय करें, दूध के
    ठंडा हो जाने के बाद उसमें शहद डालें.
  • कच्चे केले की सब्जी खाएँ.
  • अगर आपके शरीर में खून की कमी है, तो खून बढ़ाने के लिए हरी सब्जियाँ, फल, चुकन्दर इत्यादि खाएँ.
  • 1 केला लें, उसे बीच से काट लें. उसमें 1 ग्राम फिटकरी भर दें, इसे दिन या रात में एक बार खाएँ.
    लेकिन ध्यान रखें कि अगर दिन में खाना शुरू किया तो, दिन में हीं खाएँ. और अगर रात में खाना
    शुरू किया हो, तो रात में हीं खाएँ.
  • तले-भूने चीज या मसालेदार चीज नहीं के बराबर खाएँ.

 

  • Safed pani ka ilaj योनी की साफ-सफाई का ध्यान रखें.

  • मैदे से बनी चीजें न खाएँ.
  • एक बड़ा चम्मच तुलसी का रस लें, और उतनी हीं मात्रा में शहद लें. फिर इसे खा लें. इससे आपको
    आराम मिलेगा.
  • . अनार के हरे पत्ते लें, 25-30 पत्ते…. 10-12 काली मिर्च के साथ पीस लें. इसमें आधा ग्लास पानी
    डालें, फिर छानकर पी लीजिए. ऐसा सुबह-शाम करें.
  • भूने चने में खांण्ड (गुड़ की शक्कर) मिलाकर खाएँ, इसके बाद 1 कप दूध में देशी घी डाल कर पिएँ.
  • 10 ग्राम सोंठ का, एक कप पानी में काढ़ा बनाकर पिएँ. ऐसा एक महीने तक करें.
  • पीपल के 2-4 कोमल पत्ते लेकर, पीस लें. फिर इसे दूध में उबालकर पिएँ.
  • 1 चम्मच आंवला चूर्ण लें और 2-3 चम्मच शहद लें. और इन्हें आपस में मिलाकर खाएँ.
    ऐसा एक महीने तक करें.
  • खूब पानी पिएँ.

 

  • सिंघाड़े के आटे का हलुआ और इसकी रोटी खाएँ.
  • 3 ग्राम शतावरी या सफेद मूसली लें, फिर इसमें 3 ग्राम मिस्री मिलाकर, गर्म दूध के साथ इसका सेवन करें.
  • नागरमोथा, लाल चंदन, आक के फूल, अडूसा चिरायता, दारूहल्दी, रसौता, इन सबको 25-25 ग्राम लेकर पीस लें. पौन लीटर पानी में उबालें, जब यह आधा रह जाय तो छानकर उसमें 100 ग्राम शहद मिलाकर दिन में दो बार 50-50 ग्राम सेवन करें.
  • माजू फल, बड़ी इलायची और मिस्री को बराबर मात्रा में पीस लें. एक सप्ताह तक दिन में तीन बार लें. एक सप्ताह के बाद फिर दिन में एक बार 21 दिन तक लें.
  • पीरियड्स के हैवी ब्लीडिंग को कम करने के उपाय – Heavy Bleeding During Periods in Hindi

 

ब्रेस्ट कम करने के 19 टिप्स | Breast Kam Karne Ke Tips in Hindi size decrease

Breast Kam Karne Ke Tips in Hindi – ब्रेस्ट कम करने के टिप्स – breast kam karne ka tarika – breast kam karne ki cream – breast kam karne ke tips in hindi – breast kam karne ki exercise – breast kam karne ki exercise videos – breast kam karne ke gharelu nuskhe in hindi – breast kam karne ke upay hindi me – Breast Kam Karne Ke Tips in Hindi – Breast Kam Karne Ke Tips in Hindi – breast ko kaise kam kare – breast kam karne ke upay – breast kam karne ki exercise in hindi – breast ko kam karne ke upay in hindi – breast kam karne ka yoga – breast kam karne ki dawa – breast kam karne ki medicine – breast ko kam karne ke tips – breast kam karne ke tarike – breast kam karne ke upay in hindi breast ko tight karne ke upay – how to reduce breast size fast in hindi – breast kam karne ke upay hindi me – how to decrease breast size in hindi – breast ko kaise kam kare – how to lose breast size in hindi – how to tight loose breast in hindiब्रेस्ट का आकार कैसे कम करें – ब्रेस्ट का आकार कैसे कम करें – breast size decrease tips in hindi – breast size decrease tips in hindi
Breast Kam Karne Ke Tips in Hindi

