Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages
Home / Hindi Poem Kavita Poetry / भगतसिंह सुखदेव राजगुरु पर कविता – Poem On Bhagat Singh in Hindi sukhdev rajguru

भगतसिंह सुखदेव राजगुरु पर कविता – Poem On Bhagat Singh in Hindi sukhdev rajguru

poem on bhagat singh in hindi – poem on veer bhagat singh – bhagat singh mastana tha poem – poem on bhagat singh in hindi – poem on freedom fighter bhagat singh in hindi – shaheed poem hindi – poem on bhagat singh rajguru and sukhdev – rhymes on bhagat singh – short poem on bhagat singh in hindi font – long poem on bhagat singh in hindi language
भगतसिंह सुखदेव राजगुरु पर कविता - Poem On Bhagat Singh in Hindi sukhdev rajguru

 

  • भगत सिंह ऐसे स्वतंत्रता सेनानी हैं, जो आज भी भारतीय को प्रेरित करते हैं. हम आपके लिए लेकर आए हैं भगत सिंह पर कविता. हमें विश्वास है आपको शहीद भगतसिंह की कविता पसंद आएगी.
  • Veer Bhagat Singh Par Kavita – poem on bhagat singh in hindi

 

  • शहीद वीर भगतसिंह
  • युगों तक तेरी कुर्बानी का ज़िकर रहेगा
    ऐ भगत! तेरा इतिहास अमर रहेगा ।
    नज़ारा तेरी शहादत-सा कहीं नहीं,
    ये देश क्रांति का ‘वो’ दीपक ढूंढता है,
    वो मार के भी तुझे मार ना सके,
    लाहौर की गलियों में अब भी ‘इंक़लाब’ गूंजता है,
    युगों तक रहेगा तेरे यौवन का त्याग,
    युगों तक तेरे तूफानी हौसलों का असर रहेगा,
    ऐ भगत! तेरा इतिहास अमर रहेगा ।
    जन्मा था एक वीर, ग़ुलामी से लड़ाई के लिए,
    आँखों में एक आग लिए बुराई के लिए,
    जंजीरों का उसपे ज़ोर कहाँ था जिसने
    अपनी रूह रिहा कर दी वतन की रिहाई के लिए,
    फ़िज़ाओं में तेरी खुशबू अब भी है बाक़ी,
    इस मिट्टी में तेरी सरफ़रोशी का कहर रहेगा,
    ऐ भगत! तेरा इतिहास अमर रहेगा ।
    – जया पाण्डेय (Jaya Pandey)
  • Sheed Bhagat Singh Ki Kavita

  • सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,
    देखना है जोर कितना बाजू-ए-कातिल में है ।
    करता नहीं क्यों दूसरा कुछ बातचीत,
    देखता हूँ मैं जिसे वो चुप तेरी महफिल मैं है ।
    यों खड़ा मक़्तल में कातिल कह रहा है बार-बार
    क्या तमन्ना-ए-शहादत भी किसी के दिल में है ।
    ऐ शहीदे-मुल्को-मिल्लत मैं तेरे ऊपर निसार
    अब तेरी हिम्मत का चर्चा ग़ैर की महफिल में है ।
    वक्त आने दे बता देंगे तुझे ऐ आसमां,
    हम अभी से क्या बतायें क्या हमारे दिल में है ।
    खींच कर लाई है सब को कत्ल होने की उम्मीद,
    आशिकों का आज जमघट कूचा-ऐ-कातिल में है ।
    सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,
    देखना है जोर कितना बाजू-ए-कातिल में है ।
    – Poem by Bhagat Singh

 

