इन्हें भी जरुर पढ़ें ➜
Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

देशभक्ति के गीत हिंदी में Desh Bhakti Geet in Hindi Written for Kids Lyrics New

desh bhakti geet in hindi written – देशभक्ति के गीत हिंदी में Desh Bhakti Geet in Hindi Written for Kids Lyrics New – desh bhakti par geet in hindi – desh bhakti geet in hindi written – desh bhakti geet in hindi free download – desh bhakti geet in hindi mp3 – desh bhakti geet in hindi for kids – new desh bhakti geet in hindi – desh bhakti geet in hindi lata mangeshkar – desh bhakti geet list in hindi – desh bhakti geet in hindi online – desh bhakti ke geet in hindi – desh bhakti geet in hindi language – desh bhakti geet written in hindi – desh bhakti geet in hindi mp3 free download – download desh bhakti geet in hindi – देश भक्ति गाना  देश भक्ति सांग्स desh bhakti lok geet in hindi – desh bhakti geet in hindi download – desh bhakti geet in hindi video – desh bhakti geet lyrics in hindi – desh bhakti geet in hindi written – desh bhakti geet in hindi pdf – desh bhakti geet in hindi lyrics – hindi desh bhakti geet lyrics in hindi – desh bhakti geet in hindi language lyrics – desh bhakti geet in hindi language written – desh bhakti geet in hindi in written – desh bhakti geet in hindi youtube – desh bhakti ke geet lyrics in hindi – desh bhakti geet in hindi non filmi – lyrics of desh bhakti geet in hindi – देशभक्ति गीत हिंदी – देशभक्ति गीत संग्रह – देशभक्ति के गीत – हिन्दी देशभक्ति गीत
देशभक्ति के गीत हिंदी में Desh Bhakti Geet in Hindi Written for Kids Lyrics New

 

  • Desh Bhakti Geet in Hindi Written

 

rel="stylesheet">
  • सरहद पर बन्दूक

    सरहद पर बन्दूक लिए, वो सैनिक जो खड़ा है.
    माँ की आँखों में उसके, वो पानी जो भरा है.
    जख्म उसके सीने में, जो आज भी हरा है,
    गवाही दे रहा, नहीं कभी वो डरा है,
    छोड़ गया हो दुनिया भले, नहीं लेकिन वो मरा है…
    तिरंगा लिए बचपन में जो, चमक चेहरे पे आती थी,
    सोते हुए रोज़ उसे जो, किस्से माँ सुनाती थी,
    सपनों में भी उसके, परियां नहीं, माँ भारती जो आती थी,
    बेटे को वर्दी में देख, सपने जो माँ सजाती थी,
    वो किस्से नहीं आज चींख हैं, वर्दी नहीं एक टीस है…
    तारीख ने खुद को, फिर आज जो दोहराया है,
    वर्दी में गया था जो, तिरंगा लिपट फिर आया है,
    तब टूटीं थी चूड़ियाँ, आज गया बेटे का साया है,
    पिता की टंगी वर्दी का मान, क्या खूब इसने बढ़ाया है,
    एक माँ पर न्यौछावर कर प्राण, बेटा घर को आया है|
    आती थी याद माँ की आँचल, वो तिरंगे को चूमता था,
    लोरी जो आती याद माँ की, राष्ट्रगान वो सुनता था,
    अपने घर को हर पल याद कर, सरहदओं पर घूमता था,
    सपने में मिल आए माँ से एक पल, सोच आँखें मूँदता था,
    कुर्बान हो इस माटी पर मानो, हर कतरा झूमता था,
    माँ भी इधर अकेले में जब, बेटे को जो याद करती थी,
    एक पल को मान भारी, दूसरे पल वो डरती थी,
    एक आँख खुशी के बूंद, दूसरे में माँ की ममता बहती थी,
    कहना जो होता बेटे से कुछ , उसके खिलौनों से कहती थी,
    अकेले रहकर भी वो, एक पल भी न अकेले रहती थी |
    लेकिन अब जो उस पर बीती है, ना बाकी ये कहानी रही,
    वो खिलौना भी न रहा, वो किलकारियाँ भी अब नहीं,
    एक बार जो दुख सहा था, दोबारे वही घड़ी सही,
    तब भी न कुछ कहा था, अब भी कुछ ना कही,
    माँ तो फिर माँ थी, सब सहकर भी माँ रही…
    – विशाल शाहदेव

 