 

  • ब्रेस्ट का आकार कम करने के उपाय

 

  • एक ओर स्तनों का आकार छोटा होना, जहाँ स्त्रियों में हीन भावना भर देता है, तो दूसरी ओर स्तनों का आकार बहुत बढ़ जाना भी उनके लिए परेशानियाँ पैदा करता है. स्तनों का आकार न तो बहुत छोटा होना चाहिए और न तो बहुत बड़ा. स्तनों का आकार ज्यादा बढ़ जाने से महिलाओं को रीड़ की हड्डी और कंधे में दर्द की समस्या हो सकती है, कई अन्य समस्याओं का उन्हें सामना करना पड़ता है. तो आइए जानते हैं कि कौन से उपाय और तरीके आजमाकर आप अपने स्तनों का आकार कम कर सकती हैं. क्या-क्या चीजें आपको करनी होंगी और क्या-क्या नहीं.
    स्तनों (ब्रेस्ट) का आकार कम करने के उपाय :
  • अगर आप मोटापे से ग्रस्त हैं, तो पहले अपना वजन कम कीजिए. वजन कम किये बिना मोटी स्त्रियों
    के स्तनों का आकार कम नहीं हो सकता है.
  • सही फिटिंग वाली ब्रा पहनिए, सही फिटिंग वाले ब्रा स्तनों को बेडौल होने से रोकते हैं.

  • पैकेट बंद और डिब्बा बंद चीजें, तली हुई चीज़ें कम खाइए.
  • हर दिन कार्डियो एरोबिक्स करना शुरू कीजिए, इससे आपके स्तनों की चर्बी कम होगी.
  • साइकलिंग या ब्रिस्क वाक करने से भी ब्रेस्ट का आकार प्राकृतिक तरीके से कम होता है.
  • अगर आप ऐसे डांस स्टेप्स करती हैं, जिससे छाती के हिस्से में मूवमेंट होती हो, तो यह भी स्तन का
    आकार कम करने में मदद करेगा.
  • मसाज के जरिए भी स्तनों की चर्बी को कम किया जा सकता है. हालांकि इस तरीके से स्तनों का आकार
    कम होने में थोड़ा लम्बा समय लगेगा. मसाज के लिए आप किसी भी प्राकृतिक तेल का उपयोग कर सकती हैं.
  • एक कप गर्म पानी में पीसा हुआ अदरक और एक चम्मच शहद मिलाकर पिएँ. यह स्तनों की चर्बी को कम
    करने का एक असरदार तरीका है.
  • एक दिन में 2 बार ग्रीन टी पीने से स्तनों के आकार को कम करने में मदद मिलती है.
  • सप्ताह में दो बार, अंडे के सफेद भाग में एक चम्मच प्याज का रस मिलाकर पीने से आपके स्तनों में
    कठोरता आएगी और इसका आकार कम दिखने लगेगा.
  • एक मुठ्ठी नीम के पत्ते को उबाल लें, फिर इसमें थोड़ी हल्दी और एक चम्मच शहद मिला दलें.
    फिर पानी के साथ इसे खाएँ, कुछ सप्ताह में असर दिखना शुरू हो जायेगा.
  • खाना समय से खाएँ और पेट भरने से थोड़ा कम खाना खाएँ.
  • घर का खाना खाइए और जंक फ़ूड बिल्कुल मत खाइए.

  • पूरी नींद लीजिए और सुबह जल्दी उठकर व्यायाम कीजिए. सुबह-सुबह सैर पर जाइए.
  • दिन में दो बार शौच जाने की आदत डालिए, एक बार सुबह-सुबह और एक बार रात में सोने से पहले.

