Kadam Kadam Badhaye Ja Lyrics in Hindi – कदम कदम बढ़ाये जा लिरिक्स हिंदी :

kadam kadam badhaye ja lyrics in hindi – कदम कदम बढ़ाये जा लिरिक्स इन हिंदी Kadam Kadam Badhaye Ja Lyrics in Hindi - कदम कदम बढ़ाये जा लिरिक्स हिंदी

कदम कदम बढ़ाये जा लिरिक्स हिंदी – kadam kadam badhaye ja सुभाष चन्द्र बोस की आज़ाद हिन्द फ़ौज का क़दम ताल गीत था. इसे 1942 में कप्तान राम सिंह ने लिखा था. यह गीत देशभक्ति से ओतप्रोत है और हमें देश के लिए जीने के लिए प्रेरित करता है.

  • Kadam Kadam Badhaye Ja Lyrics in Hindi

  • कदम कदम बढ़ाये जा
    ख़ुशी के गीत गाये जा
    ये ज़िंदगी है क़ौम की
    तू क़ौम पे लुटाये जा
    तू शेर-ए-हिन्द आगे बढ़
    मरने से तू कभी न डर
    उड़ा के दुश्मनों का सर
    जोश-ए-वतन बढ़ाये जा
    कदम कदम बढ़ाये जा
    ख़ुशी के गीत गाये जा
    ये ज़िंदगी है क़ौम की
    तू क़ौम पे लुटाये जा
    हिम्मत तेरी बढ़ती रहे
    ख़ुदा तेरी सुनता रहे
    जो सामने तेरे खड़े
    तू ख़ाक़ में मिलाये जा
    कदम कदम बढ़ाये जा
    ख़ुशी के गीत गाये जा
    ये ज़िंदगी है क़ौम की
    तू क़ौम पे लुटाये जा
    चलो दिल्ली पुकार के
    क़ौमी-निशाँ संभाल के
    लाल क़िले पे गाड़ के
    लहराये जा लहराये जा
    कदम कदम बढ़ाये जा
    ख़ुशी के गीत गाये जा
    ये ज़िंदगी है क़ौम की
    तू क़ौम पे लुटाये जा. – कप्तान राम सिंह
  • Kadam Kadam Badhaye Ja Lyrics in Hindi

  • Kadam kadam badhaye ja, Khushi ke geet gaye ja
    Ye zindgi hain kaum ki
    Tu kaum pe lutaye ja
    Kadam kadam badhaye ja
    Kadam kadam badhaye ja
    Khushi ke geet gaye ja
    Ye zindgi hain kaum ki
    Tu kaum pe lutaye ja
    Kadam kadam badhaye ja
    Tu sher e hind aage badh
    Marne se phir bhi tu na darr
    Udake dushmano ka sir
    Josh e watan badhaye ja
    Tu sher e hind aage badh
    Marne se phir bhi tu na darr
    Udake dushmano ka sir
    Josh e watan badhaye ja
    Kadam kadam badhaye ja
    Khushi ke geet gaye ja
    Ye zindgi hain kaum ki tu
    Kaum pe lutaye ja
    Kadam kadam badhaye ja
    Teri himmat badti rahe
    Khuda teri sunta rahe
    Teri himmat badti rahe
    Khuda teri sunta rahe
    Jo samne tere ade tu
    Khak me milaye ja
    Jo samne tere ade tu
    Khak me milaye ja
    Kadam kadam badhaye ja
    Khushi ke geet gaye ja
    Ye zindgi hain kaum ki
    Tu kaum pe lutaye ja
    Kadam kadam badhaye ja
    Chalo dilli pukar ke
    Kaumi nisha sambhal ke
    Chalo dilli pukar ke
    Kaumi nisha sambhal ke
    Lal kile pe gaad ke
    Lehraye ja lehraye ja
    Lal kile pe gaad ke
    Lehraye ja lehraye ja
    Kadam kadam badhaye
    Ja khushi ke geet gaye ja
    Ye zindgi hain kaum ki
    Tu kaum pe lutaye ja
    Kadam kadam badhaye
    Ja khushi ke geet gaye ja
    Ye zindgi hain kaum ki
    Tu kaum pe lutaye ja
    Kadam kadam badhaye ja.
    – Captain Ram Singh
  • Patriotic poems in Hindi by famous poets देशभक्ति कविताएँ desh bhakti kavita

.

Leave a Reply

Your email address will not be published.