  • अरुण यह मधुमय देश हमारा

    अरुण यह मधुमय देश हमारा।
    जहाँ पहुँच अनजान क्षितिज को मिलता एक सहारा।।
    सरल तामरस गर्भ विभा पर, नाच रही तरुशिखा मनोहर।
    छिटका जीवन हरियाली पर, मंगल कुंकुम सारा।।
    लघु सुरधनु से पंख पसारे, शीतल मलय समीर सहारे।
    उड़ते खग जिस ओर मुँह किए, समझ नीड़ निज प्यारा।।
    बरसाती आँखों के बादल, बनते जहाँ भरे करुणा जल।
    लहरें टकरातीं अनन्त की, पाकर जहाँ किनारा।।
    हेम कुम्भ ले उषा सवेरे, भरती ढुलकाती सुख मेरे।
    मंदिर ऊँघते रहते जब, जगकर रजनी भर तारा।।
    – जयशंकर प्रसाद jaishankar prasad ki desh bhakti kavita

 

  • भजो भारत को तन-मन से

    भजो भारत को तन-मन से।
    बनो जड़ हाय! न चेतन से॥
    करते हो किस इष्ट देव का आँख मूँद का ध्यान?
    तीस कोटि लोगों में देखो तीस कोटि भगवान।
    मुक्ति होगी इस साधन से।
    भजो भारत को तन-मन से॥
    जिसके लिए सदैव ईश ने लिये आप अवतार,
    ईश-भक्त क्या हो यदि उसका करो न तुम उपकार।
    पूछ लो किसी सुधी जन से।
    भजो भारत को तन-मन से॥
    पद पद पर जो तीर्थ भूमि है, देती है जो अन्न,
    जिसमें तुम उत्पन्न हुए हो करो उसे सम्पन्न।
    नहीं तो क्या होगा धन से?
    भजो भारत को तन-मन से॥
    हो जावे अज्ञान-तिमिर का एक बार ही नाश,
    और यहाँ घर घर में फिर से फैले वही प्रकाश।
    जियें सब नूतन जीवन से।
    भजो भारत को तन-मन से॥
    – मैथिलीशरण गुप्त maithili sharan gupt ki desh bhakti kavita

 

  • लगता है कोई राष्ट्रीय पर्व आज है

  • लगता है कोई राष्ट्रीय पर्व आज है,
    देखो! देशभक्ति गीत बज रहे हैं,
    दुकानों में तिरंगे बिक रहे हैं ।
    वही भष्ट्राचारी नेता भाषण दिए जा रहे हैं,
    फिर वही वादे, फिर वही धोखे किये जा रहे हैं,
    और गणतंत्र के टूटे फूटे गण,
    तिरंगे को सलामी दिए जा रहे हैं ।
    सबमें आज देशसेवा की होड़ है,
    देखो चौक चौराहे सज रहे हैं,
    दुकानों में आज तिरंगे बिक रहे हैं ।
    कुर्बानियां सबकी आज याद की जा रही है,
    बदलाव की बस वही पुरानी बात की जा रही है,
    मंत्रियों की नींद ए. सी. में चल रही है,
    वही ठंड से मौतों की तादाद बढ़ रही है,
    देखो कतार में ‘आज’ जय हिंद के नारे लग रहे हैं,
    दुकानों में आज तिरंगे बिक रहे हैं ।
    रंगों की जात बांटने वाले आज,
    तिरंगे लेकर घूमेंगे,
    फिर नए-नए इतिहास निकाल कर,
    वाट्सएप्प पर ये भेजेंगे,
    ‘आधुनिक बेरोजगारी’ है साहब,
    दंगे-फसाद का ही सोचेंगे,
    ना बदले हालात, ना बदले दिन,
    दुकानों के तिरंगों को भी है पता,
    कचरे में मिलेंगे ये अगले दिन ।
    शहीद होने वाले जवानों!
    आपकी जगह लेगा कौन यहाँ,
    आधी आबादी तो आपकी तस्वीरों पर
    ‘लाइक्स’ के लिये कसमें लिख रहे हैं,
    इस व्यंग्य को बढ़ावा देने से अच्छा,
    उनके लिए कुछ क्षण के मौन रख लें,
    वक्तव्यों से बेहतर हम अपना मन्तव्य बदलें ।
    तिरंगे की भांति आज सबलोग लग रहे हैं
    लाल और हरे के बीच श्वेत-शांत रंग दिख रहे हैं।
    दुकानों में आज तिरंगे बिक रहे हैं…
    –Jaya Pandey