 

  • ताम्बे के जग में रात में पानी रखें और सुबह उठकर बिना मुँह धोए जग में रखे पानी को पिएँ, फिर शौच जायें. इससे आपके शरीर की सारी गंदगी साफ हो जाएगी.
  • अगर आप वर्किंग वीमेन हैं, तो आपको खास तौर पर शारीरिक श्रम करना चाहिए.
  • ध्यान रखें अगर आपके बड़े स्तनों का कारण आनुवांशिक है, तो इसका आकार एक हद तक हीं कम होगा.
  • अर्द्ध चक्रासन कीजिए. सीधे खड़े होकर अपने हाथों को एक साथ ऊपर की ओर फैलाइए. हथेलियों की मुटठी बांध लीजिए. हथेलियों को एक साथ मिलाएं. अपने शरीर को ऊपर की ओर खींचें, यह सुनिश्चित करें कि कंधे कान को छुएं.  गहरी सांस लें, अपने शरीर को कूल्हों के सहारे ऊपर की ओर ले जायें.  अपने घुटनों को मोड़ें. यह आसन 1 या 2 minute के लिए करें.
  • आप स्विमिंग भी कर सकती हैं.
  • ब्रेस्ट केयर के 19 टिप्स हिन्दी में – Breast Care Tips in Hindi Font Pain Solution
  • ब्रेस्ट का आकार बढ़ाने के 19 आसान तरीके Breast Size Increase Tips in Hindi
  • औरतों की छाती से जुड़े तथ्य – Aurton Ki Chhati Breast Facts Man Women

 

स्तन कैंसर के 30 लक्षण और कारण Symptoms Of Breast Cancer in Hindi nidan

Symptoms Of Breast Cancer in Hindi – breast cancer symptoms in hindi – symptoms of breast cancer in hindi – breast cancer ke lakshan in hindi – breast cancer kaise hota hai in hindi – ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण – 25 Symptoms Of Breast Cancer in Hindi nidan स्तन कैंसर के लक्षण और कारण – 25 Symptoms Of Breast Cancer in Hindi nidan स्तन कैंसर के लक्षण और कारण
ब्रेस्ट कैंसर कैसे होता है
Symptoms Of Breast Cancer in Hindi

 

  • Symptoms Of Breast Cancer in Hindi

 

  • स्तन कैंसर महिलाओं के लिए एक अभिशाप है. क्योंकि यह जानलेवा तो है हीं, और बच जाने पर भी स्तनों को ऑपरेशन के जरिये निकलना पड़ता है. और स्तनों के बिना किसी भी महिला का व्यक्तित्व अपना आकर्षण खो देता है. तो अगर आप महिला हैं और स्तन कैंसर को लेकर जागरूक नहीं हैं, तो जागरूक हो जाइए…. ताकि आप इस बीमारी से बची रहें. तो आइए जानते हैं कि स्तन कैंसर के प्रारम्भिक लक्षण क्या हैं, शुरुआत में हीं इसकी रोकथाम कैसे की जा सकती है. और हम यह भी जानेंगे कि इस मामले में लापरवाही की आपको क्या-क्या कीमत चुकानी पड़ सकती है. हम स्तन कैंसर के इलाज के बारे में भी जानेंगे.ब्रैस्ट कैंसर के लक्षण :
  • शुरुआत में स्तन कैंसर के लक्षण नजर नहीं आते, लेकिन जैसे-जैसे यह बढ़ता जाता है…… इसके कुछ लक्षण उभरने लगते हैं.
  • स्तन या कांख में कोई गांठ होना. ऐसे गांठ में सामान्यतः दर्द नहीं होता है, लेकिन कभी-कभी हल्की सी चुभन हो सकती है.
  • कांख में सूजन हो जाना.
  • शुरुआत में गांठ का आकार चावल के दाने के बराबर होता है.
  • स्तन में दर्द होना या स्तनों का सामान्य से ज्यादा मुलायम हो जाना या स्तनों का सख्त हो जाना.
  • स्तनों पर खुद-ब-खुद खरोंच पड़ना.
  • स्तनों का रंग, आकार या तापमान बदलना.

