नवग्रह स्तोत्रम् –  Navagraha Stotram in Sanskrit With Hindi Meaning :

नवग्रह स्तोत्रम् –  Navagraha Stotram in Sanskrit With Hindi Meaning
नवग्रह स्तोत्रम् -  Navagraha Stotram in Sanskrit With Hindi Meaning

नवग्रह स्तोत्रम् – Navagraha Stotram in Sanskrit With Hindi Meaning.

  • इस स्तोत्र को व्यास ऋषि ने लिखा है. इस स्तोत्र में नौ ग्रहों के नौ मंत्र शामिल हैं. इस स्तोत्र का पाठ करने से सभी परेशानियां, कठिनाइयां हमारे जीवन से दूर हो जाती हैं. बुरे सपने नहीं आते, हमारे जीवन से सभी प्रकार के दुःख भी दूर हो जाते हैं. हम सुख प्राप्त करते हैं, धनी और समृद्ध होते हैं और अच्छा स्वास्थ्य होता है. हमें प्रतिदिन इस स्तोत्र का पाठ श्रद्धा, भक्ति और एकाग्रता के साथ करना चाहिए.
  • अथ नवग्रह स्तोत्र II
    श्री गणेशाय नमः II
    जपाकुसुम संकाशं काश्यपेयं महदद्युतिम् I
    तमोरिंसर्वपापघ्नं प्रणतोSस्मि दिवाकरम् II १ II
    दधिशंखतुषाराभं क्षीरोदार्णव संभवम् I
    नमामि शशिनं सोमं शंभोर्मुकुट भूषणम् II २ II
    धरणीगर्भ संभूतं विद्युत्कांति समप्रभम् I
    कुमारं शक्तिहस्तं तं मंगलं प्रणाम्यहम् II ३ II
    प्रियंगुकलिकाश्यामं रुपेणाप्रतिमं बुधम् I
    सौम्यं सौम्यगुणोपेतं तं बुधं प्रणमाम्यहम् II ४ II
    देवानांच ऋषीनांच गुरुं कांचन सन्निभम् I
    बुद्धिभूतं त्रिलोकेशं तं नमामि बृहस्पतिम् II ५ II
    हिमकुंद मृणालाभं दैत्यानां परमं गुरुम् I
    सर्वशास्त्र प्रवक्तारं भार्गवं प्रणमाम्यहम् II ६ II
    नीलांजन समाभासं रविपुत्रं यमाग्रजम् I
    छायामार्तंड संभूतं तं नमामि शनैश्चरम् II ७ II
    अर्धकायं महावीर्यं चंद्रादित्य विमर्दनम् I
    सिंहिकागर्भसंभूतं तं राहुं प्रणमाम्यहम् II ८ II
    पलाशपुष्पसंकाशं तारकाग्रह मस्तकम् I
    रौद्रंरौद्रात्मकं घोरं तं केतुं प्रणमाम्यहम् II ९ II
    इति श्रीव्यासमुखोग्दीतम् यः पठेत् सुसमाहितः I
    दिवा वा यदि वा रात्रौ विघ्न शांतिर्भविष्यति II १० II
    नरनारी नृपाणांच भवेत् दुःस्वप्ननाशनम् I
    ऐश्वर्यमतुलं तेषां आरोग्यं पुष्टिवर्धनम् II ११ II
    ग्रहनक्षत्रजाः पीडास्तस्कराग्निसमुभ्दवाः I
    ता सर्वाःप्रशमं यान्ति व्यासोब्रुते न संशयः II १२ II
    II इति श्रीव्यास विरचितम् आदित्यादी नवग्रह स्तोत्रं संपूर्णं II

अर्थ – नवग्रह स्तोत्रम् –  Navagraha Stotram in Hindi Meaning

  • जपा के फूल की तरह जिनकी कान्ति है, कश्यप से जो उत्पन्न हुए हैं,

    अन्धकार जिनका शत्रु है, जो सब पापों को नष्ट कर देते हैं, उन सूर्य भगवान् को मैं प्रणाम करता हूँ.

  • दही, शंख अथवा हिम के समान जिनकी दीप्ति है, जिनकी उत्पत्ति क्षीर-समुद्र से है, जो शिवजी के मुकुट पर अलंकार की तरह विराजमान रहते हैं, मैं उन चन्द्रदेव को प्रणाम करता हूँ.
  • पृथ्वी के उदर से जिनकी उत्पत्ति हुई है, विद्युत्पुंज के समान जिनकी प्रभा है, जो हाथों में शक्ति धारण किये रहते हैं, उन मंगल देव को मैं प्रणाम करता हूँ.
  • प्रियंगु की कली की तरह जिनका श्याम वर्ण है, जिनके रूप की कोई उपमा नहीं है, उन सौम्य और गुणों से युक्त बुध को मैं प्रणाम करता हूँ.
  • जो देवताओं और ऋषियों के गुरु हैं, कंचन के समान जिनकी प्रभा है, जो बुद्धि के अखण्ड भण्डार और तीनों लोकों के प्रभु हैं, उन बृहस्पति को मैं प्रणाम करता हूँ.
  • तुषार, कुन्द अथवा मृणाल के समान जिनकी आभा है, जो दैत्यों के परम गुरु हैं, उन सब शास्त्रों के अद्वितीय वक्ता शुक्राचार्यजी को मैं प्रणाम करता हूँ.
  • नील अंजन के समान जिनकी दीप्ति है, जो सूर्य भगवान् के पुत्र तथा यमराज के बड़े भ्राता हैं, सूर्य की छाया से जिनकी उत्पत्ति हुई है, उन शनैश्चर देवता को मैं प्रणाम करता हूँ.
  • जिनका केवल आधा शरीर है, जिनमें महान् पराक्रम है, जो चन्द्र और सूर्य को भी परास्त कर देते हैं, सिंहिका के गर्भ से जिनकी उत्पत्ति हुई है, उन राहु देवता को मैं प्रणाम करता हूँ.
  • पलाश के फूल की तरह जिनकी लाल दीप्ति है, जो समस्त तारकाओं में श्रेष्ठ हैं, जो स्वयं रौद्र रूप और रौद्रात्मक हैं, ऐसे घोर रूपधारी केतु को मैं प्रणाम करता हूँ.
  • व्यास के मुख से निकले हुए इस स्तोत्र का जो दिन या रात्रि के समय पाठ करता है, उसकी सारी विघ्नबाधायें शान्त हो जाती हैं.
  • संसार के साधारण स्त्री पुरुष और राजाओं के भी दुःस्वप्न जन्य दोष दूर हो जाते हैं.
  • किसी भी ग्रह, नक्षत्र, चोर तथा अग्नि से जायमान पीड़ायें शान्त हो जाती हैं.
  • नवग्रह स्तोत्रम् – Navagraha Stotram in Sanskrit With Hindi Meaning
  • Rashtriya Geet Vande Mataram word meaning in hindi – वन्दे मातरम् का अर्थ

.

Leave a Reply

Your email address will not be published.