  • Poem on Bhagat Singh Sukhdev & Rajguru in Hindi

  • आज लग रहा कैसा जी को कैसी आज घुटन है
    दिल बैठा सा जाता है, हर साँस आज उन्मन है
    बुझे बुझे मन पर ये कैसी बोझिलता भारी है
    क्या वीरों की आज कूच करने की तैयारी है?
    हाँ सचमुच ही तैयारी यह, आज कूच की बेला
    माँ के तीन लाल जाएँगे, भगत न एक अकेला
    मातृभूमि पर अर्पित होंगे, तीन फूल ये पावन,
    यह उनका त्योहार सुहावन, यह दिन उन्हें सुहावन।
    फाँसी की कोठरी बनी अब इन्हें रंगशाला है
    झूम झूम सहगान हो रहा, मन क्या मतवाला है।
    भगत गा रहा आज चले हम पहन वसंती चोला
    जिसे पहन कर वीर शिवा ने माँ का बंधन खोला।
    झन झन झन बज रहीं बेड़ियाँ, ताल दे रहीं स्वर में
    झूम रहे सुखदेव राजगुरु भी हैं आज लहर में।
    नाच नाच उठते ऊपर दोनों हाथ उठाकर,
    स्वर में ताल मिलाते, पैरों की बेड़ी खनकाकर।
    पुनः वही आलाप, रंगें हम आज वसंती चोला
    जिसे पहन राणा प्रताप वीरों की वाणी बोला।
    वही वसंती चोला हम भी आज खुशी से पहने,
    लपटें बन जातीं जिसके हित भारत की माँ बहनें।
    उसी रंग में अपने मन को रँग रँग कर हम झूमें,
    हम परवाने बलिदानों की अमर शिखाएँ चूमें।
    हमें वसंती चोला माँ तू स्वयं आज पहना दे,
    तू अपने हाथों से हमको रण के लिए सजा दे।
    सचमुच ही आ गया निमंत्रण लो इनको यह रण का,
    बलिदानों का पुण्य पर्व यह बन त्योहार मरण का।
    जल के तीन पात्र सम्मुख रख, यम का प्रतिनिधि बोला,
    स्नान करो, पावन कर लो तुम तीनो अपना चोला।
    झूम उठे यह सुनकर तीनो ही अल्हण मर्दाने,
    लगे गूँजने और तौव्र हो, उनके मस्त तराने।
    लगी लहरने कारागृह में इंक्लाव की धारा,
    जिसने भी स्वर सुना वही प्रतिउत्तर में हुंकारा।
    खूब उछाला एक दूसरे पर तीनों ने पानी,
    होली का हुड़दंग बन गई उनकी मस्त जवानी।
    गले लगाया एक दूसरे को बाँहों में कस कर,
    भावों के सब बाँढ़ तोड़ कर भेंटे वीर परस्पर।
    मृत्यु मंच की ओर बढ़ चले अब तीनो अलबेले,
    प्रश्न जटिल था कौन मृत्यु से सबसे पहले खेले।
    बोल उठे सुखदेव, शहादत पहले मेरा हक है,
    वय में मैं ही बड़ा सभी से, नहीं तनिक भी शक है।
    तर्क राजगुरु का था, सबसे छोटा हूँ मैं भाई,
    छोटों की अभिलषा पहले पूरी होती आई।
    एक और भी कारण, यदि पहले फाँसी पाऊँगा,
    बिना बिलम्ब किए मैं सीधा स्वर्ग धाम जाऊँगा।
    बढ़िया फ्लैट वहाँ आरक्षित कर तैयार मिलूँगा,
    आप लोग जब पहुँचेंगे, सैल्यूट वहाँ मारूँगा।
    पहले ही मैं ख्याति आप लोगों की फैलाऊँगा,
    स्वर्गवासियों से परिचय मैं बढ, चढ़ करवाऊँगा।
    तर्क बहुत बढ़िया था उसका, बढ़िया उसकी मस्ती,
    अधिकारी थे चकित देख कर बलिदानी की हस्ती।
    भगत सिंह के नौकर का था अभिनय खूब निभाया,
    स्वर्ग पहुँच कर उसी काम को उसका मन ललचाया।
    भगत सिंह ने समझाया यह न्याय नीति कहती है,