  • निप्पलस का आकार या रंग बदल जाना, या उनमें दाने आ जाना. निप्पलस में खुजली होना या झनझनाहट होना.
  • निप्पलस से तरल पदार्थ या खून का निकलना, हाँलाकि कभी-कभी ऐसा दूसरे कारणों से भी हो सकता है.
  • जानकारी की कमी और शर्म की वजह से ज्यादातर महिलाएँ स्तन कैंसर के गम्भीर रूप लेने के बाद हीं डॉक्टर के पास जाती है.
  • मेमोग्राफी टेस्ट करवाने से स्तन कैंसर का पता लगाया जा सकता है. मेमोग्राफी करवाने में ज्‍यादा खर्चा नहीं आता है. 30-35 वर्ष की आयु के बाद हर महिला को यह टेस्ट जरुर करवानी चाहिए.
  • गांठ का आकार समय के साथ बढ़ता जाता है.
  • शीशे के सामने खड़े होकर अपने हाथों को धीरे-धीरे स्तनों पर ऊपर से नीचे की तरफ लायें. कोई गांठ होगी तो आपको अहसास होगा. प्रत्‍येक सप्ताह इस तरह आप खुद गांठ की जाँच कर सकती हैं.स्तन कैंसर के खतरे को बढ़ाने वाले कुछ सम्भावित कारण :
  • देरी से मां बनना.
  • बच्चे को कम समय तक दूध पिलाना.
  • पीरियड का कम उम्र में हीं शुरु हो जाना.
  • रजोनिवृत्ति देर से होना.
  • शराब पीना.
  • धूम्रपान करना.
  • वजन बहुत ज्यादा होना.स्तन कैंसर से बचने के कुछ उपाय :
  • हर दिन व्यायाम करें.
  • भोजन में वसा वाले पदार्थों को खाना कम कर दें.
  • अपना वजन कम करें.
  • किसी भी प्रकार के नशे का सेवन न करें.
  • औरतों की छाती से जुड़े तथ्य बातें Aurton Ki Chhati breast facts man women info

 

अनवांटेड 72 के 33 नुकसान unwanted 72 side effects in hindi प्रभाव goli dosage

how to use unwanted 72 tablet in hindi – how to use unwanted 72 in hindi – unwanted 72 side effects in future pregnancy in hindi – unwanted 72 results in hindi – अनवांटेड 72 – अनवांटेड किट – unwanted 72 price in india – manforce tablet how to use in hindi – unwanted 72 side effects in hindi – unwanted 72 side effects on periods in hindi – unwanted 72 tablet side effects in hindi – unwanted 72 use in hindi – Unwanted 72 Side Effects in Hindi – Unwanted 72 Side Effects in Hindi
unwanted 72 side effects in hindi

 

  • आपातकालीन गर्भनिरोधक गोली how to use unwanted 72 in hindi

 

  • unwanted 72 tablet information in hindi – आजकल बाजार में कई आपातकालीन गर्भनिरोधक साधन उपलब्ध हैं, इनमें अनवांटेड 72 एक Popular नाम है. अनवांटेड 72, एक आपातकालीन गर्भनिरोधक गोली ( emergency contraceptive pill ) है. अनवांटेड 72 को असुरक्षित सेक्स या गर्भनिरोधक की असफलता के 72 घंटे के भीतर लेने पर गर्भ ठहरने की सम्भावना खत्म हो जाती है. आप अनवांटेड 72 किसी भी नजदीकी दवा दुकान से खरीद सकती हैं. तो आइए जानते हैं कि अनवांटेड 72 के क्या-क्या फायदे हैं और इसके क्या-क्या नुकसान हैं.Unwanted 72 के फायदे और नुकसान :
  • असुरक्षित सेक्स के 24 घंटे के भीतर खाने से इसके असर करने की सम्भावना 95% होती है.

  • Unsafe Sex के 48 घंटे के भीतर खाने से इसके असर करने की सम्भावना 85% होती है.
  • unwanted 72 results in hindi असुरक्षित सेक्स के 72 घंटे के भीतर खाने से इसके असर करने की सम्भावना 58% होती है.
  • अनवांटेड 72 HIV infection या किसी अन्य यौन संक्रमण से सुरक्षा नहीं देती है.
  • how to use abortion pills in hindi अनवांटेड 72 Overall एक अच्छी आपातकालीन गर्भनिरोधक गोली है, और इसके साइड इफ़ेक्ट नहीं के बराबर हैं.

