Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

6 प्रेरक लघुकथा || Prerak Laghu Katha in Hindi Short Prerak Prasang in Hindi :

Tags : laghu katha hindi laghu katha hindi laghu katha laghu kathayen hindi laghukatha short stories hindi short stories hindi short hindi stories with moral values short moral stories hindi laghu katha hindi story very short story hindi moral stories hindi for class 9 moral stories hindi for class 8 marathi laghukatha short stories very short hindi moral stories hindi laghu kathayen hindi story for class 1 with moral laghu katha hindi me nepali laghu katha laghu katha hindi short motivational story hindi moral stories hindi laghu kathayen a short story hindi laghu kahani laghu katha nepali prerak prasang prerak laghu katha hindi hindi stories with moral values hindi ki laghu kathayen short stories hindi with moral hindi language marathi bodh katha small moral stories hindi laghu kahaniya hindi me laghu kahani hindi small story hindi laghu katha marathi hasya laghu katha hindi prerak prasang hindi hindi short stories with pictures short motivational story hindi language short stories hindi language short inspirational stories hindi hindi laghu kahani gujarati laghukatha panchatantra stories hindi pdf marathi laghukatha any short story hindi natak hindi with moral hindi font story story on honesty hindi best short stories hindi short story hindi for class 7 hindi story a small story hindi dharmik katha hindi bodh katha moral stories marathi dharmik kahaniya panchtantra ki kahani hindi pdf short story hindi for class 2 small story hindi language with moral guru ji satsang hindi short moral stories hindi for class 5 bodh katha hindi hindi short story books short drama hindi lok katha hindi hindi short story with moral for hindi students a small story hindi with moral interesting short stories hindi environment story hindi any small story hindi short story writing hindi dharmik story hindi short lok katha hindi very short stories hindi language educational story hindi hindi short stories for class 3 short stories hindi with moral for class 2 drama story hindi hindi katha hasya natak hindi script laghu kathayen hindi desh bhakti short story hindi hindi short stories with moral written hindi short stories for class 6 dharmik story short play hindi short moral stories hindi for class 1 some short stories hindi lok katha hindi for class 10 shiksha prad kahaniya hindi me a very short story hindi hindi short short story hindi for class 4 satya katha hindi pdf free download desh bhakti story hindi kahani hindi short short moral stories hindi for class 2 short stories for students hindi with moral short story on environment hindi satya katha hindi pdf hindi short stories online bhakti katha hindi bhakti short stories short natak hindi adhyatmik katha hindi guru bhakti stories hindi one short story hindi motivational short stories with moral hindi laghu natika hindi katha lekhan hindi laghukatha adhyatmik story hindi dharmik kahaniya hindi guru gyan hindi adhyatmik katha shiksha prad kahaniya hindi free download hindi short stories with author name famous lok katha hindi short educational stories hindi famous hindi short stories a small story with moral hindi best hindi short story with moral laghu natika hindi script any short moral story hindi short stories hindi for class 5 mini story hindi natak story hindi small stories hindi language hindi short novel short lok katha hindi language hindi short stories hindi hindi short moral stories for class 6 small short stories hindi pollution story hindi pauranik katha hindi pdf sort story hindi naitik shiksha stories hindi pdf laghu katha sanskrit language satya katha hindi story fiction story hindi short novel hindi hindi short story book review hindi short stories with moral for class 6 short story hindi language with moral short stories hindi for class 8 patriotic story hindi short hindi stories with moral for class 2 krishna katha hindi pdf a short story hindi language hindi short kahani hindi laghu katha with moral marathi laghu katha very very short story hindi best short stories hindi with moral satya katha story hindi short story on patriotism hindi 5 short stories hindi short stories based on idioms hindi small moral stories hindi for class 5 fantasy story hindi lok katha hindi with moral short moral stories hindi pdf story short hindi inspirational short stories hindi language good short stories hindi hindi short story for class 9 laghu natika hindi on desh bhakti bhakti story hindi short stories hindi with author online short stories hindi laghu katha sanskrit deshbhakti natak story shot story hindi hasya story hindi story related to environment hindi hindi short stories for class 3 with moral short story hindi for class 9 short story on education hindi new short story hindi hindi short stories with moral for class 5 short hindi stories with moral values pdf dharmik story hindi short kahani story containing idioms hindi hindi laghu natika script download short stories hindi for adults some stories hindi rochak story hindi dharmik story hindi language a hindi short story small stories with moral hindi language real short story hindi satya katha hindi me rainbow story hindi hindi laghu natika short hindi passages bodh katha moral stories gujarati sanskrit laghu katha laghu katha hindi with moral hindi hasya natak ki moral short stories hindi language moral small stories hindi short story on paryavaran hindi hindi short stories for adults rochak kahaniya hindi bodh katha hindi pdf self composed story hindi short interesting stories hindi free hindi short stories short paragraph hindi hindi rochak story short and interesting stories hindi hindi stories on environment hindi very small stories krishna bal katha hindi play story hindi kahani hindi short short stories hindi font images of short stories hindi paryavaran story hindi short stories with moral hindi desh bhakti story best short hindi stories with moral hindi short stories for grade 5 hindi katha lekhan hindi bhakti story short fiction stories hindi katha sangraha goshti hindi short poem on imandari hindi laghukatha hindi hindi laghu natak self made story hindi summary of a hindi short story bodh katha hindi me hindi short stories read online antervasra short stories for teenagers hindi hindi story on paryavaran

