Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

दहेज प्रथा पर कविता – Poem On Dahej Pratha in Hindi Poem on Dowry in Hindi :

Tags : poem on dahej pratha hindi dahej pratha dahej pratha hindi inspirational stories hindi motivational story hindi dahej pratha hindi poem dahej pratha essay hindi dahej pratha poem hindi language dahej pratha english essay dahej pratha poem hindi dahej pratha story hindi essay on dahej pratha hindi poem on child labour hindi dahej poem hindi dahej pratha hindi project dahej pratha hindi essay dahej pratha essay hindi language dahej pratha natak hindi dahej pratha essay english dahej pratha par natak hindi dahej pratha shayari hindi dahej shayari hindi short motivational story hindi short inspirational stories hindi dahej pratha par nibandh dahej pratha hindi essay paper dahej pratha shayari dahej pratha ek abhishap essay hindi dahej pratha par natak dahej pratha hindi nibandh dahej pratha ek abhishap dahej shayari julius caesar hindi essay on dahej pratha hindi language dahej pratha speech hindi hindi essay on dahej pratha dahej pratha drama script dahej pratha par nibandh hindi dahej pratha nibandh hindi dahej pratha english speech on dahej pratha hindi dahej pratha natak dahej pratha punjabi language dahej pratha essay gujarati school natak script beti bachao hindi poem dahej essay hindi essay on dahej pratha gharelu hinsa essay hindi on dahej pratha dahej ek abhishap hindi dahej pratha law hindi essay on dahej ek abhishap hindi short essay on dahej pratha hindi dahej hindi easy story on dahej hindi slogan on dahej pratha hindi hindi kavitaye sati pratha hindi about dahej pratha hindi dahej english dahej pratha nibandh hindi bhrashtachar hindi poem dahej pratha essay punjabi language paragraph on dahej pratha hindi dahej case hindi dahej bal vivah poem hindi essay dahej pratha hindi nibandh on dahej pratha hindi dahej pratha kanoon hindi dahej act hindi dahej pratha hindi essay dahej pratha topic hindi dahej pratha hindi essay on doordarshan english gharelu hinsa act ladka ladki ek saman essay hindi wikipedia dahej pratha article hindi dhara 498 poem on social issues hindi dahej pratha slogan hindi dahej pratha hindi language dahej ek abhishap hindi poems on social evils dauri system custom hindi hindi speech on dahej pratha poem on jati pratha hindi doordarshan essay hindi dahej pratha kanoon father of hindi language samajik samasya par kavita hindi paratha hindi hindi nibandh on doordarshan essay on father hindi script on dahej pratha hindi dahej pratha hindi wikipedia dahej ek dushan dahej meaning english 10 slogans on dahej pratha hindi dahej pratha act jati pratha essay hindi essay on desh bhakti hindi language prathaa dahej quotes dahej act india hindi dahej pratha wikipedia hindi essay app dahej quotes hindi dahej ek abhishap essay hindi dahej pratha act hindi dahej pratha hindi pdf social evils poems hindi hindi nibandh on dahej pratha dahej pratha story hindi poem on social evil bhrashtachar poem hindi language dahej hindi 24 hindi language dahej pratha essay hindi wikipedia nukkad natak hindi on dahej pratha dahej pratha essay hindi pdf father hindi language dahej pratha punjabi dahej pratha gujarati pratha hindi doordarshan essay dahej pratha drama hindi sati pratha hindi pdf dahej pratha english wikipedia essay on doordarshan essay of doordarshan hindi essay on satsangati essay on father hindi language samaj par kavita hindi dahej pratha image dahej ek abhishap par slogan hindi dahej geet winter hindi language dahej pratha punjabi wikipedia dahej pratha meaning english who is the father of hindi language essay on sports hindi slogan on dahej pratha slogan on dahej pratha hindi language dahej pratha law dahej case se kaise bache who is father of hindi language essay on ship hindi language dahej pratha poster dahej drama samajik samasya par kavita bal vivah pratha hindi dahej pratha slogan dahej pratha wikipedia hindi dahej pratha news hindi dahej kanoon hindi samaj par hindi kavita dahej pratha ke karan hindi quotes on dahej pratha hindi images of dahej pratha dahej pratha par slogan dahej pratha drama samajik samasya par nibandh hindi daheja dahej pratha song nibandh on desh bhakti hindi dahej pratha ke karan dahej pratha pictures dahej pratha case desh bhakti par anuched about dahej slogan on dahej dahej ki samasya hindi drama on dahej pratha dahej par slogan dahej hatya hindi slogan on dahej hindi dahej ek samasya hindi dahej slogan hindi essays on doordarshan slogans on dahej slogan on dahej ek abhishap hai dahej ek samasya dahej ek abhishap slogan hindi slogans on dahej ek abhishap hindi