  • इसे खाने से पहले इसकी Expiry Date जरुर देख लेनी चाहिए.
  • इसे जल्द से जल्द असुरक्षित सेक्स के बाद लिया जाना चाहिए.
  • अगर अनवांटेड 72 खाने के 2 घंटे के भीतर उल्टी हो जाए, तो आपको इसकी एक और गोली लेनी चाहिए.
  • असुरक्षित सेक्स के 72 घंटे के बाद इस गोली को खाने से कोई फायदा नहीं होता है.
  • अनवांटेड 72 को कुछ खाने के बाद पानी के साथ खाना चाहिए, इसे खाली पेट नहीं खाना चाहिए.
  • abortion pills side effects in hindi इसे खाने के बाद आपको पेट दर्द हो सकता है, लेकिन हर बार इसे खाने के बाद पेट दर्द हो यह भी जरूरी नहीं है.
  • unwanted 72 tablet in hindi इसे खाने के बाद आपको बेचैनी हो सकती है, और उल्टी भी हो सकती है.
  • आपको चक्कर आ सकते हैं और सिरदर्द भी हो सकता है.
  • आपके स्तनों में दर्द हो सकता है, आपके स्तनों में थोड़े दिनों के लिए जरूरत से ज्यादा कोमलता आ सकती है.
  • अगर आपको levonorgestrel से एलर्जी हो तो आपको Unwanted-72 नहीं खाना चाहिए.
  • आपके पीरियड्स के रक्तस्राव और पैटर्न अनियमित हो सकते हैं.
  • unwanted 72 side effects on periods in hindi इससे आपके पीरियड्स के Date बदल सकते हैं, पीरिड्स या तो बहुत जल्दी आ सकते हैं या पीरियड देर से शुरू हो सकती है.
  • Unwanted 72 Side Effects in Hindi पीरियड्स के रक्तस्राव बहुत कम या बहुत ज्यादा हो सकता है.

  • पीरियड्स के बीच में रक्तस्राव हो सकता है.
  • Unwanted-72 को एक नियमित गर्भनिरोधक के रूप में प्रयोग नहीं करना चाहिए.
  • यह एक मौजूदा गर्भावस्था को समाप्त करने में कारगर नहीं है.
  • अस्थानिक गर्भावस्था Ectopic pregnancy के जोखिम इसे लेने के बाद बढ़ जाते है.
  • इस गोली से गर्भपात नहीं होता है, यह गोली केवल गर्भ ठहरने से रोकती है.
  • आपको बार-बार या लगातर अनवांटेड 72 का उपयोग नहीं करना चाहिए. आपको कॉन्डोम या किसी अन्य गर्भनिरोधक उपाय का प्रयोग करना चाहिए.
  • unwanted 72 side effects in future pregnancy in hindi बार-बार इसका उपयोग भविष्य में गर्भवती होने में समस्या पैदा कर सकता है.

 

 

ब्रेस्ट साइज़ बढ़ाने के 23 टिप्स || Breast size Increase tips in Hindi तरीके विधि tip

Breast Size Increase Tips in Hindi – breast care in hindi – breast growth in hindi – breast growth tips by doctors in hindi – breast badhane ke gharelu nuskhe in hindi – exercise for breast growth in hindi – breast increase exercise in hindi – breast badhane ke gharelu upay in hindi – breast size badhane ke gharelu nuskhe in hindi – gharelu nuskhe for breast growth in hindi – breast badhane ka tarika in hindi – breast growth tips in hindi – breast badhane ke upay in hindi – breast size increase tips in hindi – breast increase tips in hindi – breast badhane ke tarike in hindi – how to increase breast size in hindi – breast size increase tips homemade in hindi – breast badhane ki dawa – breast badhane ke gharelu nuskhe in hindi – breast badhane ki exercise – breast badhane ke liye gharelu upay – breast badhane ka oil – breast badhane ke tarike – breast badhane ke tarike in hindi – breast badhane ke liye gharelu tips me – breast ko badhane ke upay ki tablet – breast ko badhane ki medicine – stan badhane ke gharelu upay in hindi – stan badhane ke upay in hindi – ब्रेस्ट का आकार बढ़ाने के आसान तरीके – ब्रेस्ट का आकार बढ़ाने के आसान तरीके – ब्रेस्ट का आकार बढ़ाने के आसान तरीके – Breast Size Increase Tips in Hindi
Breast Size Increase Tips in Hindi

 

  • १९ Breast size Increase tips in Hindi ब्रेस्ट बढ़ाने के आसान तरीके विधि udder सत्न

 

