Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages
Latest Posts - इन्हें भी जरुर पढ़ें ➜

Hindi Story Haar Ki Jeet – हिंदी स्टोरी हार की जीत – Kahani Haar Ki Jeet Ka Saransh :

Tags : hindi story haar ki jeet motivational story hindi best motivational books hindi shiv khera book hindi motivational status hindi premchand ki kahaniya hindi kahani sahitya shiv khera hindi motivation story hindi motivational whatsapp status hindi hindi shows shiv khera hurricane haar ki jeet kahani hindi hindi story hindi man mai hai vishwas book hindi ki kahaniya virat kohli news hindi khaniya hindi months hindi motivational shayari hindi on life koshish karne walon ki poem premchand stories short moral stories hindi jo dil me hote hai wo kismat me nahi hote achi baatein hindi spontaneous meaning hindi zindagi se pareshan status khaniya hindi premchand ki kahaniya hindi aslil kahaniya haar jeet shiv khera motivational speech hindi haar ki jeet story hindi motivational quotes hindi by shiv khera inspirational quotes hindi for whatsapp jeet aapki pdf haar ki jeet story english life changing quotes hindi shiv story hindi koshish karne walon ki kabhi haar nahi hoti whatsapp status hindi naya raasta hindi novel summary hindi achi baatein hindi image hindi me story kam kala hindi book motivational status hindi for whatsapp zindagi ki achi batain jeet apki book download hindi shiv khera quotes hindi best story hindi hindi short stories with english translation lofty meaning hindi nuances meaning hindi kahani lekhan hindi jb hi fi panchtantra ki kahani hindi pdf first t20 match store hindi shayari hindi font for facebook best motivational status hindi premchand stories english achhe vichar hindi images idgah story hindi gentle reminder meaning hindi whatsapp profile status hindi hindi kahani premchand aaj ka vichar hindi image idgah story virat kohli news hindi today kismat status kahaniya hi kahaniya achi baatein english jeet dialogue suryakant tripathi nirala short poems hindi premchand ki khaniya virat kohli latest news hindi aap kaha se ho english will power meaning hindi whatsapp thoughts hindi premchand ki rachnaye sultan story hindi virat hindi news kuch achi baatein hindi koshish karne walon ki poem hindi brutal meaning hindi premchand ki story hindi achhe vichar hindi motivation hindi prayashchit english short stories of sudarshan hindi udaan apne potent meaning hindi jaishankar prasad stories summary hindi hindi vichar image kismat status hindi for whatsapp haar ki jeet premchand hindi prernadayak vichar hindi mujhse baat kyun karte ho answer movie name virat kohli ka ghar ornate meaning hindi mere jeevan ka lakshya hindi profile status hindi motivate status hindi bharosa quotes himmat dene wali shayari hindi jeet hindi movie download misplaced meaning hindi premchand ki hindi kahaniya mahayagya ka puraskar summary hindi deaf and dumb meaning hindi bachpan ki kahani man ki penned meaning hindi subh vichar hindi 2015 kahaniya hindi shayari status attitude khamoshi quotes hindi sudarshan hindi writer hindi six khaniya munshi premchand ki kahaniya bharosa status hindi khushi status hindi khushi quotes hindi baba bharti din ki bate virat kohli information marathi language sudarshan hindi story writer zindagi kya hai quotes bhagwan status hindi virat kohli fb satya ki jeet story hindi ache vichar hindi facebook bharosa quotes hindi aaj ka subh vichar nam se jane apna bhavishya bahut accha log badal jate hai quotes bhoot ki kahani mp3 download ladka hone ki dua jab ki english aisa kuch nahi