    जब दो झगड़ें, बात तीसरे की तब बन रहती है।
    जो मध्यस्त, बात उसकी ही दोनों पक्ष निभाते,
    इसीलिए पहले मैं झूलूं, न्याय नीति के नाते।
    यह घोटाला देख चकित थे, न्याय नीति अधिकारी,
    होड़ा होड़ी और मौत की, ये कैसे अवतारी।
    मौत सिद्ध बन गई, झगड़ते हैं ये जिसको पाने,
    कहीं किसी ने देखे हैं क्या इन जैसे दीवाने?
    मौत, नाम सुनते ही जिसका, लोग काँप जाते हैं,
    उसको पाने झगड़ रहे ये, कैसे मदमाते हें।
    भय इनसे भयभीत, अरे यह कैसी अल्हण मस्ती,
    वन्दनीय है सचमुच ही इन दीवानो की हस्ती।
    मिला शासनादेश, बताओ अन्तिम अभिलाषाएँ,
    उत्तर मिला, मुक्ति कुछ क्षण को हम बंधन से पाएँ।
    मुक्ति मिली हथकड़ियों से अब प्रलय वीर हुंकारे,
    फूट पड़े उनके कंठों से इन्क्लाब के नारे ।
    इन्क्लाब हो अमर हमारा, इन्क्लाब की जय हो,
    इस साम्राज्यवाद का भारत की धरती से क्षय हो।
    हँसती गाती आजादी का नया सवेरा आए,
    विजय केतु अपनी धरती पर अपना ही लहराए।
    और इस तरह नारों के स्वर में वे तीनों डूबे,
    बने प्रेरणा जग को, उनके बलिदानी मंसूबे।
    भारत माँ के तीन सुकोमल फूल हुए न्योछावर,
    हँसते हँसते झूल गए थे फाँसी के फंदों पर।
    हुए मातृवेदी पर अर्पित तीन सूरमा हँस कर,
    विदा हो गए तीन वीर, दे यश की अमर धरोहर।
    अमर धरोहर यह, हम अपने प्राणों से दुलराएँ,
    सिंच रक्त से हम आजादी का उपवन महकाएँ।
    जलती रहे सभी के उर में यह बलिदान कहानी,
    तेज धार पर रहे सदा अपने पौरुष का पानी।
    जिस धरती बेटे हम, सब काम उसी के आएँ,
    जीवन देकर हम धरती पर, जन मंगल बरसाएँ।।
    – Shree Krishna Saral
    आपको हमारी कविताओं (poem on bhagat singh in hindi) का संकलन कैसा लगा, जरुर बताएँ.

 

Related Posts

About Abhi SuvicharHindi.Com

Hi, friends, SuvicharHindi.Com की कोशिश है कि हिंदी पाठकों को उनकी पसंद की हर जानकारी SuvicharHindi.Com में मिले. SuvicharHindi.com में आपको Hindi shayari, Hindi Ghazal, Long & Short Hindi Slogans, Hindi Posters, Hindi Quotes with images wallpapers || Hindi Thoughts || Hindi Suvichar, Hindi & English Status, Hindi MSG Messages 140 words text, Hindi wishes, Best Hindi Tips & Tricks, Hindi Dadi maa ke Gharelu Nuskhe, Hindi Biography jeevan parichay jivani, Cute Hindi Poems poetry || Awesome Kavita, Hindi essay nibandh, Hindi Geet Lyrics, Hindi 2 sad / happy / romantic / liners / boyfriend / girlfriend gf / bf for facebook ( fb ) & whatsapp, useful 1 one line rs मिलेंगे. हमारे Website में दी गई चिकित्सा सम्बन्धित जानकारियाँ / Upay / Tarike / Nuskhe केवल जानकारी के लिए है, इनका उपयोग करने से पहले निकट के किसी Doctor से सलाह जरुर लें.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!