  • बहुत सारी लड़कियाँ अपने स्तनों के आकार को लेकर चिंतित रहती हैं.
    और उनके स्तनों का आकार छोटा होने पर, उनमें हीन भावना घर कर जाती है.
    आइए जानते हैं कुछ ऐसे तरीके जिन्हें आजमाकर आप अपने स्तनों का आकार बिना किसी साइड इफेक्ट्स के बढ़ा पाएंगी.
  • ब्रेस्ट का आकार बढ़ाने के घरेलू टिप्स :

  • आपको हर दिन मुट्ठी भर किशमिश का सेवन कुछ महीनों तक लगातार करना चाहिए, इससे आपके स्तनों के आकार में काफी फर्क आएगा.
  • हर दिन व्यायाम कीजिए, इसके लिए आपको हर दिन सही तरीके से पुश अप करना होगा.अगर आप व्यायाम अच्छे से नहीं करेंगी, तो व्यायाम से आपको फायदा नहीं के बराबर पहुँचेगा.
    दिन में 3 बार 15-15 पुश अप्स कीजिए.
  • Exercise every day
  • पुश अप्स करने के लिए पेट के बल जमीन पर लेट जाइए, फिर अपने शरीर का वजन हाथों और घुटनों पर रखें.
    इसके लिए आपको हथेली के बल पर अपने शरीर को उठाना पड़ेगा, ध्यान रहे कि आपके दोनों हाथ कंधों के नीचे रहें.
    कमर सीधी रखें. फिर अपनी कुहनियों को मोड़ें और सीने को फर्श के नजदीक लाएं.
    फिर वापस पहले वाली स्थिति में लौट जाएँ. इसी प्रक्रिया को बार-बार दोहराएँ. यही प्रक्रिया पुश अप कहलाती है.
  • almond oil breast badhane ka oil hai – हर दिन, रात में सोने से पहले बादाम के तेल से अपने स्तनों पर 5-10 Minute मालिश करें.

  • Every day, make 5-10 minutes massage on your breasts with almond oil before sleeping at night.
  • हर दिन 1 मुट्ठी अखरोट खाने के बाद 1 ग्लास दूध पिएँ.
  • Drink 1 glass of milk every day after eating some nut.
  • 2 चम्मच प्याज, 1/4 चम्मच हल्दी पाउडर और 1 चम्मच शहद लीजिए, इन्हें आपस में मिलाकर लेप बना लीजिए.
    इस लेप को रात में सोने से पहले अपने स्तनों पर गोल-गोल घुमाते हुए मालिश कीजिए.
  • समय से भोजन कीजिए और ध्यान रखें भोजन पौष्टिक होना चाहिए.
  • फल, हरी सब्जियों और अंकुरित अनाज को अपने भोजन में शामिल करें. – Breast size Increase tips in Hindi
  • Add fruits, green vegetables and sprouts to your diet.
  • सेम, मटर और सोयाबीन को अपने हर दिन के भोजन में शामिल करें.
    यह आपके स्तनों के ऊतकों के विकास में मदद करेगा.
  • विटामिन युक्त चीजें ज्यादा खाएँ, इससे आपके स्तन का आकार बढ़ेगा.
  • Eat vitamin-rich food, this will increase your breast size.
    कुछ समय बाद आप अपने स्तनों के आकार में फर्क महसूस करेंगी.
  • खून और आयरन बढ़ाने के लिए खजूर, चुकन्दर, किशमिश पालक, पत्‍ता गोभी, गोभी, शलजम और शकरकंद खाएँ.
  • To increase blood and iron, eat dates, beetroot, raisin spinach, leaf cabbage, turnips and sweet potatoes.
  • यह सुनिश्चित करें कि आपके पीरियड्स नार्मल आएँ. अनियमित पीरियड्स के कारण भी स्तनों के विकास में समस्या होती है.
  • हर दिन अपने स्तनों की मालिश कीजिए.

  • तनावमुक्त रहें.
  • हर दिन फास्टफूड खाने की आदत को अलविदा कहिए.