hai meaning english haar jeet shayari hindi sudarshan writer acche vichar hindi kamyabi status hindi achi baat images hindi hindi ki story history of baba chauharmal hindi professional status hindi man ke hare har man ke jeete jeet burai par acchai ki jeet story hindi jeet hindi ek phool ki chah summary jeet aapki book kya sapne sach hote hai hindi sachai ki jeet story hindi hamesha khush raho english satya ki kabhi haar nahi hoti story hindi hindi sahitya kahaniya man ke hare har hai man ke jeete jeet prerna geet hindi jeet hindi mp3 aap ki jeet hindi book hindi writer sudarshan biography koshish karne walon ki haar nahi hoti essay hindi hindi sahitya ki kahaniya jeet baba haar ki jeet pashu prem ki kahani hindi baba surgal history hindi prernadayak quotes hindi satya ki jeet satya ki kabhi haar nahi hoti jeet aapki hindi ki jeet har ki jeet man ki jeet aap ki safalta aapki jeet jeet apki hindi prernadayak hindi quotes man ke hare har hai poem jeet picture hindi baba bharti ka ghoda sudarshan hindi writer wiki haar jeet poetry haar jeet ki shayari kharak singh ke kharak ne se na haar mein na jeet mein full poem hindi jeet aapki online reading motivational vichar sudarshan poet hindi satya ki kabhi haar nahi hoti hindi motivation geet hindi shayari on haar jeet hindi ki prasidh kahaniya jeet hindi hindi stories for class 6th writer sudarshan satya ki jeet essay hindi ghode ki kahani aapki jeet book download man ke haare haar man ke jeete jeet sudarshan ki hindi kahaniya badrinath sharma hindi writer history of chauharmal haar jeet quotes man ke haare haar hai man ke jeete jeet essay on man ke hare har hai man ke hare har man ke jeete jeet hindi aage badhne ki shayari pandit sudarshan daku ratnakar story hindi haar ki jeet story summary man ke hare har hai hindi haar ke baad hi jeet hai baba bharti story sachai ki jeet sudarshan hindi poet kya haar mein kya jeet mein poem hindi dar ke aage jeet hai shayari man ke jeete jeet har ki jeet story hindi story on satya ki jeet hindi mann ke hare har man ke jeete jeet sudarshan ki kahani daku kharak singh story hindi baba bharti ka ghoda story hindi mann ki jeet hindi author sudarshan jeet aapki read online daku ki kahani jeet ya haar raho taiyar free download haar ki jeet summary hindi jeet quotes hindi daku kharak singh satya ki jeet hoti hai hingwala story hindi poet sudarshan satya ki jeet par kahani jeet ki shayari hindi man ke hare har man ke jeete jeet essay mann ke haare haar hai man ke jeete jeet man ke hare har hai essay har ke baad hi jeet hai man ke jeete jeet man ke hare har hingwala story hindi tak bak tak bak ghora har ki jeet story burai par acchai ki jeet story mann ke haare haar man ke jeete jeet man ke hare har hai man ke jeete jeet meaning bharti baba story on satya ki jeet hoti hai hindi jeet story baba khaini man ke hare har man ke jeete jeet hindi essay haar ki jeet story pragati hindi pathmala mann ke hare har hai man ke jeete jeet baba kharak singh story hindi man ke haare haar hai hindi haar ki jeet summary haar ki jeet kahani baba bharti story hindi das muhavare ki kahani satya ki jeet story man ke jeete jeet hai man ke hare har man ke hare har hai man ke jeete jeet essay story of baba bharti hindi man ke haare haar hai man ke jeete jeet nibandh hindi prerna geet hindi story har ki jeet burai par acchai ki jeet essay hindi man ke hare har hai man ke jeete jeet nibandh daku kharak singh story man ke hare har hai man ke jite jit aap ki jeet hindi man ke haare har hai man ke jeete jeet har ki jeet kahani hindi

