मासिक धर्म से जुड़े 36 तथ्य Masik Dharm in Hindi माहवारी रजोधर्म what is girls period mc :

Masik Dharm in Hindi
Masik Dharm in Hindi

Masik Dharm in Hindi mc || girls period in hindi || mahwari

  • मासिक धर्म लड़कियों की एक सामान्य शारीरिक प्रक्रिया है, इसके बारे में हर लड़की / स्त्री को
    जानकारी रखनी चाहिए. माहवारी या रजोधर्म या मासिक धर्म या पीरियड 10-16 वर्ष की लड़कियों के शरीर में होने वाला
    एक हार्मोनल बदलाव है. स्त्री के शरीर में दो अंडाशय और एक गर्भाशय होता है. स्त्री के अंडाशय से हर माह एक विकसित अण्डा उत्पन्न होता है. जब अण्डा गर्भाशय में पहुंचता है, उसका स्तर खून और तरल पदार्थ से गाढ़ा हो जाता है. यदि उस अंडे का पुरूष के शुक्राणु से मिलन नहीं होता है, तो यह स्राव बन जाता है. स्त्री के डिम्ब / अंडे की औसत आयु 2-3 दिन की होती है.
    जो कि योनि से निकल जाता है. इसी स्राव को मासिक धर्म, रजोधर्म या माहवारी, पीरियड,
    या मासिक
     कहते हैं.

  • मासिक के बारे में प्रमुख बातें :
  • पहली बार के मासिक श्राव को रजोदर्शन / puberty कहते हैं
  • पीरियड महीने में एक बार होता है.
  • अलग-अलग लड़कियों का पीरियड अलग-अलग आयु में शुरू होता है.
  • periods kitne din chalta hai –
    मासिक का समय 2 से 7 दिन के बीच का हो सकता है. अलग-अलग स्त्रियों की पीरियड की अवधि
    अलग-अलग होती है. एक स्त्री के पीरियड की अवधि भी कम या ज्यादा होती रहती है.
  • मासिक हर महीने 28-35 दिन के बीच में होता है.

  • Period मासिक या पीरियड शुरू होने से पहले कमर में हल्का दर्द होना
    एक आम बात है, जिसे मासिक से पहले का दर्द कहते हैं.

  • मासिक खत्म होने लगता है, तो दर्द भी कम होने लगता है.
  • कुछ महिलाओं को पीरियड के दौरान दूसरी महिलाओं से ज्यादा दर्द होता है. इसे पीड़ादायक माहवारी कहते हैं.
  • अगर पीरियड में रक्त के बड़े-बड़े थक्के निकलते हों और मासिक धर्म खत्म होने के बाद भी दर्द होता रहे,
    तो आपको डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए.
  • अगर छः घंटे के रक्त श्राव से पैड पूरी तरह भींग जाए और पैड बदलने की जरूरत आ पड़े, तो इसे भारी श्राव कहते हैं.
  • अगर पीरियड 7 days से ज्यादा चले तो इसे लम्बी माहवारी कहते हैं.

