Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content

मानवता पर हिंदी कविता – Manavta Poem in Hindi Kavita Status Lines MSG :

मानवता पर हिंदी कविता – Manavta Poem in Hindi
मानवता पर हिंदी कविता - Manavta Poem in Hindi Kavita Status Lines MSG

Manavta Poem in Hindi

  • इंसान

    इंसान क्यंू इतना बदलता जा रहा है,
    बस चालाक और खोखला होता जा रहा है।
    इंसा नहीं, इंसानियत नहीं, कुछ धर्म नहीं,
    मज़हब नहीं, दीन नहीं, ईमान भी नहीं।
    न जाने सब कहां फ़ना होता जा रहा है,
    इंसान क्यंू इतना बदलता जा रहा है,
    बदलता जा रहा है।
    कोई किसी का दुख-दर्द बांटता ही नहीं,
    जिसको देखो इक-दूसरे को नश्तर चुभा रहा है।
    नाचीज़ रिश्ते-नाते, प्यार का पतन हो रहा है,
    हैवानियत बढ़ गई है, इंसा खोता जा रहा है।
    इंसान क्यंू इतना बदलता जा रहा है,
    बदलता जा रहा है।
    छल-कपट को अपना हथियार बनाता जा रहा है,
    दीन, दुखी, लाचार को अनदेखा करता जा रहा है।
    करूणा नहीं, ममता नहीं, कुछ हमदर्दी भी नहीं,
    अब तो खून-खून न होकर पानी होता जा रहा है।
    इंसान क्यंू इतना बदलता जा रहा है,
    बदलता जा रहा है।
    झूठा दिखावा करके मूर्ख बनाता जा रहा है,
    माया के लालच में हर हद को पार करता जा रहा है।
    वह प्रकृत्ति के साथ भी खिलवाड़ करता जा रहा है,
    शर्म नही, तहज़ीब नही, कुछ सम्मान भी नहीं।
    अपनी मातृभाषा हिन्दी को छोड़कर अंग्रेजी भाषा को अपनाता जा रहा है।
    अब तो अपनी संस्कृति को छोड़कर बाहरी संस्कृति को अपनाता जा रहा है।
    इंसान क्यंू इतना बदलता जा रहा है,
    बदलता जा रहा है।
    (मीना कुमारी)
    एम.ए.बी.-4, नई दिल्ली।

  • insaan

    insaan kyanoo itana badalata ja raha hai,
    bas chaalaak aur khokhala hota ja raha hai.
    insa nahin, insaaniyat nahin, kuchh dharm nahin,
    mazahab nahin, deen nahin, eemaan bhee nahin.
    na jaane sab kahaan fana hota ja raha hai,
    insaan kyanoo itana badalata ja raha hai,
    badalata ja raha hai.
    koee kisee ka dukh-dard baantata hee nahin,
    jisako dekho ik-doosare ko nashtar chubha raha hai.
    naacheez rishte-naate, pyaar ka patan ho raha hai,
    haivaaniyat badh gaee hai, insa khota ja raha hai.
    insaan kyanoo itana badalata ja raha hai,
    badalata ja raha hai.
    chhal-kapat ko apana hathiyaar banaata ja raha hai,
    deen, dukhee, laachaar ko anadekha karata ja raha hai.
    karoona nahin, mamata nahin, kuchh hamadardee bhee nahin,
    ab to khoon-khoon na hokar paanee hota ja raha hai.
    insaan kyanoo itana badalata ja raha hai,
    badalata ja raha hai.
    jhootha dikhaava karake moorkh banaata ja raha hai,
    maaya ke laalach mein har had ko paar karata ja raha hai.
    vah prakrtti ke saath bhee khilavaad karata ja raha hai,
    sharm nahee, tahazeeb nahee, kuchh sammaan bhee nahin.
    apanee maatrbhaasha hindee ko chhodakar angrejee bhaasha ko apanaata ja raha hai.
    ab to apanee sanskrti ko chhodakar baaharee sanskrti ko apanaata ja raha hai.
    insaan kyanoo itana badalata ja raha hai,
    badalata ja raha hai.
    (meena kumari) New Delhi

  • देशभक्ति कविता – Short Patriotic Poems in Hindi A Poem By Famous Poets

.

Previous हिन्दी दिवस पर निबन्ध – Short Essay On Hindi Diwas in Hindi composition :
Next किशमिश खाने के 31 फायदे kishmish ke fayde in hindi munakka benefits health :

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.