Recent Posts

कर्तव्य पर हिन्दी कविता – Poem On Kartavya in Hindi Responsibility

Poem On Kartavya in Hindi – कर्तव्य पर हिन्दी कविता – Poem On Kartavya in Hindi Responsibility
कर्तव्य पर हिन्दी कविता - Poem On Kartavya in Hindi Responsibility

 

  • “कर्त्तव्य “

 

  • ओ कर्त्तव्य विमूढ़ पुत्रों !
    क्या तुम वही  शिशु आँचल वाला ;
    जिसका क्रंदन होता था शांत ,
    माँ के वक्षस्थल से लगकर !
    जिसकी ऊँगली को थाम तुम
    शैशव से तारुण्य हुए
    क्या नहीं यह वही माता ,
    तुम जिसकी ममता से दूर हुए ?
    माँ ने तेरा घर बसाया
    चूल्हे -चौंके से मुक्ति को ,
    परिणाम दिया तूने ऐसा
    वह चाहती जीवन मुक्ति को !
    बहु तो हुई उछश्रृंखलता की
    उड़नखटोला पर आसीन
    रोज़ सास पर ताना कसती
    और रहती फैशन में लीन ,
    जो कभी देती थी तुझे
    तेरे प्यासे होटों को पानी
    उसी के ह्रदय में चुभती है
    अब तेरी पत्नी की वाणी !
    ओ श्रवण सदृश पुत्रों !
    याद करो बच्चपन अपना
    किस खून पसीने की मालिश से
    सम्पुस्ट हुई रग -रग  तेरी !
    क्यों भूल गए तुम पुत्र धर्म
    पत्नी स्वार्थ के आगे ?
    ओ वृद्धा के स्वास्थ्य भविस्य
    पशु नहीं तुम हो मनुष्य
    अगर पुत्रत्व शेष है तुममे
    तो खाओ एक कर्त्तव्य शपथ
    सहलाओगे माँ की पीड़ा को
    सदा रहोगे साथ -साथ  !
    – डॉ० निर्मल आनंद
  • “karttavy ”
    • o karttavy vimoodh putron !
    kya tum vahee shishu aanchal vaala ;
    jisaka krandan hota tha shaant ,
    maan ke vakshasthal se lagakar !
    jisakee oongalee ko thaam tum
    shaishav se taaruny hue
    kya nahin yah vahee maata ,
    tum jisakee mamata se door hue ?
    maan ne tera ghar basaaya
    choolhe -chaunke se mukti ko ,
    parinaam diya toone aisa
    vah chaahatee jeevan mukti ko !
    bahu to huee uchhashrrnkhalata kee
    udanakhatola par aaseen
    roz saas par taana kasatee
    aur rahatee phaishan mein leen ,
    jo kabhee detee thee tujhe
    tere pyaase hoton ko paanee
    usee ke hraday mein chubhatee hai
    ab teree patnee kee vaanee !
    o shravan sadrsh putron !
    yaad karo bachchapan apana
    kis khoon paseene kee maalish se
    sampust huee rag -rag teree !
    kyon bhool gae tum putr dharm
    patnee svaarth ke aage ?
    o vrddha ke svaasthy bhavisy
    pashu nahin tum ho manushy
    agar putratv shesh hai tumame
    to khao ek karttavy shapath
    sahalaoge maan kee peeda ko
    sada rahoge saath -saath !

 

अगर आप कविता, कहानी इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए.

About Abhi

Hi, friends, SuvicharHindi.Com की कोशिश है कि हिंदी पाठकों को उनकी पसंद की हर जानकारी SuvicharHindi.Com में मिले. SuvicharHindi.com में आपको Hindi shayari, Hindi Ghazal, Long & Short Hindi Slogans, Hindi Posters, Hindi Quotes with images wallpapers || Hindi Thoughts || Hindi Suvichar, Hindi & English Status, Hindi MSG Messages 140 words text, Hindi wishes, Best Hindi Tips & Tricks, Hindi Dadi maa ke Gharelu Nuskhe, Hindi Biography jeevan parichay jivani, Cute Hindi Poems poetry || Awesome Kavita, Hindi essay nibandh, Hindi Geet Lyrics, Hindi 2 sad / happy / romantic / liners / boyfriend / girlfriend gf / bf for facebook ( fb ) & whatsapp, useful 1 one line rs मिलेंगे. हमारे Website में दी गई चिकित्सा सम्बन्धित जानकारियाँ / Upay / Tarike / Nuskhe केवल जानकारी के लिए है, इनका उपयोग करने से पहले निकट के किसी Doctor से सलाह जरुर लें.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!