hindi story haar ki jeet – हिंदी स्टोरी हार की जीत Hindi Story Haar Ki Jeet – हिंदी स्टोरी हार की जीत - Kahani Haar Ki Jeet Ka Saransh

Hindi Story Haar Ki Jeet – हिंदी स्टोरी हार की जीत – Kahani Haar Ki Jeet Ka Saransh

  • Haar Ki jeet ऐसी Hindi sory है, जिसे बचपन में ढेरों लोगों ने पढ़ा होगा. तो आइये बचपन की याद ताजा करते हैं और hindi story haar ki jeet पढ़ते हैं. और इस कहानी के अंत में haar ki jeet ka saransh भी पढ़ते हैं.

  • माँ को अपने बेटे और किसान को अपने लहलहाते खेत देखकर जो आनंद आता है, वही आनंद बाबा भारती को अपना घोड़ा देखकर आता था. भगवद्-भजन से जो समय बचता, वह घोड़े को अर्पण हो जाता. वह घोड़ा बड़ा सुंदर था, बड़ा बलवान. उसके जोड़ का घोड़ा सारे इलाके में न था. बाबा भारती उसे ‘सुल्तान’ कह कर पुकारते, अपने हाथ से खरहरा करते, खुद दाना खिलाते और देख-देखकर प्रसन्न होते थे. उन्होंने रूपया, माल, असबाब, ज़मीन आदि अपना सब-कुछ छोड़ दिया था, यहाँ तक कि उन्हें नगर के जीवन से भी घृणा थी. अब गाँव से बाहर एक छोटे-से मन्दिर में रहते और भगवान का भजन करते थे. “मैं सुलतान के बिना नहीं रह सकूँगा”, उन्हें ऐसी भ्रान्ति सी हो गई थी. वे उसकी चाल पर लट्टू थे. कहते, “ऐसे चलता है जैसे मोर घटा को देखकर नाच रहा हो.” जब तक संध्या समय सुलतान पर चढ़कर आठ-दस मील का चक्कर न लगा लेते, उन्हें चैन न आता.
  • खड़गसिंह उस इलाके का प्रसिद्ध डाकू था. लोग उसका नाम सुनकर काँपते थे. होते-होते सुल्तान की कीर्ति उसके कानों तक भी पहुँची. उसका हृदय उसे देखने के लिए अधीर हो उठा. वह एक दिन दोपहर के समय बाबा भारती के पास पहुँचा और नमस्कार करके बैठ गया. बाबा भारती ने पूछा, “खडगसिंह, क्या हाल है?”
    खडगसिंह ने सिर झुकाकर उत्तर दिया, “आपकी दया है.”
    “कहो, इधर कैसे आ गए?”
    “सुलतान की चाह खींच लाई.”
    “विचित्र जानवर है. देखोगे तो प्रसन्न हो जाओगे.”
    “मैंने भी बड़ी प्रशंसा सुनी है.”
    “उसकी चाल तुम्हारा मन मोह लेगी!”
    “कहते हैं देखने में भी बहुत सुँदर है.”
    “क्या कहना! जो उसे एक बार देख लेता है, उसके हृदय पर उसकी छवि अंकित हो जाती है.”
    “बहुत दिनों से अभिलाषा थी, आज उपस्थित हो सका हूँ.”
    बाबा भारती और खड़गसिंह अस्तबल में पहुँचे. बाबा ने घोड़ा दिखाया घमंड से, खड़गसिंह ने देखा आश्चर्य से. उसने सैंकड़ो घोड़े देखे थे, परन्तु ऐसा बाँका घोड़ा उसकी आँखों से कभी न गुजरा था. सोचने लगा, भाग्य की बात है. ऐसा घोड़ा खड़गसिंह के पास होना चाहिए था. इस साधु को ऐसी चीज़ों से क्या लाभ? कुछ देर तक आश्चर्य से चुपचाप खड़ा रहा. इसके पश्चात् उसके हृदय में हलचल होने लगी. बालकों की-सी अधीरता से बोला, “परंतु बाबाजी, इसकी चाल न देखी तो क्या?”

  • hindi story haar ki jeet
  • दूसरे के मुख से सुनने के लिए उनका हृदय अधीर हो गया. घोड़े को खोलकर बाहर गए. घोड़ा वायु-वेग से उडने लगा. उसकी चाल को देखकर खड़गसिंह के हृदय पर साँप लोट गया. वह डाकू था और जो वस्तु उसे पसंद आ जाए उस पर वह अपना अधिकार समझता था. उसके पास बाहुबल था और आदमी भी. जाते-जाते उसने कहा, “बाबाजी, मैं यह घोड़ा आपके पास न रहने दूँगा.”
  • बाबा भारती डर गए. अब उन्हें रात को नींद न आती. सारी रात अस्तबल की रखवाली में कटने लगी. प्रति क्षण खड़गसिंह का भय लगा रहता, परंतु कई मास बीत गए और वह न आया. यहाँ तक कि बाबा भारती कुछ असावधान हो गए और इस भय को स्वप्न के भय की नाईं मिथ्या समझने लगे. संध्या का समय था. बाबा भारती सुल्तान की पीठ पर सवार होकर घूमने जा रहे थे. इस समय उनकी आँखों में चमक थी, मुख पर प्रसन्नता. कभी घोड़े के शरीर को देखते, कभी उसके रंग को और मन में फूले न समाते थे. सहसा एक ओर से आवाज़ आई, “ओ बाबा, इस कंगले की सुनते जाना.”
  • आवाज़ में करूणा थी. बाबा ने घोड़े को रोक लिया. देखा, एक अपाहिज वृक्ष की छाया में पड़ा कराह रहा है. बोले, “क्यों तुम्हें क्या कष्ट है?”
  • अपाहिज ने हाथ जोड़कर कहा, “बाबा, मैं दुखियारा हूँ. मुझ पर दया करो. रामावाला यहाँ से तीन मील है, मुझे वहाँ जाना है. घोड़े पर चढ़ा लो, परमात्मा भला करेगा.”
  • “वहाँ तुम्हारा कौन है?”
  • “दुगार्दत्त वैद्य का नाम आपने सुना होगा. मैं उनका सौतेला भाई हूँ.”