Prerak Laghu Katha in Hindi Short Prerak Prasang in Hindi – लघुकथा संग्रह 
Prerak Laghu Katha in Hindi || प्रेरक लघुकथा || Short Prerak Prasang in Hindi

Prerak Laghu Katha in Hindi – लघुकथा

  • शीर्षक —–‘अतीत से निरपेक्ष ‘

    ”मम्मी !”
    ”हाँ बेटा !”
    ”अरे मैने पूरा घर छान मारा और आप यहाँ बैठी हो !”
    ”हाँ बेटा ,अकेली थी इसलिये यहाँ आकर बैठ गयी !”
    ”आज कोई नई बात थोडे ही है –आप तो पता नहीं रोज अकेली इस समुद्र के किनारे आकर न जाने क्या सोचती रहती हैं ?”
    ”कौन कहता है कि मैं सोचती हूँ —?अरे बेटा मैं तो यहाँ आकर तन्हा नहीं बल्कि खुद से मुलाकात करती हूँ –बतियाती हूँ खुद से –!”
    ”अरे मम्मी आप भी न –!”
    ”खैर छोड तेरी समझ में नहीं आयेगा !”
    ”मम्मी –!”
    ”हाँ !”
    ”आज पापा का फ़ोन आया था !”
    अचानक बेटे बासु के मुँह से उसके पापा का नाम सुनकर शालिनी के हिलते हुए पानी में पडे पैर रुक गये ।समुद्र जैसे ठहर सा गया ।वह आश्चर्य से और प्रश्नवाचक नजरों से बासु की ओर देखने लगी।
    ”माँ पापा कह रहे थे कि वह बहुत शर्मिंदा हैं –वह आपसे माँफी माँगने को तैयार हैं !’
    ”लेकिन बेटा —?”
    ”मम्मी मैं जानता हूँ आप पापा से बहुत नाराज हो मगर –!”
    ”मगर क्या बेटा ?”
    ”उनसे गलती हुई थी जो वो आपको छोडकर इधर-उधर–!”
    ”चुप हो जा बासू मैं जानती हूँ कि तू अब बडा हो गया है।तेरा कोलेज भी इस बार पूरा हो जायेगा। मगर तू यह नहीं जानता कि मैने क्या -क्या सहा था ? कैसे तुम दोनो भाईयों को पढाया -लिखाया? क्या तुम चाहते हो कि तुम्हारी माँ फिर उसी घिनावने और डरावने अतीत में वापस चली जाये? –क्या उनके माँफी माँगने से गुजरा वक्त वापस आ जायेगा –?नहीं न! बासु मैं अपने अतीत के निरपेक्ष हो चुकी हूँ भुला चुकी हूँ उस सब को एक डरावना स्वप्न समझकर तुम दोनो को ही मैने अपनी दुनिया मान लिया है प्लीज बेटा —-!” कहकर शालिनी बेटे से लिपटकर रोने लगी
    ”सौरी मम्मी मैने आपका दिल दुखाया मगर अब वायदा करता हूँ कभी भी आपको फोर्स नहीं करूँगा !” कहकर बासु अपनी माँ के बालों में हाथ फेरने लगा ।
    – लेखिका— राशि सिंह
    मुरादाबाद उत्तर प्रदेश
    अप्रकाशित एवं मौलिक लघुकथा

  • शीर्षक —–‘धिक्कार ‘

    ”बाबू जी कुछ  रुपये दे दो ।मेरा पोता  बहुत बीमार है। अस्पताल जाना है ।एक भी पैसा नहीं है मेरे पास ।

