Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content

गर्भपात के 16 नुकसान Garbhpat Ke Nuksan दुष्परिणाम हानि dushparinam hani :

garbhpat ke nuksan in hindi – बार-बार गर्भपात के नुकसान दुष्परिणाम हानि
बार-बार गर्भपात के नुकसान दुष्परिणाम हानि Garbhpat Ke Nuksan Dushparinam Hani

गर्भपात के 16 नुकसान Garbhpat Ke Nuksan

  • Garbhpat Ke Nuksan अनचाहे गर्भ को गिराने के लिए पति-पत्नी, प्रेमी-प्रेमिका अक्सर गर्भपात का
    सहारा लेते हैं. लेकिन बार-बार गर्भपात करने से होने वाले नुकसान अक्सर वो नहीं जानते हैं.
    बार-बार गर्भपात स्त्री के लिए बहुत नुकसानदायक हो सकता है. इस लेख में हम बार-बार गर्भपात से
    होने वाले सम्भावित नुकसानों के बारे में जानेंगे.
  • गर्भपात के नुकसान :
  • बार-बार गर्भपात से महिला के बाँझ होने का खतरा काफी बढ़ जाता है.
  • बार-बार गर्भपात करवाने से आगे चलकर गर्भ ठहरने में दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है.
  • ज्यादा बार गर्भपात से ज्यादा रक्त श्राव, ऐठन, संक्रमण, गर्भाशय में सूजन, बहुत ज्यादा दर्द
    आदि की समस्या का सामना करना पड़ सकता है.
  • बार-बार गर्भपात के कारण महिला मानसिक रूप से टूट सकती है.
  • समय से पहले प्रसव की समस्या भी बार-बार गर्भपात के कारण हो सकती है.
  • अगर गर्भपात में बच्‍चेदानी में कुछ टिश्‍यू रह जाते हैं, तो डी एण्ड सी जरूरी होता है.
    बच्‍चेदानी में खराब टिश्‍यू रह जाने के कारण अगली बार फिर से खुद-बी-खुद गर्भपात
    होने का खतरा पैदा हो जाता है. इन टिश्यूज से बच्‍चेदानी में इंफेक्‍शन भी हो सकता है.
  • बार-बार गर्भपात के कारण आपके साथ यह समस्या भी हो सकती है कि अगली बार आपका गर्भपात
    खुद हो सकता है. और ऐसा एक से ज्यादा बार हो सकता है.
  • बार-बार गर्भपात के कारण अगली बार गर्भ बच्चेदानी के बाहर पनप सकता है. इस स्थिति में न चाहते हुए भी आपको गर्भपात करवाना पड़ सकता है.

  • इससे गर्भाशय में छेद होने की समस्या भी हो सकती है.
  • बार-बार गर्भपात स्तन कैंसर के खतरे को भी काफी ज्यादा बढ़ा देता है.
  • बार-बार गर्भपात के कारण होने वाले बच्चे के विकलांग होने की भी सम्भावना भी बढ़ जाती है.
  • इसलिए गर्भपात से बचने के लिए कॉन्डोम या किसी अन्य गर्भनिरोधक का इस्तेमाल करना हीं बेहतर विकल्प है.
  • गर्भपात डॉक्टर की निगरानी में करवाना हीं बेहतर होता है.
  • असुरक्षित सम्बन्ध न हीं बनाएँ, तो हीं आप निश्चिन्त रह पाएंगी.
  • अगर आप बच्चा नहीं चाहती हैं, तो यह समझ लीजिए कि असुरक्षित सम्बन्ध बनाने के बाद गर्भ ठहरने का पता चलने के बाद गर्भपात का विकल्प चुनना कोई बुद्धिमानी की बात नहीं है.
  • आपको पहले हीं सुरक्षित सम्बन्ध बनाना चाहिए, ताकि आपको मानसिक और शारीरिक पीड़ाओं का सामना न करना पड़े.

.

Previous देशभक्ति कविता हिंदी में देश भक्ति कविता बच्चों के लिए देश भक्ति गीत कविता आधारित :
Next पुत्रवधू पर हिंदी कविता || Poem On Daughter in Law in Hindi Bahu Par Kavita :

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.