 

 

  • sarahad par bandook

    sarahad par bandook lie, vo sainik jo khada hai.
    maan kee aankhon mein usake, vo paanee jo bhara hai.
    jakhm usake seene mein, jo aaj bhee hara hai,
    gavaahee de raha, nahin kabhee vo dara hai,
    chhod gaya ho duniya bhale, nahin lekin vo mara hai…
    tiranga lie bachapan mein jo, chamak chehare pe aatee thee,
    sote hue roz use jo, kisse maan sunaatee thee,
    sapanon mein bhee usake, pariyaan nahin, maan bhaaratee jo aatee thee,
    bete ko vardee mein dekh, sapane jo maan sajaatee thee,
    vo kisse nahin aaj cheenkh hain, vardee nahin ek tees hai…
    taareekh ne khud ko, phir aaj jo doharaaya hai,
    vardee mein gaya tha jo, tiranga lipat phir aaya hai,
    tab tooteen thee choodiyaan, aaj gaya bete ka saaya hai,
    pita kee tangee vardee ka maan, kya khoob isane badhaaya hai,
    ek maan par nyauchhaavar kar praan, beta ghar ko aaya hai|
    aatee thee yaad maan kee aanchal, vo tirange ko choomata tha,
    loree jo aatee yaad maan kee, raashtragaan vo sunata tha,
    apane ghar ko har pal yaad kar, sarahadon par ghoomata tha,
    sapane mein mil aae maan se ek pal, soch aankhen moondata tha,
    kurbaan ho is maatee par maano, har katara jhoomata tha,
    maan bhee idhar akele mein jab, bete ko jo yaad karatee thee,
    ek pal ko maan bhaaree, doosare pal vo daratee thee,
    ek aankh khushee ke boond, doosare mein maan kee mamata bahatee thee,
    kahana jo hota bete se kuchh , usake khilaunon se kahatee thee,
    akele rahakar bhee vo, ek pal bhee na akele rahatee thee |
    lekin ab jo us par beetee hai, na baakee ye kahaanee rahee,
    vo khilauna bhee na raha, vo kilakaariyaan bhee ab nahin,
    ek baar jo dukh saha tha, dobaare vahee ghadee sahee,
    tab bhee na kuchh kaha tha, ab bhee kuchh na kahee,
    maan to phir maan thee, sab sahakar bhee maan rahee…
    – vishaal shaahadev

  • वीर रस की कविता – Veer Ras Ki Kavita in Hindi – Desh Bhakti
  • स्वतन्त्रता दिवस कविता Independence Day Poems in Hindi Indian Swatantrata
  • देशभक्ति कविता हिन्दी में Short Desh Bhakti Poem in Hindi Desh Bhakti Kavita
  • देशभक्ति शायरी हिन्दी Desh Bhakti Shayari in Hindi font shero shayari desh

 

अगर आप शायरी, कविता, कहानी आदि लिखने में सक्षम हैं. तो हमें अपनी अप्रकाशित और मौलिक रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें.

About Abhi SuvicharHindi.Com

Hi, friends, SuvicharHindi.Com की कोशिश है कि हिंदी पाठकों को उनकी पसंद की हर जानकारी SuvicharHindi.Com में मिले. SuvicharHindi.com में आपको Hindi shayari, Hindi Ghazal, Long & Short Hindi Slogans, Hindi Posters, Hindi Quotes with images wallpapers || Hindi Thoughts || Hindi Suvichar, Hindi & English Status, Hindi MSG Messages 140 words text, Hindi wishes, Best Hindi Tips & Tricks, Hindi Dadi maa ke Gharelu Nuskhe, Hindi Biography jeevan parichay jivani, Cute Hindi Poems poetry || Awesome Kavita, Hindi essay nibandh, Hindi Geet Lyrics, Hindi 2 sad / happy / romantic / liners / boyfriend / girlfriend gf / bf for facebook ( fb ) & whatsapp, useful 1 one line rs मिलेंगे. हमारे Website में दी गई चिकित्सा सम्बन्धित जानकारियाँ / Upay / Tarike / Nuskhe केवल जानकारी के लिए है, इनका उपयोग करने से पहले निकट के किसी Doctor से सलाह जरुर लें.
Previous Rashtriya Geet Vande Mataram word meaning in hindi – वन्दे मातरम् का अर्थ
Next Short Poem on Republic day in Hindi – गणतंत्र दिवस कविता gantantra diwas

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!