 

 

कॉन्डोम का उपयोग करने के 19 टिप्स || Condom Use in Hindi meaning nirodh

Condom Use in Hindi language – कॉन्डोम का प्रयोग करने के टिप्स – how to use condom in hindi – what is condom in hindi – condom meaning in hindi – meaning of condom in hindi – कॉन्डोम का प्रयोग – Condom Meaning in Hindi – Condom Meaning in Hindi – कॉन्डोम का प्रयोग – use of condom in hindi – use of condom in hindi कॉन्डोम – कॉन्डोम – Condom Use in Hindi
Condom Use in Hindi

  • Condom Use in Hindi What is Condom Meaning
  • कॉन्डोम प्रेगनेंसी से तो बचाता हीं है, साथ हीं यह यौन संक्रमण और एड्स से भी बचाता है. इसलिए हमें कॉन्डोम से जुड़ी की Basic बातें जाननी चाहिए. ताकि हम कॉन्डोम का सही तरीके से उपयोग कर सकें. तनावमुक्त सेक्स का आनंद लेने के लिए कॉन्डोम से जुड़ी कुछ बातें जननी बहुत जरूरी है. ताकि ऐसा न हो कि कॉन्डोम का उपयोग करने के बावजूद गर्भधारण, यौन संक्रमण या एड्स का खतरा बना रहे.
  • Condom कॉन्डोम के उपयोग से जुड़ी मुख्य बातें :
  • कॉन्डोम के पैकेट को दांत से नहीं खोलना चाहिए, क्योंकि ऐसा करने से कॉन्डोम के फटने की सम्भावना बढ़ जाती है.
  • उत्तेजित होने से पहले कॉन्डोम को नहीं खोलना चाहिए क्योंकि उत्तेजित होने के बाद पहले खोले गए कॉन्डोम को पहनने से…. कॉन्डोम के फटने की सम्भावना बढ़ जाती है.
  • बाजार में Female Condoms भी उपलब्द्ध हैं, जिसका आसानी से उपयोग किया जा सकता है.

  • कॉन्डोम खरीदने से पहले उसकी Expiry Date जरुर देख लें, Expiry Date वाली कॉन्डोम भूलकर भी न लें.
  • कॉन्डोम अच्छी क्वालिटी का हीं खरीदें, सस्ते कॉन्डोम से यौनांगों में संक्रमण भी हो सकता है.
  • अगर आपने कॉन्डोम गलती से उल्टा पहन लिया है, तो फिर उसे सीधा करके न पहनें… क्योंकि इससे कॉन्डोम में शुक्राणु लग सकते हैं, जिससे गर्भधारण की सम्भावना बढ़ जाएगी.
  • कॉन्डोम पहनते समय उसमें हवा न भरें, इससे कॉन्डोम के फटने की सम्भावना बढ़ जाती है.
  • कॉन्डोम पहनने के बाद इसकी नोक पर जगह न छोडें, इससे कॉन्डोम के फटने की सम्भावना बढ़ जाती है.
  • एक बार में Male condom या female condom दोनों में से एक हीं कॉन्डोम का उपयोग करें. दोनों तरह के कन्डोम्स का उपयोग एक साथ न करें.
  • कॉन्डोम का उपयोग करते समय किसी तैलीय या चिकनाई का प्रयोग न करें.

  • कॉन्डोम का उपयोग हो जाने के बाद उससे पहने न रहें, उसे तुरंत कूड़ेदान में फेंक दें.
  • यह कभी न सोचें कि कॉन्डोम के उपयोग से आपको सेक्स का पूरा आनंद नहीं मी मिलेगा.
  • बाजार में कई फ्लेवर के कन्डोम्स उपलब्ध हैं, अपनी साथी के पसंद के अनुसार फ्लेवर का चुनाव करें.
  • कॉन्डोम को पर्स में नहीं रखना चाहिए, न हीं इसे सूरज की रोशनी के सम्पर्क में आने देना चाहिए.
  • कॉन्डोम का उपयोग करने से पहले यह देख लेना चाहिए कि कहीं यह फटा हुआ तो नहीं है.
  • इसके पैकेट में लिखे निर्देशों का पालन करना चाहिए.
  • कॉन्डोम को पैकेट से निकालने के बहुत देर बाद उसका उपयोग नहीं करना चाहिए.
  • एक हीं कॉन्डोम का दोबारा इस्तेमाल भूलकर भी न करें, ऐसा करना बेवकूफी होगी.
  • साफ हाथों से हीं कॉन्डोम पहनें, अन्यथा आप संक्रमण के शिकार हो सकते हैं.
  • कॉन्डोम की खरीददारी के टिप्स – Condom Buying Tips in Hindi Font
  • फीमेल कॉन्डोम उपयोग से जुड़े 12 टिप्स How To Use Female Condom in Hindi
error: Content is protected !!