    एक बुजुर्ग रिक्शे बाले व्यक्ति ने पार्किंग में खडी कार को स्टार्ट करते हुए सुरेश से गिड़गिडाते हुए कहा ।
    ”अरे जाओ यहाँ से चले आते हैं पता नहीं कहाँ -कहाँ से !”सुरेश ने उस वुजुर्ग को धकियाते हुए कहा और गाडी स्टार्ट कर आगे बढ गया ।जैसे ही गाडी आगे बढी उसके नीचे भाग कर अचानक सुरेश का सात बर्षीय पुत्र रोहित आ गया ।सुरेश ने एकदम ब्रेक लगाये लेकिन रोहित एक तरफ़ गिरकर अचेत हो गया ।
    ”अरे यह क्या किया बाबूजी ?” कहते हुए उस वुजुर्ग व्यक्ति ने रोहित को सँभाला ।सुरेश बेटे की हालत देखकर बेहोश हो गया। सुरेश की पत्नि बाहर आकर दहाड़ मारकर रोने लगी ।वुजुर्ग ने आव देखा न ताव बच्चे को गोदी में उठाया और सड़क पार बने हुए अस्पताल की ओर भाग गया। डाक्टर ने एकदम रोहित को एडमिट कर लिया। पीछे -पीछे सुरेश और सुनन्दा भी पहुँच गये ।
    ”अच्छा हुआ समय पर एडमिट करा दिया अब बच्चा ठीक है !” डाक्टर ने बाहर आकर कहा तो सुरेश और सुनन्दा की जान में जान आई ।
    सुरेश अस्पताल में चारों ओर उस व्रद्ध व्यक्ति को देख रहा था जिसने आज उसके घर के चिराग को बुझने से बचा लिया परंतु कहीं दिखाई नहीं दिया। खुद को बहुत गरीब और कमजोर सा महसूस कर रहा था सुरेश ।
    ”धिक्कार है मुझपर मै उसकी सहायता भी चन्द कागज के टुकडो से न कर सका और उसने तो मेरी दुनियाँ ही बचा दी ।

    लेखिका —राशि सिंह 

  • शीर्षक — ‘कल्पना लोक ‘

    ”कल्पना –अरे कहाँ हो भई ?” लोक ने घर में घुसते ही अपनी पत्नि कल्पना को आवाज दी ।
    ”मै यहाँ हूँ बाथरूम  में नहा रही हूँ !”
    ”अरे यार संडे को तो तुम्हारा पूरा टाईम टेबल ही गड़बडा जाता है ।ग्यारह बज गये अब जल्दी करो भी न ।बाजार भी  जाना है  ।और सूरज कहाँ है ?”
    ”अभी आती हूँ !”
    ”सूरज को मैने उसके मित्र के घर भेज दिया है ।अरे भई एक ही तो दिन मिलता है मुझे आपके साथ घूमने फिरने के लिये उसमें भी सूरज को —न बाबा न !” कल्पना ने तौलिया से अपने गीले बाल सुखाते हुए कहा ।
    ”कल्पना तुमको हो क्या गया है पूरे हफ़्ते तो वह आया की कस्टडी में रहता है और आज तुमने —!”
    ”पापा कोई बात नहीं आज मुझे कोई नया गैजेट लाकर दे देना मैं समय बिता लूँगा उसके साथ !” कौने में खडे दस साल के बेटे की बात सुनकर कल्पना और लोक की बोलती बंद हो गयी ।
    ”बेटा इधर आओ ।”कल्पना ने सूरज को अपने पास आने को कहा लेकिन सूरज बिना कोई उत्तर दिये अपने कमरे में चला गया ।अब वह वहाँ बैठकर पता नहीं कौनसे कल्पना लोक में विचरण करेगा इस बात से अन्जान कल्पना और लोक बाजार चले गये इंजोय करने ,छूट्टी मनाने ।

    लेखिका —राशि सिंह 

  • शीर्षक —-‘टूटा तारा ‘

    ”क्या हुआ तनिष्क?” आँख बंद किये छत पर अकेले खडे अपने पाँच साल के बेटे से ऋतु ने आश्चर्यचकित होते हुए पूँछा ।
    ”कुछ नहीं मम्मी ,इंतजार कर रहा हूँ
    ”किसका ?”
    ”तारा टूटने का !”
    ”क्यों ?”
    ”दादी बीमार हैं न ! उनके लिये ।दादी ने मुझे बताया कि अगर तारा टूटे तो जो भी विश माँगोगे पूरी हो जाती है । मासूम तनिष्क ने मासूमियत से कहा सुनकर ऋतु का ह्र्दय आत्मग्लानि से भर गया ।
    ”एक यह है जो दादी की सलामती के लिये प्रार्थना कर रहा है और एक मैं हूँ जो भगवान से रोज उनके मरने की प्रार्थना करती हूँ ताकि उनकी सेवा नहीं करनी पडे !”ऋतु हाथ जोड़कर तनिष्क के पास ही घुटनो के बल बैठ गयी सासू माँ के स्वास्थ्य की सलामती के लिये ।