Poem On Dahej Pratha in Hindi – दहेज प्रथा पर कविता 
दहेज प्रथा पर कविता - Poem On Dahej Pratha in Hindi

Poem On Dahej Pratha in Hindi – Poem on Dowry in Hindi

  • # -; दहेज – पिशाचिनी :- #

    दहेज- पिशाचिनी नाच रही है
    खूनी- खप्पर भर – भर कर !
    असली पूतना मरी नहीं
    सोने नहीं देती रात भर !
    बस यही सपना है मेरा
    मिल जाये सुंदर सा वर !
    झट बेटी का व्याह रचाता
    चैन से सोता रात भर !
    गया मंडी में बोली सुनने
    भौंचक रह गया सुनकर !
    दहेज -पिशाचिनी नाच रही है
    खूनी – खप्पर भर – भर कर !
    बस यही सपना है मेरा
    घर पर आये रिश्ते -नाते !
    धूम – धड़ाके , गाजे – बाजे
    नन्हें , युवा , बुड् ढें नाचे !
    स्वागत में न कोई कोर – कसर हो
    करूँ खातिरदारी बढ़ – चढ़ कर !
    दहेज – पिशाचिनी नाच रही है
    खूनी – खप्पर भर – भर कर !
    मुझमें इतना चातुर्य नहीं
    न मिला लूटने का अवसर !
    बेटी का व्याह रचाना है
    पर लाऊँ कहाँ से ज़ेवर !
    बेच दिया जो था पुस्तैनी
    न रह जाये कोई कोर – कसर !
    दहेज – पिशाचिनी नाच रही है
    खूनी – खप्पर भर – भर कर !
    कौडी – कौडी जोड रखा था
    मुँह पर पट्टी बाँध कर !
    गाढी कमाई स्वाहा हो गई
    कुरीतियों की होली पर !
    मेरी नाक तो कटा नहीं
    क्यों हँस रहे मुझे देखकर ?
    दहेज – पिशाचिनी नाच रही है
    खूनी – खप्पर भर – भर कर !
    चन्दन कुमार
    प्रधानाध्यापक
    स्तरोन्नत उच्च विध्यालय लठेया
    छत्तरपुर ,पलामू

