इन्हें भी जरुर पढ़ें ➜
Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

घर पर 24 शानदार शायरी इन हिंदी | Ghar Par Shayari in Hindi sweet home sher

ghar par shayari in hindi – घर पर शायरी इन हिंदी – ghar par shayari in hindi – घर पर शायरी इन हिंदी – ghar par shayari in hindi – घर पर शायरी इन हिंदी – ghar par shayari in hindi – घर पर शायरी इन हिंदी – ghar par shayari in hindi – घर पर शायरी इन हिंदी
घर पर 24 शानदार शायरी इन हिंदी Ghar Par Shayari in Hindi sweet home sher

 

  • चंद दिन जब घर से बाहर गुजारने पड़े
    तब समझ में आया, घर के बिना जिंदगी कैसी होती है.

 

  • सुकून की तलाश में हम कई दर घूम आए
    लेकिन घर जैसा सुकून कहीं और नहीं पाया.
  • मेरा घर जितना पुराना होता गया
    ये मुझे उतना हीं प्यारा होता गया.
  • जब खुमारी चढ़ी थी, तो घर छोड़कर निकल गया था मैं
    जब जमाने की ठोकरें लगी, तब घर की अहमियत समझ आई.
  • दोपहर के धूप की तपन को इसलिए झेल जाता हूँ मैं
    क्योंकि थके कदमों की मंजिल मेरा घर होता है.
  • जब मुझे ये समझ आया कि दुनिया केवल मतलब की यार है

    तब मुझे याद आई मेरी माँ और याद आया मेरा घर.

  • भले लाखों रुपए खर्च कर लो, भले जमाने को कदमों में झुका लो
    लेकिन घर जैसा सुकून सारे जहान में कहीं और कहाँ पाओगे.
  • मजबूरियों के आड़े वक्त में मेरा घर हीं मेरे काम आया
    जब सबने साथ छोड़ा, तब घरवालों को साथ पाया.
  • उसके आने से पूरे घर में रौनक छा गई है
    वह अकेले नहीं आई है, संग ढेरों खुशियाँ लाई है.
  • जब भी मैं दुनिया से थक-हार जाता हूँ
    मेरे कदम खुद-ब-खुद घर की ओर बढ़ पड़ते हैं.
  • बेघरों के दर्द को मैं उसी रोज समझ पाया
    जब मुझे दूसरे के घर में पूरा एक साल बिताना पड़ा.
  • माँ-बाप के गुजरने के बाद ये बात समझ पाया मैं
    कि बुजुर्गों की कमी घर को वीरान बना देती है.
  • दूसरों के घरों में आग लगाने वालों से कह दो,
    कभी कोई चिंगारी उनका हीं घर न जला दे.
  • नहीं मैं अपने घर को नीलाम नहीं कर सकता
    इसमें उम्र भर की कई खट्टी-मीठी यादों का बसेरा जो है.

 

  • जब से घर की अहमियत समझी है मैंने

    तब से किसी परिंदे का खोंसला नहीं उजाड़ा मैंने.

  • मैं घर की चौखट पर हीं खड़ी उसका इंतजार करती रही
    और वो किसी दूसरे के संग, किसी और घर की ओर मुड़ गया.
  • माना तुम्हें पा न सका, माना हमारे रास्ते उम्र भर के लिए जुदा हुए
    लेकिन अब भी तेरे घर के सामने से गुजर कर बहुत सुकून पाता हूँ मैं.
  • एक घर बनाने में सालों लग जाते हैं
    इसलिए किसी का घर उजाड़ा न करो.
  • माना सारा दिन दुनिया में बेफिक्र होकर उड़ती हूँ मैं

    लेकिन शाम होने के बाद, घर पहुंचकर हीं खुद को महफूज पाती हूँ मैं.

 

  • रोजी-रोटी की तलाश में हर शख्स को हर भोर बाहर जाना पड़ता है
    वरना सुबह-सुबह घर छोड़कर जाना किसे अच्छा लगता है.
  • मेरे कदम खुद-ब-खुद रुक जाते हैं
    जब भी मैं तेरे घर के सामने से गुजरता हूँ.
  • तेरे घर का पता तो जानता हूँ मैं, पर वहाँ जाता नहीं
    क्योंकि डरता हूँ कि, कहीं तू मुझसे रूठ न जाए.
  • मेरी मोहब्बत के सुबूत देखने, मेरे घर चली आना कभी

    तेरे लगाए फूलों के पौधे आज भी यहाँ आबाद हैं.

  • मैं फिर कभी उसके घर नहीं गया
    जब से उसने कहा, “मेरी खुशियाँ चाहते हो, तो मुझसे दूर रहो तुम”.

 

इन्हें भी जरुर पढ़ें ↓ ↓ ↓

About Abhi

Hi, friends, SuvicharHindi.Com की कोशिश है कि हिंदी पाठकों को उनकी पसंद की हर जानकारी SuvicharHindi.Com में मिले. SuvicharHindi.com में आपको Hindi shayari, Hindi Ghazal, Long & Short Hindi Slogans, Hindi Posters, Hindi Quotes with images wallpapers || Hindi Thoughts || Hindi Suvichar, Hindi & English Status, Hindi MSG Messages 140 words text, Hindi wishes, Best Hindi Tips & Tricks, Hindi Dadi maa ke Gharelu Nuskhe, Hindi Biography jeevan parichay jivani, Cute Hindi Poems poetry || Awesome Kavita, Hindi essay nibandh, Hindi Geet Lyrics, Hindi 2 sad / happy / romantic / liners / boyfriend / girlfriend gf / bf for facebook ( fb ) & whatsapp, useful 1 one line rs मिलेंगे. हमारे Website में दी गई चिकित्सा सम्बन्धित जानकारियाँ / Upay / Tarike / Nuskhe केवल जानकारी के लिए है, इनका उपयोग करने से पहले निकट के किसी Doctor से सलाह जरुर लें.
Previous गर्लफ्रेंड पर मजेदार निबन्ध || Essay On Girlfriend in Hindi gf par nibandh lekh
Next पिताजी – एक बेहतरीन गजल Best Lines For Dad in Hindi Pitaji Par Gazal

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!