16 दर्द ए दिल शायरी हिन्दी में Dard E Dil Shayari in Hindi 2 Lines Sms Me :

Dard E Dil Shayari in Hindi font  दर्दे दिल शायरी

  • दर्द ए दिल शायरी हिन्दी में
  • कभी किसी के दिल से खिलवाड़ मत करना
    कभी किसी के दिल का दर्द मत बनना
    जो न दे सको किसी का साथ जिंदगी भर
    कभी किसी से झूठा प्यार मत करना.
  • हुस्न के दीवाने हैं सब यहाँ, दिल की खूबसूरती लुभाती नहीं अब किसी को
    चार पल का नशा है मोहब्बत इनके लिए, सच्ची मोहब्बत अब भाति नहीं इनको
  • किसी और की सूरत में….. ढूंढती है वो मुझे
    पर कैसे समझाऊं उसे कि प्यार हूँ मैं…. नहीं मिलूँगा फिर उसे
  • वो लिखेगी बेबसी के बहाने बेवफाई की दास्तान
    मैं लिखूंगा बेबसी में भी वफा की दास्तान.
  • किसी बेवफा को खुदा कहने से बड़ी भूल क्या होगी
    जो खुद अपनी न हुई, वो मेरी क्या होगी.
  • मेरे हंसते रहने की आदत है पुरानी
    ये जरूरी तो नहीं, कि दिल के दर्द रोकर सबको दिखाए जाएँ.
  • मोहब्बत उसके लिए वक्त गुजारने का एक जरिया भर था
    पर उसे कौन समझाए, कि मोहब्बत कुछ लोगों के जीने का जरिया होता है.
  • बेवफाई करने के बाद तू मुझे मिलने न आना कभी
    ताकि मोहब्बत से पूरी तरह मेरा भरोसा न उठ जाए.
  • हुस्न वालों को देखकर डर लगता है अब मुझे
    कि कहीं हर कोई तेरी तरह बेवफा न हो.
  • हमें जीते जी मार दिया उसने
    प्यार के बदले, उसने मुझे दर्द अपार दिया.
  • जिसे देखो उसकी आँखों में मोहब्बत के आँसू है
    न जाने ये मोहब्बत आशिकों को इतना रुलाता क्यों है.
  • कभी फक्र था जिस मोहब्बत पर मुझे
    अब वही मोहब्बत बुरे ख्वाब की तरह डराती है.
  • मोहब्बत, मोहब्बत न हुई एक छलावा हो गई
    प्यार के वादे किए उसने मुझसे, पर वो किसी और की हो गई.
  • हसीनों की महफिलों में अब हम जाया नहीं करते
    टूटे हुए दिल को और आजमाया नहीं करते.
  • मोहब्बत जब जख्म देती है, तो भले ये जख्म भर जायें
    लेकिन गहरे निशान छोड़ जाते हैं.
  • अब उस पर मेरा कोई हक नहीं रहा
    क्योंकि अब उसके दिल में प्यार न रहा
    जो बस मेरा था कभी, अब मैं उसका हकदार नहीं रहा !

.

4 comments

  1. Anonymous

    Beautiful

  2. Aisha kisku

    Dhoka ek insaan deta hai..
    Or nafrat sbse ho jati h

  3. Anonymous

    Comment:Super
    @
    @@
    @@@
    aaaaaa
    aaaaaaaa

  4. Web Hosting

    Aap se door ho kar hum jayenge kaha, Aap jaisa dost hum payenge kaha, Dil ko kaise bhi sambhal lenge, Par aankho ke aansu hum chupayege kaha.

Leave a Reply

Your email address will not be published.