  • बाबा भारती ने घोड़े से उतरकर अपाहिज को घोड़े पर सवार किया और स्वयं उसकी लगाम पकड़कर धीरे-धीरे चलने लगे. सहसा उन्हें एक झटका-सा लगा और लगाम हाथ से छूट गई. उनके आश्चर्य का ठिकाना न रहा, जब उन्होंने देखा कि अपाहिज घोड़े की पीठ पर तनकर बैठा है और घोड़े को दौड़ाए लिए जा रहा है. उनके मुख से भय, विस्मय और निराशा से मिली हुई चीख निकल गई. वह अपाहिज डाकू खड़गसिंह था.बाबा भारती कुछ देर तक चुप रहे और कुछ समय पश्चात् कुछ निश्चय करके पूरे बल से चिल्लाकर बोले, “ज़रा ठहर जाओ.”
  • hindi story haar ki jeet
  • खड़गसिंह ने यह आवाज़ सुनकर घोड़ा रोक लिया और उसकी गरदन पर प्यार से हाथ फेरते हुए कहा, “बाबाजी, यह घोड़ा अब न दूँगा.”
  • “परंतु एक बात सुनते जाओ.” खड़गसिंह ठहर गया.
  • बाबा भारती ने निकट जाकर उसकी ओर ऐसी आँखों से देखा जैसे बकरा कसाई की ओर देखता है और कहा, “यह घोड़ा तुम्हारा हो चुका है. मैं तुमसे इसे वापस करने के लिए न कहूँगा. परंतु खड़गसिंह, केवल एक प्रार्थना करता हूँ. इसे अस्वीकार न करना, नहीं तो मेरा दिल टूट जाएगा.”
  • “बाबाजी, आज्ञा कीजिए. मैं आपका दास हूँ, केवल घोड़ा न दूँगा.”
  • “अब घोड़े का नाम न लो. मैं तुमसे इस विषय में कुछ न कहूँगा. मेरी प्रार्थना केवल यह है कि इस घटना को किसी के सामने प्रकट न करना.”
  • खड़गसिंह का मुँह आश्चर्य से खुला रह गया. उसका विचार था कि उसे घोड़े को लेकर यहाँ से भागना पड़ेगा, परंतु बाबा भारती ने स्वयं उसे कहा कि इस घटना को किसी के सामने प्रकट न करना. इससे क्या प्रयोजन सिद्ध हो सकता है? खड़गसिंह ने बहुत सोचा, बहुत सिर मारा, परंतु कुछ समझ न सका. हारकर उसने अपनी आँखें बाबा भारती के मुख पर गड़ा दीं और पूछा, “बाबाजी इसमें आपको क्या डर है?”
  • सुनकर बाबा भारती ने उत्तर दिया, “लोगों को यदि इस घटना का पता चला तो वे दीन-दुखियों पर विश्वास न करेंगे.” यह कहते-कहते उन्होंने सुल्तान की ओर से इस तरह मुँह मोड़ लिया जैसे उनका उससे कभी कोई संबंध ही नहीं रहा हो.

