Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content

2 Poem On Veerta in Hindi Language वीरता पर हिन्दी कविता top bravery sahas kavita :

Poem On Veerta in Hindi वीरता पर हिन्दी कविता
वीरता पर हिन्दी कविता - Poem On Veerta in Hindi Language

वीरता पर हिन्दी कविता – Poem On Veerta in Hindi Language

  • देश के वीरों तुझे सलाम
  • देश के वीरों तुझे सलाम
    अमर सपूतों तुझे सलाम
    तेरे बल पर देश टिका है
    तूने ही आजादी दिया है
    हर पल सक्रिय रहने वाले
    देश की शान बढा़ने वाले
    करते हम तेरा गुणगान
    देश के वीरों तुझे सलाम
    दुश्मन के वो छक्के छुडा़ते
    भारत माँ का मान बढ़ाते
    जान के भी जान गंवाते
    दुनिया अपनी छोड़ वो जाते
    उन वीरों का पढे़ कलाम
    देश के वीरों तुझे सलाम
    त्याग तपस्या बलिदान दे के
    भारत माँ की सेवा करके
    हर पल देश के प्रहरी बन के
    दिल में देश का जज्बा ले के
    करते अपने देश का ख्याल
    देश के वीरों तुझे सलाम
    देख के तेरे बल गौरव को
    शौर्य पराक्रम शूर वीर को
    देख के तेरे मातृभाव को
    अटल प्रबल और सत्यप्राण को
    करते हैं हम तुझे प्रणाम
    देश के वीरों तुझे सलाम
  • इस देश को रखना वीरों तुम संभाल के

  • वीर जवानों, मेरे देश के शानों
    सम्पूर्ण भारत ये कहता पुकार के
    इस देश को रखना वीरों तुम संभाल के
    वीर जवानों, मेरे देश के शानों
    है स्वतंत्र देश हमारा, वीरो के बलिदानो से
    है स्वतंत्र देश हमारा, नेता और विद्वानों से
    यह राष्ट्र भूमि अब कहती है ,सबसे पुकार के
    इस देश को रखना वीरों तुम संभाल के
    यह देश है सुभाष, सावरकर का
    यह देश है रानी लक्ष्मीबाई और रानी पद्मिनी का
    यह देश है सरदार पटेल और विवेकानंद का
    सब एक स्वर में कहते हैं उन वीरों से
    इस देश को रखना वीरों तुम संभाल के
    है भविष्य इस देश के हम, और हम ही हैं आधार इसके
    है नौसेना देश के हम, और हम ही हैं स्तंभ इसके
    अब सुन लो सारे भारतवासी ,तुम सब विचार के
    इस देश को रखना है, अब हम सबको सम्भाल के
    दुश्मनों और गद्दारों पर अब हम करेंगे रहम नहीं
    इस मातृभूमि  के रक्षा में, हम करेंगे कोई खिलवाड़ नहीं
    हर पल रहेंगे तैयार यहां हम, देश के रक्षक   बन के
    इस देश को रखना वीरों तुम संभाल के
    – कंचन पाण्डेय

.

Previous मकर संक्रांति पर निबन्ध – Essay On Makar Sankranti in Hindi Language :
Next Meri Pyari Maa Poem in Hindi – मेरी प्यारी माँ कविता Maa Ke Liye Kavita :

One comment

  1. Shanish

    Nice article

  2. b n dwivedi

    so nice line

  3. HindIndia

    बहुत ही अच्छा आर्टिकल है। Very nice …. Thanks for this!! 🙂 🙂

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.