अब्दुल कलाम पर कविता – Poem on APJ Abdul Kalam in Hindi Kavita

अब्दुल कलाम पर कविता – Poem on APJ Abdul Kalam in Hindi Kavita
अब्दुल कलाम पर कविता - Poem on APJ Abdul Kalam in Hindi Kavita

अब्दुल कलाम पर कविता – Poem on APJ Abdul Kalam in Hindi Kavita

  • भारत रत्न अब्दुल कलाम

  • निखरे थे  जो कोयले से हीरा बन 
    विरासत में नहीं मेहनत के बल पर 
    जन्मस्थली थी जिनकी  भुवनेश्वर
    कैरियर किया शुरू अखबार बेचकर .
    पढ़ाई की उन्होने दिन रात एक कर 
    दूर रहे सदा जाति धर्म के भेद पर .
    ​डंका बजाया मिसाइल मैन बनकर 
    पहुंचा दिया देश को ले जा फलक पर .
    ​दूर रहे तेरा मेरा कहने से उम्र भर 
    सदुपयोग किया समय का हर पल .
    ​बने राष्ट्रपति तो गए  गुलज़ार कर 
    याद करेगा देश उनको उम्र भर .
    ​सीख उनकी देगी शिक्षा उम्र भर 
    चमकना है सूरज की तरह अगर 
    ​जलना होगा आग में उसकी तरह 
    लगातार बिना रुके कर्म यूँ  कर .
    ​श्रधांजलि और नमन सिर झुकाकर 
    आँखें भर आईं  ‘कलाम’ को याद कर .
    ​राशि सिंह 
    मुरादाबाद उत्तर प्रदेश
Related Posts  पीठ पीछे बुराई कोट्स हिंदी में - Peeth piche burai quotes in Hindi

.

Related Posts  ( संघर्ष पर विचार ) Struggle Status Shayari Quotes in Hindi

.

Previous लाल बहादुर शास्त्री पर कविता – Poem On Lal Bahadur Shastri in Hindi
Next दैनिक जीवन के लिए विचार – Daily Life Quotes in Hindi Status MSG Lines Shayari Thoughts :

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.