  • hindi story haar ki jeet
  • बाबा भारती चले गए. परंतु उनके शब्द खड़गसिंह के कानों में उसी प्रकार गूँज रहे थे. सोचता था, कैसे ऊँचे विचार हैं, कैसा पवित्र भाव है! उन्हें इस घोड़े से प्रेम था, इसे देखकर उनका मुख फूल की नाईं खिल जाता था. कहते थे, “इसके बिना मैं रह न सकूँगा.” इसकी रखवाली में वे कई रात सोए नहीं. भजन-भक्ति न कर रखवाली करते रहे. परंतु आज उनके मुख पर दुख की रेखा तक दिखाई न पड़ती थी. उन्हें केवल यह ख्याल था कि कहीं लोग दीन-दुखियों पर विश्वास करना न छोड़ दे. ऐसा मनुष्य, मनुष्य नहीं देवता है.
  • रात्रि के अंधकार में खड़गसिंह बाबा भारती के मंदिर पहुँचा. चारों ओर सन्नाटा था. आकाश में तारे टिमटिमा रहे थे. थोड़ी दूर पर गाँवों के कुत्ते भौंक रहे थे. मंदिर के अंदर कोई शब्द सुनाई न देता था. खड़गसिंह सुल्तान की बाग पकड़े हुए था. वह धीरे-धीरे अस्तबल के फाटक पर पहुँचा. फाटक खुला पड़ा था. किसी समय वहाँ बाबा भारती स्वयं लाठी लेकर पहरा देते थे, परंतु आज उन्हें किसी चोरी, किसी डाके का भय न था. खड़गसिंह ने आगे बढ़कर सुलतान को उसके स्थान पर बाँध दिया और बाहर निकलकर सावधानी से फाटक बंद कर दिया. इस समय उसकी आँखों में नेकी के आँसू थे. रात्रि का तीसरा पहर बीत चुका था. चौथा पहर आरंभ होते ही बाबा भारती ने अपनी कुटिया से बाहर निकल ठंडे जल से स्नान किया. उसके पश्चात्, इस प्रकार जैसे कोई स्वप्न में चल रहा हो, उनके पाँव अस्तबल की ओर बढ़े. परंतु फाटक पर पहुँचकर उनको अपनी भूल प्रतीत हुई. साथ ही घोर निराशा ने पाँव को मन-मन भर का भारी बना दिया. वे वहीं रूक गए. घोड़े ने अपने स्वामी के पाँवों की चाप को पहचान लिया और ज़ोर से हिनहिनाया. अब बाबा भारती आश्चर्य और प्रसन्नता से दौड़ते हुए अंदर घुसे और अपने प्यारे घोड़े के गले से लिपटकर इस प्रकार रोने लगे मानो कोई पिता बहुत दिन से बिछड़े हुए पुत्र से मिल रहा हो. बार-बार उसकी पीठपर हाथ फेरते, बार-बार उसके मुँह पर थपकियाँ देते. फिर वे संतोष से बोले, “अब कोई दीन-दुखियों से मुँह न मोड़ेगा.”
  • haar ki jeet kahani KE LEKHAK- सुदर्शन

  • kahani haar ki jeet ka saransh / uddeshya – haar ki jeet kahani का सारांश यह है कि हमें कोई भी ऐसा गलत काम नहीं करना चाहिए जिससे कि दीन-दुखियों पर लोग विश्वास करना छोड़ दें. हमें दीन-दुखी का ढोंग रचकर किसी को मूर्ख नहीं बनाना चाहिए.

.

Read Also - इन्हें भी पढ़ें

About SuvicharHindi.Com ( Best Online Hindi Blog Website ) earn knowledge & share it on social media seo service

server hosting seo gmail affiliate domain marketing startup insurance seo services DISEASES Children Health Men's Health Women's Health Cancer Heart Health Diabetes Other Diseases Miscellaneous DIET & FITNESS Weight Management Healthy Diet Exercise Fitness Yoga Alternative Therapies Mind And Body Ayurveda Home Remedies GROOMING Fashion And Beauty Hair Care Skin Care PREGNANCY & PARENTING New Born Care Parenting Tips RELATIONSHIPS Marriage Dating HEALTH EXPERTS Hi, friends, SuvicharHindi.Com की कोशिश है कि हिंदी पाठकों को उनकी पसंद की हर जानकारी SuvicharHindi.Com में मिले. SuvicharHindi.com में आपको Hindi shayari, Hindi Ghazal, Long & Short Hindi Slogans, Hindi Posters, Hindi Quotes with images wallpapers || Hindi Thoughts || Hindi Suvichar, Hindi & English Status, Hindi MSG Messages 140 words text, Hindi wishes, Best Hindi Tips & Tricks, Hindi Dadi maa ke Gharelu Nuskhe, Hindi Biography jeevan parichay jivani, Cute Hindi Poems poetry || Awesome Kavita, Hindi essay nibandh, Hindi Geet Lyrics, Hindi 2 sad / happy / romantic / liners / boyfriend / girlfriend gf / bf for facebook ( fb ) & whatsapp, useful 1 one line rs मिलेंगे. हमारे Website में दी गई चिकित्सा सम्बन्धित जानकारियाँ / Upay / Tarike / Nuskhe केवल जानकारी के लिए है, इनका उपयोग करने से पहले निकट के किसी Doctor से सलाह जरुर लें.
Previous समय के नियोजन पर निबन्ध Samay Niyojan Essay in Hindi Mahatva Pabandi nibandh :
Next दहेज प्रथा पर स्टोरी – Dahej Pratha Story in Hindi Par Short Kahani Script natak ekanki :

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.