  • दहेज प्रथा – Poem On Dahej Pratha in Hindi – Poem on Dowry in Hindi

    कहते हैं भगवान की अतुलनीय देन है बेटियाँ
    होता है जब जन्म उसका, तो माँ-बाप के घर-आंगन में आ जाती है बहार
    खिलखिलाहट से उसकी चहक उठता है उनका संसार
    रखा जाने लगता है उसकी हर खुशी का ध्यान
    माना जाने लगता है लक्ष्मी का रुप उसे
    माता-पिता उसके भविष्य की सोच,
    उसकी शादी को ही अपना लक्ष्य मान
    सब संजोना शुरू कर देते हैं उसके लिए
    कहने को तो कहते हैं हमेशा यही कि बेटियाँ होती हैं पराया-धन…
    पर भूल बैठते हैं कि वो रहेगी हमेशा उनका अंग
    पाल-पोष कर अपनी मासूम-सी कली को
    सिखाते हैं.. दुनियादारी की बातें सारी
    ताकि ना रह जाए कोई कमी, उसके बनने में आदर्श नारी
    हर गुर सिखाते हैं अपनी तरफ से उसे घर-संसार चलाने के….
    करके मजबूत खुद को हो जाते हैं तैयार
    सौंपने को अपने कलेजे का टुकड़ा किसी और को
    ये मानकर कि यही है रीत, इस कठोर समाज की
    पाई-पाई कमाई हुई पूँजी को लुटाने
    दहेज पर रहते हैं राजी हमेशा
    क्योंकि उन्हें निभानी होती है समाज की ये प्रथा
    कर बैठते हैं भूल ना समझकर
    कि उनकी बेटी नहीं, उसके साथ जा रहे
    पैसे और सामान से है दहेज वालों को प्यार…
    रिश्ता नहीं करते हैं दहेज लोभी, उनके लिए ये होता है सौदा
    अपनी लाडली की खुशी के लिए ही..
    मन मसोस कर, उसका भला सोचकर
    उसे प्यार से सजाकर दुल्हन बना कर देते हैं विदा
    पर क्या लालच की नींव पर किसी ने सुख पाया है??
    क्या लालचियों को कभी कोई संतुष्ट कर पाया है??
    उनके घर जाकर उन माँ-बाप की
    लाडली ने खुद को हमेशा सबसे अकेला पाया है
    जिस सम्मान की आस में
    उसने विश्वास के साथ जीवन भर
    का था रिश्ता जोडा़..
    जिसके लिए उसके पिता ने
    नहीं छोड़ा कसर थोड़ा..
    उसी दहेज की आग ने उसके
    आत्मसम्मान को तिल-तिल जलाया है..
    पर फिर भी दुनियादारी की सोच
    रिश्तो का मान रखने के लिए
    उस बेटी ने अपना फर्ज बहु बन निभाया है
    कभी उफ ना करते हुए उनकी लाडली ने
    हमेशा हँसते हुए अपना दर्द छुपाया है
    पर क्या माता-पिता से कभी कुछ छिप पाया है?
    उन्हें भी सब खबर है, पर विदा कर दी गई बेटी
    के आँसु को कौन माँ-बाप पोंछ पाया है?
    आज ये दुनियादारी पड़ी उन पर बड़ी भारी
    काश! समझा होता असली रिश्तेदारी
    काश! उन्होने अपनी लाडली का रिश्ता
    सही जगह करवाया होता..
    थोड़ा सा सब्र रखा होता..
    किसी होनहार-समझदार लड़के से
    अपनी बेटी का रिश्ता करवाया होता..
    तो इस तरह उन्हें अपनी लाडली के
    अरमान टूटता हुआ नजर ना आया होता
    पर भी आज यहाँ दहेज के नाम पर कुप्रथा है जारी
    आज भी बेटी की खुशियों का हवाला देकर
    उनमें ग्रहण लगाना है दुनियादारी
    दहेज को यहाँ मान-सम्मान की कसौटी पर है तौला जाता
    और अपने आत्मसम्मान को इस कुरिति तले खुद ही है रौंदा जाता
    अमीर हो या गरीब हर कोई, इस आँच में है झुलस रहा
    पर आज भी हर कोई इसके आँच को बढ़ावा देने आग में है घी झोंक रहा
    नहीं है हिम्मत किसी में यहाँ कि कर पाए इसे ना
    यहाँ तो हर लड़के के माँ-बाप अपने बेटे को हैं बेच रहें
    दहेज के बाजार में बढ़-चढ़ के लगाते हैं बोली…
    करते हैं तय कीमत अपने ही परवरिश की..
    और कहलाते हैं सम्मान के अधिकारी भी
    दूसरी ओर जिन माँ-बाप ने अपनी
    बेटी संग अपने जीवन भर की पूँजी
    भी सौंप दी उन्हें वही सिर झुकाए,
    नजरें गिराए, हाथ जोड़े, शर्मिंदा देखे जाते हैं यहाँ
    समाज का हवाला देनेवाले तालियाँ बजा तमाशा देखते हैं
    नहीं आती इनमें रत्ति मात्र भी समझदारी
    कि पैसे और सामान से नहीं बनते रिश्ते
    ये होती है सौदेबाजी…
    कुर्बान होती हैं जिनमें बेटियाँ सारी
    और ये समाज कहता है ये प्रथा परंपरा है हमारी..
    बिन दहेज नहीं होगी रिश्तेदारी
    प्रथा के नाम पर कुप्रथा है लगातार जारी
    और हर कोई इसमें देते हैं अपनी-अपनी भागेदारी
    – ज्योति सिंहदेव

.

About Abhi @ SuvicharHindi.Com ( SEO, Tips, Thoughts, Shayari )

Hi, Friends मैं Abhi, SuvicharHindi.Com का Founder और Owner हूँ. हमारा उद्देश्य है Visitors के लिए विभन्न प्रकार की जानकारियाँ उपलब्ध करवाना. अगर आप भी लिखने का शौक रखते हैं, तो 25suvicharhindi@gmail.com पर अपनी मौलिक रचनाएँ जरुर भेजें.

4 comments

  1. Monika sharma

    Very nice

  2. Sangeeta pandey

    I salute that person who wrote this

  3. Parth Bhavesh Shah

    very good

  4. HindIndia

    बहुत ही उम्दा …. sundar lekh …. Thanks for sharing this nice article!! 🙂 🙂

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!