राम प्रसाद बिस्मिल की 4 कविता – Ram Prasad Bismil Poems in Hindi Shayari :

राम प्रसाद बिस्मिल की कविता – Ram Prasad Bismil Poems in Hindi
राम प्रसाद बिस्मिल की कविता - Ram Prasad Bismil Poems in Hindi Shayari

राम प्रसाद बिस्मिल की 4 कविता Hindi में – Ram Prasad Bismil Poems in Hindi Shayari, Ram prasad bismil की poems आज भी नवयुवकों को राह दिखाने में सक्षम हैं. सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है || हे मातृभूमि || न चाहूँ मान || ऐ मातृभूमि तेरी जय हो

  • सरफ़रोशी की तमन्ना
    सरफ़रोशी की तमन्ना  अब हमारे दिल में है
    देखना है ज़ोर कितना बाज़ु-ए-कातिल में है
    करता नहीं क्यूँ दूसरा कुछ बातचीत,
    देखता हूँ मैं जिसे वो चुप तेरी महफ़िल में है
    ए शहीद-ए-मुल्क-ओ-मिल्लत मैं तेरे ऊपर निसार,
    अब तेरी हिम्मत का चरचा गैर की महफ़िल में है
    सरफ़रोशी की तमन्ना  अब हमारे दिल में है
    वक्त आने दे बता देंगे तुझे ऐ आसमान,
    हम अभी से क्या बतायें क्या हमारे दिल में है
    खैंच कर लायी है सब को कत्ल होने की उम्मीद,
    आशिकों का आज जमघट कूच-ए-कातिल में है
    सरफ़रोशी की तमन्ना  अब हमारे दिल में है
    है लिये हथियार दुशमन ताक में बैठा उधर,
    और हम तैयार हैं सीना लिये अपना इधर
    खून से खेलेंगे होली गर वतन मुश्किल में है,
    सरफ़रोशी की तमन्ना  अब हमारे दिल में है
    हाथ जिन में हो जुनूँ कटते नहीं  तलवार से,
    सर जो उठ जाते हैं वो झुकते नहीं ललकार से
    और भड़केगा जो शोला-सा हमारे दिल में है,
    सरफ़रोशी की तमन्ना  अब हमारे दिल में है
    हम तो घर से निकले ही थे बाँधकर सर पे कफ़न,
    जान हथेली पर लिये लो बढ़ चले हैं ये कदम
    जिन्दगी तो अपनी मेहमान मौत की महफ़िल में है,
    सरफ़रोशी की तमन्ना  अब हमारे दिल में है
    यूँ खड़ा मक़तल में क़ातिल कह रहा है बार-बार,
    क्या तमन्ना -ए-शहादत भी किसी के दिल में है
    दिल में तूफ़ानों की टोली और नसों में इन्कलाब,
    होश दुश्मन के उड़ा देंगे हमें रोको ना आज
    दूर रह पाये जो हमसे दम कहाँ मंज़िल में है,
    वो जिस्म भी क्या जिस्म है जिसमें ना हो खून-ए-जुनून
    तूफ़ानों से क्या लड़े जो कश्ती-ए-साहिल में है,
    सरफ़रोशी की तमन्ना  अब हमारे दिल में है
    – राम प्रसाद बिस्मिल
  • हे मातृभूमि
    हे मातृभूमि ! तेरे चरणों में शिर नवाऊँ ।
    मैं भक्ति भेंट अपनी, तेरी शरण में लाऊँ ।।
    माथे पे तू हो चंदन, छाती पे तू हो माला ;
    जिह्वा पे गीत तू हो मेरा, तेरा ही नाम गाऊँ ।।
    जिससे सपूत उपजें, श्री राम-कृष्ण जैसे;
    उस धूल को मैं तेरी निज शीश पे चढ़ाऊँ ।।
    माई समुद्र जिसकी पद रज को नित्य धोकर;
    करता प्रणाम तुझको, मैं वे चरण दबाऊँ ।।
    सेवा में तेरी माता ! मैं भेदभाव तजकर;
    वह पुण्य नाम तेरा, प्रतिदिन सुनूँ सुनाऊँ ।।
    तेरे ही काम आऊँ, तेरा ही मंत्र गाऊँ।
    मन और देह तुझ पर बलिदान मैं जाऊँ ।।
    – राम प्रसाद बिस्मिल
  • न चाहूँ मान
    न चाहूँ मान दुनिया में, न चाहूँ स्वर्ग को जाना
    मुझे वर दे यही माता रहूँ भारत पे दीवाना
    करुँ मैं कौम की सेवा पडे़ चाहे करोड़ों दुख
    अगर फ़िर जन्म लूँ आकर तो भारत में ही हो आना
    लगा रहे प्रेम हिन्दी में, पढूँ हिन्दी लिखुँ हिन्दी
    चलन हिन्दी चलूँ, हिन्दी पहरना, ओढना खाना
    भवन में रोशनी मेरे रहे हिन्दी चिरागों की
    स्वदेशी ही रहे बाजा, बजाना, राग का गाना
    लगें इस देश के ही अर्थ मेरे धर्म, विद्या, धन
    करुँ मैं प्राण तक अर्पण यही प्रण सत्य है ठाना
    नहीं कुछ गैर-मुमकिन है जो चाहो दिल से “बिस्मिल” तुम
    उठा लो देश हाथों पर न समझो अपना बेगाना
    – राम प्रसाद बिस्मिल
  • ऐ मातृभूमि तेरी जय हो
    ऐ मातृभूमि तेरी जय हो, सदा विजय हो ।
    प्रत्येक भक्त तेरा, सुख-शांति-कान्तिमय हो ।।
    अज्ञान की निशा में, दुख से भरी दिशा में,
    संसार के हृदय में तेरी प्रभा उदय हो ।
    तेरा प्रकोप सारे जग का महाप्रलय हो ।।
    तेरी प्रसन्नता ही आनन्द का विषय हो ।।
    वह भक्ति दे कि ‘बिस्मिल’ सुख में तुझे न भूले,
    वह शक्ति दे कि दुःख में कायर न यह हृदय हो ।।
    – राम प्रसाद बिस्मिल

.

One comment

  1. Anonymous

    नहीं कुछ खास बाकी है इस महफिल का तराना
    बस इतनी सी हसरत है कि जब तक है ये निगाहें खुली
    नजर हो तेरा ही नजराना….

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.