    लेखिका —-राशि सिंह

  • शीर्षक —–‘मैली सी माँ ‘

    ”अरे बेटा सुरेन्द्रररर–!”कमरे के भीतर से किसी बुजुर्ग महिला की कपकपाती सी आवाज आई ।
    ”जाओ सुनकर आओ अपनी माता श्री की।” सुगन्धा ने नाश्ता करते हुए पति से मुँहे बनाते हुए  कहा ।
    ”हाँ हाँ जा रहा हूँ –जा रहा हूँ तुम भी कभी पूँछ लिया करो उनका हाल -चाल !”
    ”मैं ,न बाबा न मैं तो उस कमरे की तरफ़ मुँह भी नहीं करती इतनी बदबू आती है छी–।”
    ”कुछ खाने को दिया या नहीं उनको ?”
    ”अभी मेड नहीं आई है। आयेगी तब भिजवा दूँगी ।”
    ”मेरा रुमाल दो यार ।”
    ”अभी देती हूँ ।”
    ”लाओ जल्दी ।”सुरेन्द्र ने रुमाल को नाक से बाँधा और भीतर चला गया ।
    ”हाँ बोलो ।”
    ”बेटा इस कमरे की लाइट खराब हो गयी है। रात बहुत ठंड लगी ।हीटर भी न चला ।’कमाँ ने रजाई में से मुँह निकाल कर कपकपाते हुए कहा ।
    ”ठीक है ठीक है आज करबा दूँगा और ज्यादा शोर मत मचाया करो ।सब हो जायेगा ।मेड आती ही होगी ।”
    ”बेटा थोडी देर बैठ तो सही ।”
    ”अरे नहीं माँ औफिस के लिये लेट हो रहा हूँ ।यहाँ कहाँ बैठ जाऊँ इतनी तो बदबू आ रही है ?” रुमाल से मुँह ढककर सुरेन्द्र ने कहा और बाहर निकल गया माँ की आँखों में लाचारी के आँसू आ गये बे खुद को सूँघने लगी ”क्या सच में ही मैं मैली हो गयी हूँ ?अभी तो हाथों में सुरेन्द्र के मल-मूत्र की गंध आती है मुझे और वो कह गया की मुझमें दुर्गन्ध?”

    लेखिका —-राशि सिंह 

  • शीर्षक —–‘रक्त -रंजित ‘

    ”आह ! छुओ मत मुझे!” स्नेहा ने आलिंगन में कैद करते पति नितिन को रोकते हुए कहा ।
    ”क्यों क्या हुआ ?”
    ”बहुत पीडा हो रही है ।”
    ”कहाँ ?”
    ”ह्र्दय में ।”
    ”यार मजाक मत करो, मैंने तो तुम्हारे एक थप्पड भी नहीं मारा ।
    ”थप्पड मार देते तो शायद इतना दर्द न होता । मेरी आत्मा इतना नहीं कराहती ,जितना तुम्हारी बातों के तीर ने इसको छलनी करके रख दिया ।
    ”छोडो भी —!”
    ”अरे मैं अपना घर अपने माँ -बाप सबको छोडकर आई हूँ और आपने पहली ही रात को ”अँगूठी छोटी है ,चैन छोटी है ” कहकर मुझे सुनाना शुरू कर दिया बारात की खातिरदारी अच्छी नहीं हुई !”
    ”ऐसे तो लड़के बाले कहते ही हैं !” बेशर्मी से कहता हुआ नितिन बाहर निकल गया ।कमरे में स्नेहा अवाक सी रह गयी पति की ऐसी बात सुनकर ।प्रतीक की बातों से लग रहा था , मानो लड़की बालों को ताना देना लड़के बालों का जन्म सिद्ध अधिकार हो ।

    लेखिका —–राशि सिंह

  • Yah Hindi laghu katha aapko kaisi lagi hmein jarur btayein aur agar aapne bhi koi laghu katha likhi hai, to hmein jarur bhejein.

.

About Abhi @ SuvicharHindi.Com ( SEO, Tips, Thoughts, Shayari )

Hi, Friends मैं Abhi, SuvicharHindi.Com का Founder और Owner हूँ. हमारा उद्देश्य है Visitors के लिए विभन्न प्रकार की जानकारियाँ उपलब्ध करवाना. अगर आप भी लिखने का शौक रखते हैं, तो 25suvicharhindi@gmail.com पर अपनी मौलिक रचनाएँ जरुर भेजें.

One comment

  1. satendra singh

    bahut hi sundar aur prerak kahaniya h aapke blog par

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!