Mera Ghar Essay in Hindi – मेरा घर निबंध my home essay in hindi paragraph :

Mera Ghar Essay in Hindi – मेरा घर निबंध
Mera Ghar Essay in Hindi - मेरा घर निबंध my home essay in hindi paragraph

Mera Ghar Essay in Hindi – मेरा घर निबंध my home essay in hindi paragraph

  • मेरा घर निबंध – Mera Ghar Essay in Hindi
  • घर वह स्थान होता है, जहाँ हमें सारे संसार का सुकून मिलता है. घर सिर्फ रहने के लिए नहीं होता
    है, बल्कि घर हमारी जिंदगी का बहुत प्यारा हिस्सा होता है. हमें अपने घर से बहुत लगाव होता है.
    अगर हमारा घर छोटा हो, तब भी हमें जो सुकून घर में मिलता है वह कहीं और नहीं मिलता है.
    परिवार के सदस्य घर में अपनापन घोलते हैं. दिन भर की भागदौड़ के बाद जब सभी सदस्य घर पहुंचते हैं,
    तो हम सुकून महसूस करते हैं. हमारे अपनों के बीच जब हम हमारे घर में समय बिताते हैं तो एक
    अलग ही खुशनुमा आनंद सा छा जाता है. जब किसी सदस्य के घर पहुँचने में देरी होती है, तो बाकि
    के सदस्य उसकी चिंता करते हैं. घर हमें सुरक्षा का एहसास करवाता है. हम अपने घर की हर दिन
    साफ-सफाई करते हैं. रोज घर के सभी सदस्य नहाकर पाठ-पूजा करते हैं. घर में अलग-अलग लोगों
    के लिए अलग-अलग कमरे होते हैं. और परिवार के साथ समय बिताने के लिए हॉल होता है जहां बड़े और
    बच्चे सभी मिलकर अपना समय व्यतीत करते हैं. हम सभी लोग अपने-अपने घर को अपने तरीके से सजा
    कर रखते हैं. और जब हम कहीं बाहर जाते हैं तो घर में सजावट की सुंदर-सुंदर वस्तुएं लेकर आते हैं.
    मेरे घर में एक बगीचा और बालकनी भी है जहां हम छुट्टी और धुप का दिन भर बैठकर आनंद
    लेते हैं. मेरे कमरे की दीवार पर मेरे परिवार के सभी सदस्यों की तस्वीर लगी हुई है. मेरे घर की रसोई
    कुछ बड़ी है जहां हम सभी सदस्य साथ बैठकर भोजन करते हैं.
  • मेरा घर निबंध – Mera Ghar Essay in Hindi

  • हमारी TV हमने हॉल में लगा रखी है जिससे कि सारा परिवार एक साथ इकट्ठा होकर TV  देखते हैं.
    जब भी हम काम से थक कर घर आते हैं तो एक अलग ही आराम और सुकून मिलता है.
    पूरी थकान से राहत मिलती है जब हम अपने घर आते हैं. हमारे घर की छत बहुत ही बड़ी और सुंदर है.
    हमने छत पर कुछ गमलों में पौधे लगा रखे हैं. सर्दियों में हम सभी छत पर जाकर धूप का आनंद लेते हैं.
    तीज-त्योहार भी हम अपने छत पर जाकर मनाते हैं.
    हमारे घर के सामने एक बहुत बड़ा मैदान है जिसमें हम सभी मोहल्ले वाले इकट्ठे होकर तीज त्यौहार
    तो मनाते ही हैं इसके साथ-साथ आम दिनों में भी मोहल्ले के बच्चे रोज शाम को वहां खेलते हैं.
    तीज त्योहारों पर हम अपने घर को फिर से रंग चढ़ाकर नए जैसा बनाते हैं. त्योहारों में हम अपने
    घर के आंगन में रंगोली बनाते हैं. हम सभी के घरों में सभी के रहने के अलग-अलग कमरे होते हैं
    जिसे सब अपने अपने तरीके से सजाते हैं. मेरे घर में मेहमानों के लिए भी एक कमरा है लेकिन
    कभी अधिक मेहमान होने पर भी हम हमारे घर में आराम से रह पाते हैं और हमें हमारे घर में
    बहुत आनंद आता है. अतः हमारा घर हमारे लिए सुखमय संसार है.
  • Samay ka Mahatva Essay in hindi समय का महत्व निबंध samay ka sadupyog

.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.