  • Agar पीरियड जल्दी-जल्दी होने लगे या एक पीरियड से दूसरे पीरियड के बीच में सामान्य से ज्यादा दिनों का अंतर हो, तो इसे अनियमित पीरियड कहते हैं.
  • अगर माहवारी बिल्कुल न हो, तो इसे माहवारी का अभाव कहते हैं.
  • अगर आपको हाल हीं में पीरियड्स आने शुरू हुए हैं, तो यह हो सकते है कि आपके कुछ पीरियड अनियमित हों.
  • मासिक के दौरान सेक्स करने से भी गर्भ ठहर सकता है.
  • जो लकड़ियाँ बिल्कुल भी शारीरिक श्रम नहीं करती हैं, उन्हें पीरियड के दौरान ज्यादा दर्द होता है.
    लेकिन बहुत ज्यादा शारीरिक श्रम भी नहीं करना चाहिए.
  • अगर पीरियड्स के दौरान आपको भी कमर में और कमर के नीचे बहुत ज्यादा दर्द होता है, तो आपको नमक कम खाना चाहिए.
  • कुछ महिलाओं के स्तन माहवारी के दौरान बहुत ज्यादा कोमल हो जाते हैं.
  • पीरियड्स के दौरान बहुत अधिक खाने की इच्छा होती है.
  • मासिक में आप ऐंठन महसूस कर सकती हैं.
  • Periods के दौरान महिलाओं का मूड बहुत ज्यादा बदल सकता है.
  • मासिक के दौरान कॉफ़ी का सेवन करने से बचें, इससे आपको पीरियड्स का दर्द कम होगा.
  • अधिकतर स्त्रियों को मासिक से पहले कुछ भी तकलीफ महसूस नहीं होता है. जबकि बहुत-सी महिलाओं
    को पीरियड से पहले कमर या पैर में दर्द महसूस होता है, सर दर्द होता है, कब्ज होता है, स्तनों में
    भारीपन और कड़ापन आ जाता है, और अकारण चिड़चिड़ापन आ जाता है.
  • अगर मासिक के दौरान तेज असहनीय दर्द हो, बहुत अधिक रक्त स्त्राव हो. तो आपको किसी डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए.
  • मासिक 40-60 वर्ष की आयु के बीच में कभी भी बंद हो सकता है. इसलिए अलग-अलग महिलाओं का मासिक अलग-अलग आयु में खत्म होता है. अंतिम मासिक को रजोनिवृत्ति ( Menopause मेनोपोस ) कहते हैं.

  • वैसे तो हर 8 घंटे में पैड बदल देना चाहिए, लेकिन अगर यह पहले हीं गीला हो जाए तो उसे बदलना चाहिए.
    हर सुबह पैड बदलना चाहिए. पूरा दिन एक हीं पैड लगाए रखने से इसमें जीवाणु पनपते हैं. इसलिए आपको
    पैड की सफाई का ध्यान रखना चाहिए.
  • अनियमित माहवारी पीरियड वह होता है जिसमें पीरियड की अवधि एक चक्र से दूसरे चक्र तक लम्बी हो सकती है, या वे बहुत जल्दी-जल्दी होने लगते हैं या असामान्य. किशोरावस्था के पहले कुछ सालों में अनियमित पीरियड हो सकते हैं.
  • अगर मासिक के दिन थोड़े बहुत कम या ज्यादा हो जाएँ, तो आपको चिंता नहीं करनी चाहिए.
  • शरीर में खून की कमी होने से भी कई बार पीरियड से पहले बहुत ज्यादा दर्द होता है.
  • पीरियड में आपको ज्यादा तकलीफ न हो, इसके लिए आपका शारीरिक रूप से मजबूत होना जरूरी है.
  • अगर आप नियमित व्यायाम करेंगी, तो आपको मासिक चक्र के दौरान सामान्य से कम दर्द होगा.
  • आपको अपने खाने में ताजे फल और सब्जियों का उपयोग करना चाहिए.
  • और यह याद रखें कि मासिक कोई तकलीफ नहीं है, यह तो हर स्त्री की एक सामान्य मासिक प्रक्रिया है.
  • Periods को टालने वाली दवा नहीं खानी चाहिए, क्योंकि इसके दुष्परिणाम होते हैं.
  • Masik Dharm Kya Hota Hai

  • Q. Period Ke Kitne Din Baad Pregnant Hoti Hai
    Ans – सामान्यतः Period शुरू होने वाले दिन से चौथी रात से गर्भ ठहरता है.
  • आपको हमारा यह लेख कैसा लगा यह जरुर बताएँ. हमें आपके सुझावों का इंतजार रहेगा.
  • औरतों की छाती से जुड़े तथ्य – Aurton Ki Chhati Breast Facts Man Women
  • पीरियड्स के हैवी ब्लीडिंग को कम करने के उपाय – Heavy Bleeding During Periods in Hindi
  • 15 मिथक पीरियड्स के बारे में – Myths in Hindi About Mahwari Period Masik Dharm
  • 31 मासिक धर्म में देरी टिप्स Girls Period Problem in Hindi Language मासिक के समय दर्द

.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.